Connect with us

INDIA

परिसीमन आयोग ने जम्मू-कश्मीर की जारी की रिपोर्ट, कश्मीरी पंडितों के लिए सीट रिजर्व

Published

on

परिसीमन आयोग ने केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में विधानसभा सीटें बढ़ाने का प्रस्ताव दिया है. परिसीमन आयोग ने जम्मू-कश्मीर के लिए कुल 7 सीटें बढ़ाने का प्रस्ताव दिया है. इस प्रस्ताव के अमल में आने के बाद जम्मू-कश्मीर में विधानसभा सीटों की संख्या 83 से बढ़कर 90 हो जाएगी. जस्टिस (रि.) रंजना देसाई की अध्यक्षता में जम्मू-कश्मीर पर गठित तीन सदस्यीय परिसीमन आयोग ने गुरुवार को इस रिपोर्ट पर हस्ताक्षर कर दिया है. परिसीमन आयोग का कार्यकाल शुक्रवार यानी कि 6 मई को समाप्त हो रहा था.

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

इसके अलावा आयोग ने कश्मीरी पंडितों के लिए भी विधानसभा में 2 सीटें आरक्षित करने का प्रस्ताव दिया है.

Advertisement

अब इस आदेश की एक प्रति और रिपोर्ट सरकार के पास भेजी जाएगी. इस रिपोर्ट में निर्वाचन क्षेत्रों की संख्या, उनका क्षेत्र, आकार और जनसंख्या आदि का विस्तृत विवरण है. इसके बाद एक गजट अधिसूचना के माध्यम से इस आदेश को लागू किया जाएगा.

बढ़ जाएंगी जम्मू की सीटें

Advertisement

इस कमीशन ने प्रस्ताव दिया है कि जम्मू-कश्मीर में विधानसभा सीटों की संख्या 83 से बढ़ाकर 90 कर दी जाए. इसके अलावा पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) के लिए 24 सीटें खाली रखी गई हैं. ये सीटें पहले भी खाली रखी गईं थी.

परिसीमन आयोग के अनुसार जो 7 सीटें बढ़ाई गई हैं उनमें से 6 सीटें जम्मू के हिस्से आएगी जबकि 1 सीट कश्मीर में बढ़ाया जाएगा. बता दें कि अभी जम्मू रीजन में 37 विधानसभा सीटें हैं जबकि कश्मीर क्षेत्र में 46 विधानसभा सीटें आती हैं. इस प्रस्ताव के लागू होने के बाद जम्मू में विधानसभा सीटों की संख्या (37+6) 43 हो जाएगी, जबकि कश्मीर डिवीजन में सीटों की संख्या (46+1) 47 हो जाएगी. इस परिसीमन के लागू होने के बाद जम्मू का राजनीतिक महत्व बढ़ेगा.

Advertisement

कश्मीरी पंडितों के लिए 2 सीटें रिजर्व

परिसीमन आयोग की रिपोर्ट के अनुसार 2 सीटें कश्मीरी प्रवासियों के लिए रिजर्व रखी गई हैं. परिसीमन आयोग की रिपोर्ट में इसके लिए कश्मीरी प्रवासी (Kashmiri Migrants) शब्द का इस्तेमाल किया गया है. माना जाता है कि इस फैसले से विधानसभा में कश्मीरी पंडितों का प्रतिनिधित्व बढ़ेगा.

Advertisement

nps-builders

अनुसूचित जनजाति के लिए 9 सीटें आरक्षित

जम्मू-कश्मीर परिसीमन आयोग में पहली बार अनुसूचित जनजाति के लिए 9 सीटें आरक्षित की गई हैं. इनमें से 6 जम्मू रीजन में हैं जबकि 3 कश्मीर संभाग में है. बता दें कि राज्य में विधानसभा चुनावों का रास्ता साफ करने के लिए मार्च 2020 में परिसीमन आयोग का गठन किया गया था. पिछले साल इस आयोग को एक साल का विस्तार दिया गया था. मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा और जम्मू-कश्मीर के चुनाव आयुक्त इस पैनल के सदस्य पदेन सदस्य होते हैं. फरवरी में इस आयोग को फिर से 2 महीने का विस्तार दिया गया था.

Advertisement

बता दें कि इस रिपोर्ट के जारी होने के साथ ही केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव कराए जाने का रास्ता साफ हो गया है. परिसीमन की अधिसूचना जारी होने के साथ ही यहां जल्द ही विधानसभा चुनाव कराया जा सकता है.

क्या होता है परिसीमन

Advertisement

निर्वाचन क्षेत्रों की सीमा तय करने की प्रक्रिया परिसीमन कहलाती है. परिसीमन का मुख्य आधार जनसंख्या होता है. लेकिन सीट तय करने से पहले क्षेत्रफल, भौगोलिक परिस्थिति, संचार की सुविधा पर भी प्रमुखता से विचार किया जाता है. पहाड़ी और बर्फीला क्षेत्र होने की वजह से जम्मू-कश्मीर में आवागमन कठिन है इसलिए लोगों को ऐसे क्षेत्रों में रखने की कोशिश की जाती है ताकि उनके सरकारी काम आसान हो और उन्हें वोट देने में भी सुविधा हो. जम्मू-कश्मीर में इससे पहले 1995 में परिसीमन हुआ था. लेकिन तब की राज्य का राजनीतिक नक्शा अलग था. तब लद्दाख भी जम्मू-कश्मीर के साथ था लेकिन 2019 में अनुच्छेद 370 हटाने के साथ ही केंद्र ने लद्दाख को अलग केंद्र शासित प्रदेश की मान्यता दे दी है.

Source : Aaj Tak

Advertisement

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

INDIA

एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री, देवेंद्र फडणवीस ने किया ऐलान

Published

on

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात के बाद देवेंद्र फडणवीस और एकनाथ शिंदे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने एलान किया कि एकनाथ शिंदे महाराष्ट्र के सीएम पद की शपथ लेंगे.

देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि जनता ने महाविकास अघाड़ी को बहुमत नहीं दिया था. चुनाव के बाद बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी थी. बीजेपी-शिवसेना ने गठबंधन में चुनाव लड़ा था, लेकिन शिवसेना ने कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बनाई. इस दौराना शिवसेना ने बाला साहेब ठाकरे के विचारों को भी ताक पर रख दिया.

Advertisement

Genius-Classes

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Continue Reading

INDIA

निरहुआ के बड़े भाई का हुआ एक्सीडेंट, हुए जख्मी, पलट गई कार

Published

on

भोजपुरी फिल्मों के सुपरस्टार और आजमगढ़ से सांसद दिनेश लाल यादव निरहुआ ने सोशल मीडिया पर एक दुखद न्यूज शेयर की है. असल में निरहुआ के बड़े भाई विजय लाल यादव की कार का एक्सीडेंट हो गया है, जिसके बाद उन्हें फौरन वेदंता हॉस्पिटल ले जाया गया. बड़े भाई के एक्सीडेंट की जानकारी मिलते ही निरहुआ भी अस्पताल के लिये रवाना हो चुके हैं.

निरहुआ के भाई के एक्सीडेंट

Advertisement

कहा जा रहा है कि विजय लाल अपने साथियों के साथ लखनऊ से आजमगढ़ जा रहे थे. इस दौरान बाराबंकी के पास उनकी फॉर्च्यूनर डिवाइडर से टकराते हुए पलट गई. रिपोर्ट के मुताबिक, गाड़ी की स्पीड ज्यादा होने की वजह से ये हादसा हो गया. एक्सीडेंट में गाड़ी के परखच्चे उड़े दिखाई दे रहे हैं. गाड़ी की हालत से अंदाजा लगाया जा सकता है कि एक्सीडेंट काफी भयानक है.

बड़े भाई विजय लाल यादव के बारे में जानकारी मिलते ही निरहुआ ने ट्वीट कर उनकी सलामती की दुआ की है. निरहुआ लिखते हैं, ‘बड़े भैया विजय लाल यादव जी की कार लखनऊ जाने के क्रम में दुर्घटना ग्रस्त हो गयी. हमारे प्रतिनिधि ने भैया से बात कराया, उन्हें वेदन्ता हॉस्पिटल ले जाया जा रहा है. प्रवेश लाल और कवि जी वहां पहुंच रहे हैं. हम लोग भी जल्द भैया के पास पहुंच जाएंगे. बाबा विश्वनाथ जल्द स्वास्थ्य लाभ दें.’

Advertisement

Genius-Classes

कौन हैं निरहुआ के बड़े भाई

निरहुआ के बड़े भाई विजय लाल यादव भी पॉलिटिक्स में एक्टिव हैं. एक तरफ जहां निरहुआ बीजेपी नेता हैं. वहीं उनके बड़े विजय लाल समाजवादी पार्टी के मंत्री रह चुके हैं. यही नहीं, आजमगढ़ लोकसभा उप चुनाव के वक्त उन्हें समाजवादी पार्टी की तरफ से प्रचार करते भी देखा गया था. हांलाकि, काफी प्रचार के बावजूद विजय लाल SP केंडिडेट धर्मेंद्र यादव को नहीं जीता पाये और निरहुआ ने उन्हें भारी मतों से हरा कर आजमगढ़ लोकसभा उप चुनाव में बड़ी जीत हासिल की है.

Advertisement

आशा करते हैं कि सबकी दुआ और दवा से विजय लाल यादव जल्द ही ठीक हो जायेंगे.

Source : Aaj Tak

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Continue Reading

INDIA

‘तो पापा बच जाते अगर पुलिस प्रोटेक्शन ना हटती’, कन्हैयालाल के बेटों का छलका दर्द

Published

on

राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल की हत्या से पूरा देश सन्न है. मर्डर करने वाले दोनों आरोपी मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. मामले में कार्रवाई जारी है. इसी बीच कन्हैयालाल के बेटों तरुण और यश ने पिता की हत्या करने वालों दोनों आरोपियों के लिए फांसी की सजा की मांग की है. साथ ही पुलिस पर भी लापरवाही का आरोप लगाया है.

कन्हैया लाल के बेटों ने ‘आजतक’ से खास बातचीत में बताया, ‘हमने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट गलती से शेयर कर दी थी, जिसके बाद हमारे पापा के खिलाफ पड़ोसी नाजिम ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई. हालांकि 24 घंटों बाद उन्हें जमानत मिल गई. इस मामले में समझौता भी हो गया. चार से पांच दिन तक हमने अपनी दुकान बंद रखी. क्योंकि हमें प्रशासन की तरफ से दुकान बंद रखने के लिए कहा गया था. इसी बीच पापा को किसी ने धमकी भी दी, जिसके बाद हमने थाने में शिकायत दर्ज करवाई और पुलिस प्रोटेक्शन की मांग की.’

Advertisement

बेटों ने बताया कि उन्हें पुलिस प्रोटेक्शन तो मिली, लेकिन उसे भी दो दिन बाद हटा दिया गया. फिर जब सात दिनों बाद दुकान खोली तो अचानक पापा की बेरहमी से हत्या कर दी गई. बेटों ने कहा, ‘हमें फोन पर किसी ने बताया कि आपके पापा का मर्डर हो गया है.’ कन्हैया के बेटे यश ने कहा कि अगर पुलिस प्रोटेक्शन ना हटाती तो पापा बच सकते थे.

Genius-Classes

बेटों ने कहा कि हम दोनों अभी कॉलेज में पढ़ते हैं और घर में सिर्फ पापा ही कमाने वाले थे, जो अब इस दुनिया में नहीं रहे. बेटों ने सरकार और प्रशासन से मांग की है कि उनके पापा की हत्या करने वालों को फांसी की सजा मिले. फांसी से कम सजा उनके लिए कुछ मंजूर नहीं है.

Advertisement

Source: Aaj Tak

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Advertisement
Continue Reading
BIHAR4 hours ago

महाराष्ट्र के एक’नाथ’ बने शिंदे, मुख्यमंत्री पद की ली शपथ, देवेंद्र फडणवीस डिप्टी सीएम पर माने

BIHAR5 hours ago

तेज प्रताप यादव का एक और 2 मिनट, इस बार विधानसभा स्पीकर से अकेले में मिलना चाहते हैं लालू के लाल

BIHAR7 hours ago

पीएम नरेंद्र मोदी 12 जुलाई को आयेंगे बिहार, विधानसभा भवन के शताब्दी समारोह में होंगे शामिल

BIHAR8 hours ago

बिहार के हर जिले में बनेगा ‘मोदी नगर’ और ‘नीतीश नगर’

INDIA8 hours ago

एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री, देवेंद्र फडणवीस ने किया ऐलान

INDIA9 hours ago

निरहुआ के बड़े भाई का हुआ एक्सीडेंट, हुए जख्मी, पलट गई कार

BIHAR10 hours ago

बिहार: मुंगेर के कॉलेज में बिजली गुल, मोबाइल टॉर्च की लाइट में छात्रों ने दी परीक्षा

BIHAR13 hours ago

सोन ब्रिज पर एक साथ दौड़ीं 5 ट्रेनें, इंडियन रेलवे ने बनया अनोखा रिकॉर्ड

INDIA16 hours ago

‘तो पापा बच जाते अगर पुलिस प्रोटेक्शन ना हटती’, कन्हैयालाल के बेटों का छलका दर्द

MUZAFFARPUR17 hours ago

मुजफ्फरपुर: पुलिस चौकी के पास सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, अड्डे से आती थी रोने की आवाज

TECH1 week ago

अब केवल 19 रुपये में महीने भर एक्टिव रहेगा सिम

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर की बेटी ने यूपीएससी में 122वां रैंक लाकर किया गौरवान्वित

BIHAR4 days ago

बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद से मदद मांगना बिहार के बीमार शिक्षक को पड़ा महंगा

BIHAR3 weeks ago

गांधी सेतु का दूसरा लेन लोगों के लिए खुला, अब फर्राटा भर सकेंगे वाहन, नहीं लगेगा लंबा जाम

BIHAR3 weeks ago

समस्तीपुर के आलोक कुमार चौधरी बने एसबीआई के एमडी, मुजफ्फरपुर से भी कनेक्शन

MUZAFFARPUR17 hours ago

मुजफ्फरपुर: पुलिस चौकी के पास सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, अड्डे से आती थी रोने की आवाज

BIHAR2 weeks ago

बिहार : पिता की मृत्यु हुई तो बेटे ने श्राद्ध भोज के बजाय गांव के लिए बनवाया पुल

JOBS3 weeks ago

IBPS ने निकाली बंपर बहाली; क्लर्क, PO समेत अन्य पदों पर निकली वैकेंसी, आज से आवेदन शुरू

BIHAR1 week ago

बिहार का थानेदार नेपाल में गिरफ्तार; एसपी बोले- इंस्पेक्टर छुट्टी लेकर गया था

MUZAFFARPUR2 weeks ago

मुजफ्फरपुर समेत पूरे बिहार में सेना की अग्निपथ स्कीम का विरोध, सड़क जाम व ट्रेनों पर पथराव

Trending