Connect with us

INDIA

किसान के जनधन खाते में आए 15 लाख तो उसने लिखा PM मोदी को ‘धन्यवाद पत्र’, अब बैंक मांग रहा पैसा वापस

Published

on

केंद्र सरकार ने किसानों के लिए जब जन-धन खाते खुलवाने का आग्रह किया था तो सरकार का फोकस यही था कि किसानों को डायरेक्ट लाभ दिया जाए। इसके बाद यह क्रम आगे बढ़ गया। इसी बीच महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले से जान धन खाते का एक बेहद मजेदार मामला सामने आया है। यहां के रहने वाले एक किसान के जान धन खाते में गलती से पंद्रह लाख रुपये पहुंच गए, इसके बाद वह हुआ जिसकी कल्पना शायद बैंक के अधिकारियों को भी नहीं रही होगी।

clat

दरअसल, यह घटना महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले की है। इंडिया टुडे की एक ऑनलाइन रिपोर्ट के मुताबिक इस किसान का नाम ज्ञानेश्वर जनार्दन औटे है जो जिले के पैठण तालुका स्थित दावरवाड़ी का रहने वाला है। जानकारी के मुताबिक ज्ञानेश्वर का जनधन खाता पास में ही स्थित बैंक ऑफ बरोड़ा की एक शाखा में है। इस किसान के खाते में 17 अगस्त 2021 को अचानक 15 लाख रुपये आ गए।

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

जब किसान को इस बात की जानकारी हुई तो वह पहले तो चौंक गया इसके बाद फिर उसे लगा कि हो सकता है किसी स्कीम के तहत ऐसा हुआ होगा। किसान बहुत खुश हुआ और अपने खाते से सारे पैसे निकाल लिए। किसान को यह भी लगा कि प्रधानमंत्री मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में किए गए अपने वादे का पालन करते हुए किसान के जनधन खाते में पैसे डाले हैं। किसान ने उसमें से कुछ पैसे निकालकर अपना घर बनवा लिया।

nps-builders

इस बात की जानकारी आसपास के लोगों को लगी तो वे भी काफी हैरान रह गए। इस घटना के करीब पांच महीने बाद किसान के नाम बैंक की तरफ से एक नोटिस आया, जिसमें लिखा गया था कि यह रकम उसके खाते में गलती से डाल दी गई है। इसलिए उसे वह रकम अब लौटानी पड़ेगी। इतना पढ़ने के बाद किसान डर गया।

Advertisement

घटना के बाद वह दौड़कर बैंक गया और अधिकारियों को नोटिस वाली बात बताई। उसने बताया कि वह इतनी रकम कहां से लाएगा। उधर बैंक के अधिकारियों ने बताया कि गलती से यह पैसा किसान के खाते में चला गया था और अब उसे वापस करना पड़ेगा। फिलहाल किसान इस बात को लेकर काफी परेशान है।

chhotulal-royal-taste

Advertisement
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

INDIA

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर जयपुर में गिरफ्तार, कोविड सहायकों के धरने का समर्थन करने पहुंचे थे

Published

on

राजस्थान पहुंचे भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. चंद्रशेखर को राजस्थान की राजधानी जयपुर में गिरफ्तार कर पुलिस ने जेल भेज दिया है. रविवार को भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर की गिरफ्तारी पुलिस ने जयपुर शहर में लागू धारा 144 के उल्लंघन से जुड़े मामले में की है.

जानकारी के मुताबिक भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर जयपुर पहुंचे थे. चंद्रशेखर जयपुर में लंबे समय से चल रहे कोविड सहायकों के धरने का समर्थन करने पहुंचे थे. जयपुर में इस समय धारा 144 लागू है. बताया जाता है कि कोविड सहायकों के धरने का समर्थन करने पहुंचे चंद्रशेखर के खिलाफ धारा 144 के उल्लंघन का मामला दर्ज कर पुलिस ने गिरफ्तारी की कार्रवाई की.

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

बताया जा रहा है कि जयपुर पुलिस ने भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर को धारा 144 के उल्लंघन के मामले में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. गौरतलब है कि कोरोना काल में राजस्थान सरकार ने कोविड सहायकों की नियुक्ति की थी. कोविड सहायक विभिन्न मांगों को लेकर धरना दे रहे हैं.

nps-builders

गौरतलब है कि कोविड स्वास्थ्य सहायक लंबे समय से अपनी मांगों के समर्थन में धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं. भारतीय किसान श्रमिक जनशक्ति यूनियन समेत कई संगठन कोविड सहायकों के आंदोलन का समर्थन कर रहे हैं. बता दें कि जयपुर के शहीद स्मारक पर धरना दे रहे कोविड स्वास्थ्य सहायकों ने सरकार पर आरोप लगाया था कि सरकार उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दे रही है.

Advertisement

Genius-Classes

Continue Reading

BIHAR

चुपके से आई यूपी की पुलिस टीम, बिहार से ले गई तीन युवकों को

Published

on

यूपी के लखनऊ में एक हत्याकांड में संलिप्तता पाए जाने के बाद एसआइटी (यूपी) की टीम ने बड़हरिया थाना क्षेत्र के अटखंबा गांव में शनिवार की सुबह तीन युवकों को गुपचुप तरीके से दबोच लिया और उन्हें अपने साथ लेकर यूपी चली गई। एसआइटी टीम में एक जवान पुलिस के वेश में था जबकि शेष सादे लिबास में थे। तीनों युवकों को हिरासत में लेकर जाने के बाद गांव में हड़कंप मच गया। गांव में चर्चाओं का बाजार गर्म था। वहीं स्वजन इस मामले में पुलिस कुछ भी नहीं बताए जाने को लेकर चिंतित हो गए।

nps-builders

यूपी की एसआइटी टीम आई थी बिहार

Advertisement

मामले में एसपी शैलेश कुमार सिन्हा ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि यूपी की एसआइटी टीम ने संपर्क किया था तीनों युवकों को पूछताछ के लिए टीम अपने साथ हिरासत में लेकर गई है। इधर घटना की सूचना जैसे ही बड़हरिया थानाध्यक्ष को हुई वह मौके पर पहुंचा कर जांच में जुट गए। गांव में लगे सीसी कैमरा की मदद से उन्होंने सभी की पहचान की। थानाध्यक्ष ने बताया कि बड़हरिया थाना क्षेत्र के अटखंमबा गांव के तीन लड़कों को सिविल ड्रेस में आई यूपी पुलिस अपने साथ लेकर चली गई। सीसीटीवी फुटेज में देखा गया कि पांच लोग सिविल ड्रेस में और एक पुलिस की वर्दी में थे। प्रारंभिक जानकारी मिली है कि लखनऊ में कुछ माह पहले किसी की हत्या हुई थी और उसी संदर्भ में तीनों की संलिप्तता पाई गई है। इसमे दो सगे भाई भी शामिल हैं। यूपी पुलिस ने जिन तीन युवकों को उठाया है उसमें मंजर इकबाल, काशिफ हसन व सरफराज अहमद शामिल है।

यूपी एसआइटी टीम ने पहले मंजर को पकड़ा

Advertisement

थानाध्यक्ष ने बताया कि फुटेज देखने से यह प्रतीत हो रहा था कि सभी यूपी की एसआइटी टीम के सदस्य थे। टीम ने पहले मंजर को पकड़ा इसके बाद सौ मीटर की दूरी पर मौजूद दोनों भाई काशिफ एवं सरफराज को पकड़ा लिया। दोनों भाई अलीगढ़ में हाफिज की पढ़ाई करते थे। लाकडाउन के समय से सिवान में थे। वहीं मंजर नोएडा में बीटेक करता है। चार दिन पूर्व सिवान आया था। बताया कि दोनों भाई पर अलीगढ़ में केस भी है। कहते हैं अधिकारी मामले में पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार सिन्हा बताया कि लखनऊ पुलिस आई थी। उन तीनों को लखनऊ के किसी मर्डर केस के सिलसिले में संलिप्तता पाए जाने पर अपने साथ लेकर गई है।

Source : Dainik Jagran

Advertisement

Genius-Classes

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

Continue Reading

INDIA

1 जुलाई से नहीं लागू हो रहे नए श्रम कानून, करना होगा और इंतजार

Published

on

अटकलों के उलट नए श्रम कानून 1 जुलाई से लागू नहीं हो रहे हैं. एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने मनीकंट्रोल से बातचीत में कहा है कि नए कानूनों के 4 कोड, औद्योगिक विवाद, सामाजिक सुरक्षा, वेतन और पेशेवर सुरक्षा, पर अभी मंथन चल रहा है. बता दें कि केंद्र सरकार ने 29 श्रम कानूनों को 4 कोड में समाहित कर दिया है.

एक अन्य अधिकारी ने कहा कि यह ढांचागत बदलाव हैं और मंत्रालय श्रम कल्याण व व्यापार की सुगमता में संतुलन बनाने का प्रयास कर रहा है. उन्होंने कहा कि केंद्रीय श्रम मंत्रालय राज्यों, उद्योगों व अन्य हितधारकों के साथ बातचीत कर रहा है और अभी तक की वार्ता अच्छी रही है. बकौल अधिकारी, लेकिन 1 जुलाई को कोड नहीं लागू होने वाले हैं.

Advertisement

मंत्रालय करेगा औपचारिक घोषणा

श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा है कि एक बार सारी चीजें तय होने के बाद मंत्रालय औपचारिक घोषणा करेगा, लेकिन निकट भविष्य में इससे आसार कम हैं. बता दें कि संसद ने वेतन संबंधी कोड को 2019 में और अन्य 3 कोड्स को 2020 में पारित कर दिया था, लेकिन अभी इनमें से किसी को भी लागू नहीं किया है.

Advertisement

नए कोड्स से क्या बदलेगा

इनका नियोक्ता और कर्मचारी दोनों पर बड़ा प्रभाव होगा. कंपनियों के लोगों को भर्ती करना और निकालना और आसान हो जाएगा. इसके अलावा औद्योगिक हड़तालें करना बेहद मुश्किल हो जाएगा. नया राष्ट्रीय वेतन नियम लागू होगा जिससे कर्मचारियों को लाभ मिलेगा और असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को सोशल सिक्योरिटी के घेरे में लाया जाएगा. साथ ही वेतन की परिभाषा बदलेगी और संभवत: आपके हाथ में आने वाला वेतन घट जाएगा. जबकि रिटारयमेंट के लिए बचाई जाने वाली सेविंग्स बच जाएंगी. इस बिंदु का उद्यमी व नियोक्ता विरोध कर रहे हैं क्योंकि इससे उन पर वित्तीय दबाव बढ़ सकता है.

Advertisement

Genius-Classes

इसके अलावा नए कोड्स में साप्ताहिक काम के घंटों में कोई बदलाव नहीं है, लेकिन डेली वर्किंग आवर्स में चेंज हो सकता है. अगर कर्मचारी और नियोक्ता चाहें तो एक दिन में 12 घंटे काम के साथ हफ्ते में 4 दिन वर्किंग रख सकते हैं और 3 दिन का वीक ऑफ दे सकते हैं.

क्या है उद्योगों का रुख

Advertisement

एक सर्वे के अनुसार, 64 फीसदी कंपनियां मान रही हैं कि इन बदलावों से उनके मुनाफे-घाटे पर सीधा असर होगा. एडवाइजरी फर्म विलिस टावर्स वॉट्सन के इस सर्वे के मुताबिक, कम से कम 71 फीसदी कंपनियों ने इसके प्रभावों का आकलन करने के लिए कदम उठाए हैं. हालांकि, 34 फीसदी कंपनियां नए वेतन कोड के संदर्भ में किसी तरह के बदलाव को लेकर किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है. 53 फीसदी कंपनियां रिटायरमेंट की आयु और लंबी अवधि में दिए जाने वाले बेनेफिट्स की समीक्षा पर विचार कर रही हैं.

Source : News18

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Continue Reading
INDIA16 mins ago

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर जयपुर में गिरफ्तार, कोविड सहायकों के धरने का समर्थन करने पहुंचे थे

BIHAR1 hour ago

पटना में जंग का मैदान बना राजीव नगर, दोनों तरफ से जारी है ईंट पत्‍थर से लड़ाई, सिटी एसपी सहित 5 घायल

MUZAFFARPUR2 hours ago

आपके प्रिय कालेज ने पूरे किए 123 वर्ष, 72 छात्र व पांच प्राध्यापकों से मुजफ्फरपुर में शुरू हुआ था सफर

BIHAR2 hours ago

अमरनाथ यात्रा पर हमले की साजिश नाकाम, लश्कर के 2 आतंकी गिरफ्तार, भारी मात्रा में गोला बारूद बरामद

OMG3 hours ago

8 पत्नियों के साथ एक घर में रहता है युवक, हर बार पहली नजर में हुआ प्यार

BIHAR3 hours ago

सुल्तानगंज में अंतिम चरण पर श्रावणी मेले की तैयारियां

BIHAR4 hours ago

पटना में बुलडोजर एक्शन पर बवाल, पथराव में कई पुलिसकर्मी घायल

BIHAR4 hours ago

बिहार : सभी सार्वजनिक मंदिर-मठ 15 तक रजिस्ट्रेशन कराएं, नहीं तो कार्रवाई : कानून मंत्री

BIHAR4 hours ago

चिराग पासवान ने बताया- ‘BJP का बिहार प्लान’, क्या महाराष्ट्र वाला खेला खेलेगी बीजेपी?

BIHAR6 hours ago

बिहार में सभी तबके के गरीब भूमिहीनों को 5 डिसमिल भूमि

TECH2 weeks ago

अब केवल 19 रुपये में महीने भर एक्टिव रहेगा सिम

BIHAR4 days ago

विधवा बहू की ससुरालवालों ने कराई दूसरी शादी, पिता बन कर ससुर ने किया कन्यादान

BIHAR7 days ago

बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद से मदद मांगना बिहार के बीमार शिक्षक को पड़ा महंगा

BIHAR4 weeks ago

गांधी सेतु का दूसरा लेन लोगों के लिए खुला, अब फर्राटा भर सकेंगे वाहन, नहीं लगेगा लंबा जाम

MUZAFFARPUR3 days ago

मुजफ्फरपुर: पुलिस चौकी के पास सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, अड्डे से आती थी रोने की आवाज

BIHAR3 weeks ago

समस्तीपुर के आलोक कुमार चौधरी बने एसबीआई के एमडी, मुजफ्फरपुर से भी कनेक्शन

BIHAR3 weeks ago

बिहार : पिता की मृत्यु हुई तो बेटे ने श्राद्ध भोज के बजाय गांव के लिए बनवाया पुल

JOBS4 weeks ago

IBPS ने निकाली बंपर बहाली; क्लर्क, PO समेत अन्य पदों पर निकली वैकेंसी, आज से आवेदन शुरू

BIHAR2 weeks ago

बिहार का थानेदार नेपाल में गिरफ्तार; एसपी बोले- इंस्पेक्टर छुट्टी लेकर गया था

MUZAFFARPUR3 weeks ago

मुजफ्फरपुर समेत पूरे बिहार में सेना की अग्निपथ स्कीम का विरोध, सड़क जाम व ट्रेनों पर पथराव

Trending