Connect with us

INDIA

सावरकर के पोते रंजीत बोले-‘मुझे नहीं लगता महात्मा गांधी भारत के राष्ट्रपिता हैं’

Published

on

विनायक दामोदर सावरकर के पोते रंजीत सावरकर का कहना है कि भारत जैसे देश में कोई एक व्यक्ति राष्ट्रपिता नहीं हो सकता है. उन्होंने कहा, ‘भारत जैसे देश में हजारों ऐसे महापुरुषों को भुला दिया गया जिन्होंने इस देश को बनाने में मदद की. इस देश का इतिहास 5 हजार साल पुराना है. मेरे हिसाब से गांधी राष्ट्रपिता नहीं हैं. ये देश सिर्फ चालीस-पचास साल पुराना नहीं है. यहां तक कि मैं राष्ट्रपिता के विचार में ही भरोसा नहीं रखता.’

सावरकर के पोते रंजीत सावरकर (फाइल फोटो)

सावरकर के पोते रंजीत सावरकर (फाइल फोटो)

दरअसल वीर सावरकर को लेकर नई बहस एक किताब के बाद शुरू हुई है. इससे पहले मंगलवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा था कि आज देश में वीर सावरकर के बारे में सही जानकारी का अभाव है. उन्होंने कहा कि देश को सावरकर के विचारों की जरूरत है. भागवत ने कहा कि देश में सावरकर को बदनाम करने की मुहिम चली थी. उन्होंने कहा कि सावरकर जोड़ने का प्रयास हैं.

भागवत ने कहा कि भारतीय परंपरा में धर्म का मतलब जोड़ने वाला है इसे पूजा से नहीं जोड़ सकते हैं. आज की भाषा में मानवता है. वे हिंदुत्व शब्द का प्रयोग करते थे लेकिन इसे ऐसा नहीं समझा जाता था.

क्या बोले संघ प्रमुख मोहन भागवत

भागवत ने आगे कहा कि सर सैयद अहमद खां का हिंदू महासभा द्वारा स्वागत किया गया और जब कहा गया कि वो पहले मुस्लिम बैरिस्टर थे तो उन्होंने अपने भाषण में कहा कि क्या मैं अलग हूं? बिस्मिल ने कहा था कि अगर मेरा पुनर्जन्म हो तो भारत में ही हो. भारत से गए मुसलमान की प्रतिष्ठा पाकिस्तान में भी नहीं है. भारत में सभी के पूर्वज एक ही हैं. आरएसएस प्रमुख ने कहा कि अंग्रेजों का मानना था कि अपनी लूट को जारी रखने के लिए इन्हें तोड़ना होगा. जब यह कोलाहल होने लगा कि हम एक नहीं बल्कि दो हैं तो कहना पड़ा कि पूजा के नाम पर विभेद नहीं करना चाहिए और इसलिए उन्होंने कठोर बात कही.

Source : News18

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

krishna-motors-muzaffarpur

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

INDIA

मुस्लिम में निकाह एक कॉन्ट्रैक्ट है, हिंदू विवाह के तरह संस्कार नहीं- कर्नाटक हाईकोर्ट

Published

on

बेंगलुरु. कर्नाटक उच्च न्यायालय  ने कहा है कि मुस्लिम निकाह एक अनुबंध या कॉन्ट्रैक्ट है, जिसके कई अर्थ हैं, यह हिंदू विवाह की तरह कोई संस्कार नहीं और इसके टूट जाने से बने कुछ अधिकारों एवं दायित्वों से पीछे नहीं हटा जा सकता. यह मामला बेंगलुरु के भुवनेश्वरी नगर में 52 साल के एजाजुर रहमान की एक याचिका से संबंधित है, जिसमें 12 अगस्त, 2011 को बेंगलुरु में एक पारिवारिक अदालत के प्रथम अतिरिक्त प्रिंसिपल न्यायाधीश का आदेश रद्द करने का अनुरोध किया गया था.

रहमान ने अपनी पत्नी सायरा बानो को पांच हजार रुपये के ‘मेहर’ के साथ विवाह करने के कुछ महीने बाद ही ‘तलाक’ शब्द कहकर 25 नवंबर, 1991 को तलाक दे दिया था. इस तलाक के बाद रहमान ने दूसरी शादी की, जिससे वह एक बच्चे का पिता बन गया. बानो ने इसके बाद गुजारा भत्ता लेने के लिए 24 अगस्त, 2002 में एक दीवानी मुकदमा दाखिल किया था. पारिवारिक अदालत ने आदेश दिया था कि वादी वाद की तारीख से अपनी मृत्यु तक या अपना पुनर्विवाह होने तक या प्रतिवादी की मृत्यु तक 3,000 रुपये की दर से मासिक गुजारा भत्ते की हकदार है.

अदालत ने आदेश में कही थी ये बात

न्यायमूर्ति कृष्णा एस दीक्षित ने 25,000 रुपये के जुर्माने के साथ याचिका खारिज करते हुए सात अक्टूबर को अपने आदेश में कहा, ‘‘निकाह एक अनुबंध है जिसके कई अर्थ हैं, यह हिंदू विवाह की तरह एक संस्कार नहीं है. यह बात सत्य है.’’ न्यायमूर्ति दीक्षित ने विस्तार से कहा कि मुस्लिम निकाह कोई संस्कार नहीं है और यह इसके समाप्त होने के बाद पैदा हुए कुछ दायित्वों एवं अधिकारों से भाग नहीं सकता.

पीठ ने कहा, ‘‘तलाक के जरिए विवाह बंधन टूट जाने के बाद भी दरअसल पक्षकारों के सभी दायित्वों एवं कर्तव्य पूरी तरह समाप्त नहीं होते हैं.’’ उसने कहा कि मुसलमानों में एक अनुबंध के साथ निकाह होता है और यह अंतत: वह स्थिति प्राप्त कर लेता है, जो आमतौर पर अन्य समुदायों में होती है.

अदालत ने कहा, ‘‘यही स्थिति कुछ न्यायोचित दायित्वों को जन्म देती है. वे अनुबंध से पैदा हुए दायित्व हैं.’’

अदालत ने कुरान की आयतों का दिया हवाला

अदालत ने कहा कि कानून के तहत नए दायित्व भी उत्पन्न हो सकते हैं. उनमें से एक दायित्व व्यक्ति का अपनी पूर्व पत्नी को गुजारा भत्ता देने का परिस्थितिजन्य कर्तव्य है जो तलाक के कारण अपना भरण-पोषण करने में अक्षम हो गई है.

न्यायमूर्ति दीक्षित ने कुरान में सूरह अल बकराह की आयतों का हवाला देते हुए कहा कि अपनी बेसहारा पूर्व पत्नी को गुजारा-भत्ता देना एक सच्चे मुसलमान का नैतिक और धार्मिक कर्तव्य है.

अदालत ने कहा कि एक मुस्लिम पूर्व पत्नी को कुछ शर्तें पूरी करने की स्थिति में गुजारा भत्ता लेने का अधिकार है और यह निर्विवाद है.

न्यायमूर्ति दीक्षित ने कहा कि ‘मेहर’ अपर्याप्त रूप से तय किया गया है और वधू पक्ष के पास सौदेबाजी की समान शक्ति नहीं होती.

Source : News18

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

krishna-motors-muzaffarpur

Continue Reading

INDIA

आर्यन खान को कोर्ट से झटका, तीनों आरोपियों की जमानत याचिका खारिज

Published

on

मुंबई की एनडीपीएस अदालत ने क्रूज ड्रग्स केस में अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान  की जमानत याचिका खारिज कर दी है. अदालत ने आर्यन खान के साथ ही अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा की जमानत याचिका को भी खारिज कर दिया है. एनसीबी ने आर्यन खान, मर्चेंट और धमेचा को मादक पदार्थ रखने, इससे संबंधित साजिश, इसके सेवन, खरीद और तस्करी करने के आरोप में तीन अक्टूबर को गिरफ्तार किया था. तीनों इस समय न्यायिक हिरासत में हैं. आर्यन और मर्चेंट मुंबई में ऑर्थर रोड जेल में बंद हैं तथा धमेचा यहां बायकुला महिला कारागार में बंद है. मामले में आरोपी आर्यन खान और अन्य के खिलाफ एनडीपीएस कानून की धाराओं-8(सी), 20(बी), 27, 28, 29 और 35 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

बता दें 14 अक्टूबर को आर्यन खान को क्वारंटीन खत्म होने के बाद स्थानीय आर्थर रोड जेल की सामान्य बैरक में शिफ्ट कर दिया गया था. एनसीबी की प्रारंभिक हिरासत समाप्त होने के बाद मजिस्ट्रेट ने उन्हें जमानत देने से इनकार करते हुए न्यायिक हिरासत में मध्य मुंबई के आर्थर रोड जेल भेज दिया था. जहां उन्हें सात दिन तक क्वांरटीन रखा गया.

क्रूज़ पर एक रेव पार्टी निर्धारित किये जाने की गुप्त सूचना के आधार पर एनसीबी की एक टीम ने दो अक्टूबर की शाम को गोवा जाने वाले कॉर्डेलिया क्रूज पर छापा मारा और कथित तौर पर ड्रग्स जब्त की. इस छापे के दौरान आर्यन खान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा सहित कई लोगों को गिरफ्तार किया गया था.

बता दें जेल में रहते हुए आर्यन खान ने अपने पिता शाहरुख खान और मां गौरी खान से वीडियो कॉल पर बात भी की थी. इसके साथ ही आर्यन को उनके पिता की ओर से 4500 रुपये का एक मनी ऑर्डर भी मिला था जिससे वह जेल की कैंटीन से सामान खरीद सकते हैं.

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

krishna-motors-muzaffarpur

Continue Reading

INDIA

बारिश का कहर, 48 घंटे में 23 लोगों की मौत, कुमाऊं में टूटा 124 साल का रिकॉर्ड

Published

on

उत्तराखंड में पिछले करीब तीन दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश का दौर खत्म होने वाला है. राज्य के मौसम विज्ञान केंद्र ने मौसम का अनुमान बताते हुए कहा ​है कि बुधवार से लगभग सभी जगह मौसम साफ हो जाएगा. इससे पहले मंगलवार को राज्य के कई क्षेत्रों में भारी बारिश का अलर्ट बताने वाले मौसम केंद्र ने आज कहा कि मंगलवार शाम के बाद मौसम बदलेगा और बारिश का दौर रुक जाएगा. मौसम केंद्र के मुताबिक इस बारिश ने कुमाऊं अंचल में सवा सौ साल का रिकॉर्ड ​तोड़ दिया. पिछले 48 घंटे में बाशि के चलते 23 लोगों की मौत हो गई है. अकेले कुमाऊं में ही 17 लोगों की मौत की खबर है. वहीं नैनीताल में 13, अल्मोड़ा में 4, उधमसिंहनगर और अल्मोड़ा में 1-1 लोग लापता भी हैं. वहीं सोमवार को पौड़ी में 3, चंपावत में 2 और पिथौरागढ़ में 1 व्यक्ति की मौत हो गई थी.

uttarakhand news, uttarakhand rain, weather news, char dham yatra, उत्तराखंड ताजा समाचार, उत्तराखंड में बारिश, मौसम समाचार

मौसम केंद्र ने पिछले 24 घंटों का ब्योरा बताते हुए कहा कि कुमाऊं अंचल में पिछले 24 घंटों की बारिश ने 124 साल के रिकॉर्ड तोड़ दिए. इस दौरान कुमाऊं के कुछ इलाकों में 500 मिलीमीटर तक रिकॉर्ड बारिश दर्ज की गई. इधर, उत्तराखंड की इस बारिश के बारे में सीएम धामी ने कहा कि अब तक 16 मौतों की पुष्टि हुई है और राज्य में मकानों व पुलों समेत इन्फ्रास्ट्रक्चर का भारी नुकसान हुआ है.

समाचार एजेंसी एएनआई के ट्वीट के मुताबिक सीएम धामी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को उत्तराखंड की ताज़ा मौसम स्थितियों की जानकारी दी. धामी ने यह भी कहा कि राज्य में रेस्क्यू ऑपरेशनों के लिए तीन हेलीकॉप्टरों की भी तैनाती की गई है. दूसरी तरफ, एक बड़ी खबर देते हुए एएनआई ने यह भी बताया कि ऊधमसिंह नगर में स्थित नानक सागर डैम के सभी दरवाज़े खोलने पड़े क्योंकि भारी बारिश के कारण बहाव बेहद बढ़ गया.

Source : News18

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

krishna-motors-muzaffarpur

Continue Reading
BIHAR15 mins ago

छठ आते ही गूंजने लगते हैं शारदा सिन्हा के गीत, ‘बिहार कोकिला’ के गानों के बिना यह पर्व अधूरा

MUZAFFARPUR31 mins ago

गायघाट से चला वृद्ध रास्ते से गायब

BIHAR2 hours ago

तेजस्वी ने पोठिया मछली दिखाने पर JDU प्रवक्ता का तंज, सोशल मीडिया पर दिखाया अजगर

MUZAFFARPUR3 hours ago

बदलेगी शहर की सूरत : सिकंदरपुर मन के सौंदर्यीकरण को करार

WORLD15 hours ago

सूअर की किडनी को मानव शरीर से जोड़ा, करने लगी काम, वैज्ञानिकों का सबसे बड़ा चमत्कार

INDIA15 hours ago

मुस्लिम में निकाह एक कॉन्ट्रैक्ट है, हिंदू विवाह के तरह संस्कार नहीं- कर्नाटक हाईकोर्ट

BIHAR16 hours ago

मुकेश सहनी ने तेजस्वी को दी चुनौती, कहा- मछली पकड़ना है तो ब्रांडेड जूते उतार कर तालाब में उतरिये, फिर…

BIHAR19 hours ago

इतिहास : पीएम मोदी से लेकर आमिर खान तक, चिट्टी चोखा की फैन हैं बड़ी हस्तियां

BIHAR19 hours ago

दरभंगा एयरपोर्ट पर अगले दो-तीन महीने में मौसम खड़ी कर सकती मुश्किलें

BIHAR19 hours ago

नेपाल में लगातार बारिश से कोसी आक्रामक, 43 फाटक खोलने के बाद अलर्ट पर प्रशासन

BIHAR4 weeks ago

बिहार: पिता की थी छोटी सी खैनी की दुकान, ट्यूशन पढ़ा करते थे पढ़ाई, अब UPSC में पाई दूसरी बार सफलता

BIHAR3 weeks ago

घर तक आती थी ट्रेन और निजी प्लेन, दरभंगा महराज के राज- ठाठ की कहानी –

BIHAR3 weeks ago

खुशखबरी: पटना चिड़‍ियाघर में आज से नहीं लगेगा प्रवेश शुल्‍क

BIHAR3 weeks ago

नई सौगात भागलपुर, बक्‍सर, दरभंगा, हाजीपुर और सिवान को होगा फायदा – पांच नए हाइवे का होगा ऐलान

BIHAR3 weeks ago

जल्द बंद होगा बरौनी और कांटी थर्मल पावर स्टेशन, दोनो थर्मल पावर से बिहार को मिल रही है 330 मेगावाट बिजली

BIHAR4 weeks ago

बिहार में अब बिल्कुल अलग अंदाज में मिलेगा बिजली के बकाया बिल का रिमाइंडर

BIHAR4 weeks ago

बिहार के सभी घरों में नजर आएंगे स्मार्ट प्रीपेड मीटर

INDIA4 weeks ago

यू ही नहीं बिहार को कहा जाता आई.ए.एस फैक्ट्री कटिहार का शुभम बना UPSC टॉपर

BIHAR3 weeks ago

पारले जी बिस्कुट नहीं खाने से होगी अनहोनी, अफ़वाह के बाद बिस्कुट आउट ऑफ स्टॉक

BIHAR3 weeks ago

बिहार के 8 जिलों में कल से शुरू होगा बालू खनन, उचित कीमत पर मिलेगा बालू

Trending