Connect with us

WORLD

“जल्‍द मिलेंगे”: कोलंबियाई व्‍यक्ति ने इच्‍छा मृत्‍यु से पहले अपने आखिरी संदेश में कहा, लाइलाज बीमारी से थे परेशान

Published

on

कैली (कोलंबिया). ‘मैं बहुत शांति महसूस करता हूं. मेरे साथ जो होने वाला है मुझे उससे डर नहीं लगता है. धीरे-धीरे ही किसी की बारी बाती है. इसलिए मैं अलविदा नहीं कहता, बल्कि कहूंगा कि जल्‍द मिलेंगे…’ ये शब्‍द कोलंबिया के उस 60 साल के बुजुर्ग के थे, जिन्‍होंने लाइलाज बीमारी से जूझने के कारण शुक्रवार को इच्‍छा मृत्‍यु को चुन लिया. उनका नाम विक्‍टर एस्‍कोबार था. उन्‍होंने सार्वजनिक रूप से इच्‍छा मृत्‍यु चनने का फैसला किया था. उन्‍होंने मरने से कुछ घंटे पहले उन्‍होंने अपने परिवार के साथ समय गुजारा था.

"We will meet where God has us": Víctor Escobar

एक दुर्लभ, दर्दनाक और लाइलाज बीमारी से जूझ रहे विक्टर एस्कोबार ने शुक्रवार को इच्‍छा मृत्‍यु को चुना था. वह कोलंबिया के पहले नागरिक बन गए, जिसे मौत के करीब न होने के बावजूद भी इच्छामृत्यु दे दी गई है. एस्कोबार ने इस हफ्ते कहा था, ‘मैं बहुत शांति महसूस करता हूं. मेरे साथ जो होने वाला है मुझे उससे डर नहीं लगता है. उन्होंने मुझे बताया कि पहले मुझे धीरे-धीरे बेहोश किया जाएगा तो मेरे पास अलविदा कहने का वक्त है. उसके बाद इच्छामृत्यु का इंजेक्शन दिया जाएगा जो दर्दरहित होगा- एक बहुत शांतिपूर्ण मौत. मुझे भगवान पर भरोसा है कि सब कुछ ऐसा ही होगा.’

Advertisement

उनके वकील लुइस गिराल्डो ने शुक्रवार शाम को बताया कि प्रक्रिया पूरी हो गयी है और एस्कोबार की मौत हो चुकी है. कोलंबिया की एक अदालत ने पिछले साल जुलाई में फैसला देते हुए इच्छा मृत्यु के नियमों में बदलाव किया था और उन लोगों के लिए भी इच्छा मृत्यु के दरवाजे खोल दिए थे जो एक गंभीर और लाइलाज बीमारी के कारण गहन शारीरिक और मानसिक पीड़ा झेल रहे हैं चाहे उनकी मौत करीब न हो. हालांकि, कैथोलिक चर्च इस फैसले के विरोध में है.

Victor Escobar, who chose to die under a new euthanasia law in Colombia, kisses his wife on Oct 13, 2021 in the city of Cali.

कैली में अपने अपार्टमेंट में एस्कोबार में गुरुवार को कहा था, ‘एक दरवाजा खुल गया है ताकि मेरे जैसे मरीज को गरिमापूर्ण तरीके से मरने का अवसर मिले.’ मॉर्फिन जैसी दवा भी उनके दर्द को कम नहीं कर पा रही थी और उन्होंने बताया कि अन्य दवाएं भी उनके शरीर पर असर नहीं कर पा रही थीं.

Advertisement

वह 2008 से बीमार थे, जब दो बार आघात आने से उनके आधे शरीर को लकवा मार गया था. हालांकि बाद में कुछ अंगों ने काम करना शुरू कर दिया लेकिन उन्हें सांस लेने में रुकावट पैदा करने वाली फेफड़ों की बीमारी, हाइपरटेंशन, डायबिटीज, गंभीर गठिया जैसे रोगों ने जकड़ लिया और एक दुर्लभ बीमारी भी हो गई थी, जिसमें पसलियां हड्डी से जुड़ जाती हैं जिससे दर्दनाक सूजन होती है.

कोलंबिया के रहने वाले विक्‍टर एस्‍कोबार के जीवित रहते हुए बनाए गए अंतिम वीडियो में वह मुस्‍कुराते हुए दिख रहे हैं. उनके साथ उनका परिवार है. उन्‍हें इच्‍छा मृत्‍यु के लिए जानलेवा इंजेक्‍शन लगाया गया था. उन्‍होंने डॉक्‍टरों और अपने वकील के सामने दम तोड़ा. उनका कहना था, ‘मैं चाहता हूं कि मेरी कहानी को जाना जाए क्योंकि यह मेरे जैसे मरीजों के लिए आराम करने के लिए एक खुला दरवाजा बनाने का मार्ग बनाता है.

Advertisement

अभी तक यूरोप के बेल्जियम, नीदरलैंड, लक्‍जमबर्ग और स्‍पेन में ही इच्‍छा मृत्‍यु का प्रावधान था. लेकिन अब इस सूची में कोलंबिया भी जुड़ गया है. हालांकि वहां इसकी प्रक्रिया काफी जटिल है. (इनपुट भाषा से भी)

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

clat

Advertisement

WORLD

चीन से तनाव के बीच ताइवान के बड़े मिसाइल साइंटिस्ट की संदिग्ध मौत, होटल में मिला शव

Published

on

ताइपे: ताइवान रक्षा मंत्रालय की अनुसंधान एवं विकास इकाई के उप प्रमुख शनिवार सुबह एक होटल के कमरे में मृत पाए गए. ताइवान की आधिकारिक केंद्रीय समाचार एजेंसी ने इस खबर की पुष्टि की है. न्यूज एजेंसी के मुताबिक ताइवानी सेना के स्वामित्व वाले नेशनल चुंग-शान इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के उप प्रमुख ओ यांग ली-हिंग शनिवार सुबह दक्षिणी ताइवान के एक होटल के कमरे में मृत पाए गए. उनकी मौत के पीछे के कारणों की जांच चल रही है.

ब्रिटिश न्यूज एजेंसी राॅयटर्स ने सीएनए के हवाले से बताया कि ओ यांग ली-हिंग पिंगटुंग के दक्षिणी काउंटी की व्यावसायिक यात्रा पर थे. उन्होंने ताइवान की विभिन्न मिसाइल उत्पादन परियोजनाओं की निगरानी के लिए इस साल की शुरुआत में नेशनल चुंग-शान इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के उप प्रमुख के रूप में पद ग्रहण किया था. ताइवानी सेना के स्वामित्व वाली संस्था इस साल अपनी वार्षिक मिसाइल उत्पादन क्षमता को दोगुना से अधिक, 500 के करीब करने के लिए काम कर रही है. क्योंकि यह द्वीपीय देश चीन के बढ़ते सैन्य खतरे के रूप में अपनी युद्ध शक्ति को तेजी बढ़ाने की दिशा में काम कर रहा है.

Advertisement

विशेष रूप से हाल के महीनों में बीजिंग ने अपनी तथाकथित वन चाइना नीति पर जोर बढ़ाया है और ताइवान के प्रति सख्त रुख अपना रहा है. वर्तमान में चीन, अमेरिकी संसद की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा के प्रतिशोध में इस द्वीपीय देश की चारो ओर से घेराबंदी कर बड़े पैमाने पर सैन्य अभ्यास कर रहा है. इस बीच, ताइवान ने चीन की सेना पर शनिवार को अपने मुख्य द्वीप पर हमले का ‘अनुकरण’ करने का आरोप लगाया. नैंसी पेलोसी 25 वर्षों में ताइवान का दौरा करने वाली अमेरिकी संसद की पहली अध्यक्ष हैं.

उन्होंने ताइपे में ताइवान की संप्रभुता और सुरक्षा को बरकरार रखने की वकालत ही. इस घटना के बाद पहले से बिगड़ते संबंधों के बीच अमेरिका और चीन सीधे टकराव की स्थिति में खड़े हो गए हैं. पेलोसी के ताइवान छोड़ने के 18 घंटे बाद चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की सभी शाखाओं ने पहली बार द्वीप को पार कर बड़े पैमाने पर युद्धाभ्यास शुरू किया. चीन ने ताइवान पर न केवल व्यापार प्रतिबंध लगाए बल्कि यह भी कहा कि वह नैंसी पेलोसी की यात्रा को लेकर संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ कई तरह की बातचीत और सहयोग समझौतों से पीछे हट जाएगा.

Advertisement

Source : News18

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Genius-Classes

Advertisement
Continue Reading

WORLD

‘संबंध बनाने के दौरान पार्टनर की सहमति के बिना कंडोम हटाना अपराध ‘, कनाडा SC का फैसला

Published

on

कनाडा के सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाते हुए कहा कि अगर पार्टनर के कहने के बाद भी अगर शख्स संभोग के दौरान कंडोम का इस्तेमाल नहीं करता है तो यह यौन हिंसा के दायरे में आएगा। यानि इसे रेप समझा जाएगा।

nps-builders

द न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, साल 2017 में ऑनलाइन बातचीत के दौरान महिला और एक पुरुष एक-दूसरे के संपर्क में आए थे। मुलाकात के दौरान दोनों में सेक्स करने पर सहमति बनी। महिला पक्ष का आरोप है कि बोलने के बाद भी शख्स ने कंडोम का इस्तेमाल नहीं किया। महिला पक्ष का कहना है कि क्योंकि यौन संबंध बनाने वाला उसके लिए अनजान था, इसलिए संबंध बनाने के बाद महिला ने एचआईवी टेस्ट किया, ताकि यह जाना जा सके कि कहीं वो एचआईवी पॉजिटिव तो नहीं है।

Advertisement

महिला की पहचान को गुप्त रखा गया है। वहीं, प्रतिवादी रॉस मैकेंजी किर्कपैट्रिक है, जिस पर महिला ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। गौरतलब है कि निचली अदालत ने किर्कपैट्रिक के इस तर्क को स्वीकार करते हुए आरोप को खारिज कर दिया था कि शिकायतकर्ता ने कंडोम पहनने में विफल रहने के बावजूद यौन संबंधों के लिए सहमति दी थी।

इस फैसले को बाद में ब्रिटिश कोलंबिया कोर्ट ऑफ अपील ने पलट दिया था। इसके बाद प्रतिवादी किर्कपैट्रिक ने उस फैसले के खिलाफ देश की शीर्ष अदालत में अपील की, जिसने पिछले नवंबर में दलीलें सुनीं।

Advertisement

न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा, “कंडोम के बिना संभोग करना और कंडोम के साथ संभोग की तुलना में एक मौलिक और गुणात्मक अंतर है।” पीठ ने इस मामले में 5-4 वोट के बाद फैसला सुनाया। फैसला महिला के पक्ष में रहा।

अदालत ने कहा, “कंडोम का उपयोग अप्रासंगिक, गौण या आकस्मिक नहीं हो सकता है जब शिकायतकर्ता ने इस पर अपनी सहमति स्पष्ट रूप से दी हो।” गौरतलब है कि ब्रिटेन और स्विटजरलैंड की अदालतों ने भी लोगों को संभोग के दौरान कंडोम निकालने को अपराध की श्रेणी में रखा है।

Advertisement

Source : Hindustan

Genius-Classes

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

Advertisement
Continue Reading

WORLD

टूर्नामेंट में चेस खेल रहे रोबोट ने तोड़ दी 7 साल के बच्चे की उंगली

Published

on

मॉस्को. रूस की राजधानी मॉस्को में पिछले हफ्ते शतरंज का एक मुकाबला चल रहा था. इस दौरान एक रोबोट ने एक सात साल के बच्चे की उंगली तोड़ दी. रूस के एक अखबार की रिपोर्ट में इस घटना की जानकारी दी गई है. तास न्यूज एजेंसी से बात करते हुए मॉस्को चेस फेडेरेशन के प्रेसीडेंट सर्गेई लाजरेव ने बताया, ‘रोबोट ने बच्चे की उंगली तोड़ दी. यह वाकई में बहुत बुरा है.’

सोशल मीडिया पर शेयर किए एक वीडियो में रोबोट और बच्चे के बीच शतरंज के मुकाबले को देखा जा सकता है. वीडियो में रोबोट पहले बच्चे की चेस की एक गोटी को उठाकर बाहर कर देता है. इसके बाद बच्चा अपनी चाल चलता है, लेकिन रोबोट उसकी उंगली पकड़ लेता है जिससे वहां मौजूद लोगों में हड़कंप मच जाता है. बच्चे की मदद करने के लिए चार लोग आगे आते हैं. आखिरकार उसे रोबोट की पकड़ से आजाद करवा लेते हैं. लाजरेव ने कहा कि मशीन इससे पहले बिना किसी हादसे के कई मैच खेल चुकी है.

Advertisement

कैसे हुआ हादसा?

Advertisement

यह हादसा 19 जुलाई को हुआ था. बाज़ा टेलीग्राम चैनल ने सबसे पहले इसकी वीडियो क्लिप शेयर की. लाजरेव ने कहा कि जाहिर है कि ऑपरेटर्स ने इसकी अनदेखी की. बच्चे ने अपनी चाल चली और इसके बाद हमें प्रतिक्रिया के लिए रोबोट को समय देना पड़ता है. बच्चे ने जल्दबाजी दिखाई और रोबोट ने उसे पकड़ लिया. तास ने बताया कि बच्चा अगले दिन खेलने में सक्षम था और उसने टूर्नामेंट के अंतिम दिनों में अपना गेम पूरा किया.

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

मॉस्को के हादसे ने लोगों में रोबोट के प्रति डर पैदा कर दिया है. वीडियो के नीचे एक यूजर ने कमेंट किया, ‘कभी भी कंप्यूटर से जीतने की कोशिश नहीं करनी चाहिए.’

Advertisement

Source : News18

nps-builders

Genius-Classes

Advertisement
Continue Reading
INDIA3 hours ago

गांव में हर आंख में आंसू के साथ शहीद मनोज पीछे छोड़ गए नौ माह की गर्भवती पत्नी

BIHAR4 hours ago

बेहतरीन इंवेस्टिगेशन के लिए बिहार के दो आईपीएस सहित 7 अफसरों को गृहमंत्री मेडल

BIHAR4 hours ago

राजीवनगर के भूमाफियाओं पर ईडी करेगी मनी लॉड्रिंग का केस

VIRAL11 hours ago

उम्र- 3 साल, रिकॉर्ड- 5 मिनट में क्यूब सॉल्विंग, भारत की बेटी का कमाल

BIHAR11 hours ago

‘जंगलराज-2’ लाने जा रहे हैं नीतीश कुमार, बिहार सीएम पर BJP के आरोपों की बौछार

INDIA14 hours ago

पिता ने की डेढ़ साल के मासूम को गला दबाकर मार डाला, नींद में डाल रहा था खलल

INDIA14 hours ago

हर घर तिरंगा अभियान: राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री में 50 गुना उछाल, मांग पूरी करना हुआ मुश्किल

INDIA14 hours ago

बिगड़ती जा रही है कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव की हालत, बेहोश, ब्रेन भी नहीं कर रहा रेस्पॉन्ड

BIHAR16 hours ago

सोनिया गांधी से मिले तेजस्वी यादव, महागठबंधन सरकार को समर्थन के लिए जताया आभार

BIHAR21 hours ago

गिरिराज सिंह पर तेजस्वी का कटाक्ष, कहा-‘लंबी चोटी से कोई ज्ञानी नहीं हो जाता’

BIHAR4 weeks ago

बिहार दारोगा रिजल्ट : छोटी सी दुकान चलाने वाले सख्स की दो बेटियाँ एक साथ बनी दारोगा

job-alert
BIHAR2 weeks ago

बिहार: मैट्रिक व इंटर पास महिलाएं हो जाएं तैयार, जल्द होगी 30 हजार कोऑर्डिनेटर की बहाली

INDIA4 weeks ago

प्यार के आगे धर्म की दीवार टूटी, हिंदू लड़के से मुस्लिम लड़की ने मंदिर में की शादी

BIHAR3 weeks ago

बिहार में तेल कंपनियों ने जारी की पेट्रोल-डीजल की नई दरें

BIHAR1 week ago

बीपीएससी 66वीं रिजल्ट : वैशाली के सुधीर बने टॉपर ; टॉप 10 में मुजफ्फरपुर के आयुष भी शामिल

BIHAR1 week ago

एक साल में चार नौकरी, फिर शादी के 30वें दिन ही BPSC क्लियर कर गई बहू

BUSINESS1 week ago

पैसों की जरूरत हो तो लोन की जगह लें ये सुविधा; होगा बड़ा फायदा

BIHAR7 days ago

ग्राहक बन रेड लाइट एरिया में पहुंची पुलिस, मिली कॉलेज की लड़किया

BIHAR3 weeks ago

बिहार : अब शिकायत करें, 3 से 30 दिनों के भीतर सड़क की मरम्मत हाेगी

INDIA2 weeks ago

बुढ़ापे का सहारा है यह योजना, हर दिन लगाएं बस 50 रुपये और जुटाएं ₹35 लाख फंड

Trending