Connect with us

EDUCATION

शिक्षा मानव में पहले से ही विद्यमान की अभिव्यक्ति है : स्वामी विवेकानंद

Published

on

…….और एक शिक्षक और शैक्षणिक संस्थानों का कर्त्तव्य उसको प्रकाशित करना हैं ! हम कक्षा में जो सीखते हैं, वह समाज में हमारे व्यवहार से परिलक्षित होना चाहिए। शैक्षणिक संस्थानों द्वारा छात्रों के बीच मूल्यों का विकास करने के कुछ तरीको को प्रकाशित करते हैं:

नैतिक दर्शन का पाठ्यचर्या और अनुशासन – स्कूल के पाठ्यक्रम में नैतिक मुद्दों और नैतिक दर्शन के विषय पर पाठ होना चाहिए। यह छात्रों को नैतिक दर्शन पर सैद्धांतिक ज्ञान प्रदान करेगा ताकि वे व्यक्तिगत जीवन में उनका अभ्यास कर सकें। उदाहरण के लिए, गांधी सात पाप, भारतीय और पश्चिमी दार्शनिक परंपराओं पर पाठ छात्रों के नैतिक संकाय को मुक्त करने में सहायक होंगे।

ऑब्जर्वेसन लर्निंग और साथियों का प्रभाव – विद्यार्थी आमतौर पर स्कूल में अपने साथियों के समूह, शिक्षकों आदि को देखता है और उनके व्यवहार से सीखता है। उदाहरण के लिए, जो बुरे लड़कों की संगति में आता है, वह उचित व्यवहार में सीखना शुरू कर सकता है।

विजुयल धारणा – विजुयल धारणा विभिन्न सूचनाओं जैसे प्रतीकों, छवियों, रेखाचित्रों, चार्ट आदि को संसाधित करके आसपास के वातावरण की व्याख्या करने की क्षमता है। यह छात्रों के बीच दृष्टिकोण और मूल्यों के संचार के लिए भी शक्तिशाली उपकरण है।

उपाख्यान (एक छोटी सी सच्ची कहानी) – उपाख्यान वास्तविक जीवन के अनुभव हैं जो वास्तविक मानवीय भावनाओं और अभिव्यक्तियों को चित्रित करते हैं। यह एक छात्र के मन पर एक स्थायी प्रभाव पैदा कर सकता है। उदाहरण के लिए, गांधी, लिंकन आदि के जीवन के उपाख्यानों को साझा करना बच्चों को सदाचारी जीवन जीने के लिए प्रेरित कर सकता है।

समूह गतिविधि – समूह गतिविधि में भूमिका निभाना, खेल, समूह चर्चा, समूह परियोजना आदि शामिल हैं। इन गतिविधियों के माध्यम से, छात्र टीम भावना, सहयोग आदि का मूल्य सीखते हैं।

द्वंद्वात्मक शैली – सुकरात इस शैली के संस्थापक थे जो नकारात्मक परिकल्पना उन्मूलन में मदद करता है। उदाहरण के लिए, सहकर्मी समूहों के बीच चर्चा और बहस छात्रों के नैतिक संकाय में सुधार करने में मदद करते हैं।

सामाजिक नियंत्रण – स्कूल अनुशासन, सम्मान, आज्ञाकारिता आदि जैसे मूल्यों को पढ़ाने के लिए जिम्मेदार हैं। स्कूल युवाओं को अच्छे छात्र, मेहनती भविष्य के कार्यकर्ता और कानून का पालन करने वाले नागरिक बनने के लिए प्रोत्साहित करके अनुरूपता सिखाते हैं।

सांस्कृतिक नवाचार – शैक्षणिक संस्थान सांस्कृतिक मूल्यों का निर्माण और संचार करते हैं। शिक्षक समान ज्ञान का संचार नहीं करता बल्कि अपने अनुभव को जोड़कर अद्यतन मूल्यों को प्रसारित करता है।

सामाजिक एकता – शैक्षिक संस्थान विविध जनसंख्या को एक एकीकृत समाज में ढालता है। यह लोगों के दृष्टिकोण, विचारों, रीति-रिवाजों और भावनाओं के बीच सामंजस्य बिठाकर समाज में सामाजिक संगठन बनाता है जो भारत जैसे सामाजिक विविधता वाले देशों में काफी महत्वपूर्ण है।

सामाजिक नियोजन – शैक्षिक संस्थान सामाजिक पृष्ठभूमि की परवाह किए बिना योग्यता और प्रयास को पुरस्कृत करके योग्यता को बढ़ाता है और सामाजिक गतिशीलता को ऊपर उठाने का मार्ग प्रदान करता है

प्रवर्तन तंत्र – स्कूल, समाजीकरण का औपचारिक स्थान होने के कारण मजबूत प्रवर्तन तंत्र है जिसमें छात्रों को नैतिक व्यवहार के लिए पुरस्कृत किया जाता है और अनैतिक व्यवहार के लिए सख्ती से दंडित किया जाता है। उदाहरण के लिए, परीक्षा में नकल करने पर स्कूलों द्वारा भारी सजा दी जाती है और परीक्षा में टॉप करने वालों को सबके सामने पुरस्कृत किया जाता है।

Genius-Classes

चुनौतियां/सीमाएं:

मूल्य शिक्षा का अभाव – अधिकांश स्कूली पाठ्यक्रम तकनीकी कौशल प्रदान करने के उद्देश्य से हैं जबकि नैतिक शिक्षाओं की काफी हद तक अनदेखी की जाती है। उदाहरण के लिए, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, जेनेटिक एडिटिंग टेक्नोलॉजी आदि के शिक्षण अनुप्रयोगों पर अधिक ध्यान दिया जाता है, लेकिन इससे जुड़े नैतिक सरोकारों को काफी हद तक नजरअंदाज कर दिया जाता है।

शिक्षण की पद्धति – अवलोकन, गतिविधि और अनुभवों के माध्यम से सीखने की काफी हद तक अनदेखी की जाती है। इससे छात्रों का नैतिक और आध्यात्मिक विकास के बजाय केवल संज्ञानात्मक विकास होता है।

औद्योगिक केंद्र के रूप में शैक्षणिक संस्थान – जैसा कि माइकल सैंडल बताते हैं, बाजार समाज में बुनियादी जरूरतों को भी बड़े पैमाने पर रखा जाता है। यहां तक ​​कि शिक्षा संस्थान भी औद्योगिक प्रतिष्ठानों के रूप में काम कर रहे हैं जो केवल पैसे की मानसिकता से काम कर रहे हैं। इससे शिक्षा की गुणवत्ता में गिरावट आ रही है, साथ ही गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की उपलब्धता और वहनीयता के मामले में असमानता बढ़ रही है।

परस्पर विरोधी मूल्य – परिवार और समाज जैसी संस्थाओं का एक बच्चा जो स्कूल में सीखता है, उसका एक अधिभावी प्रभाव हो सकता है। उदाहरण के लिए, बच्चों को स्कूलों में धर्मनिरपेक्षता का मूल्य सिखाया जाता है लेकिन घर पर उनके माता-पिता उन्हें सांप्रदायिक मूल्यों का प्रचार कर सकते हैं।

अतिथि संपादक : मनीष स्वरुप , कॉफ्रेट प्रो० मार्केटिंग के संस्थापक

इस संपादन में उल्लेखित दृष्टि कोण लेखक की हैं।  जिसका हमारे पत्रकारिता से कोई सम्बन्ध नहीं हैं।

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

EDUCATION

इकलौती संतान बेटी हो तो सीबीएसई देगा स्कॉलरशिप

Published

on

By

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजूकेशन(सीबीएसई) के सिंगल गर्ल चाइल्ड स्कॉलरशिप योजना के तहत जिन माता पिता की इकलौती संतान बेटी हैं तो उन्हें स्कॉलरशिप दिया जाएगा। इस स्कीम के तहत माता पिता 30 नवंबर तक आवेदन कर सकते हैं। स्कूलों को एप्लीकेशन वेरिफाई करने के लिए 7 दिसंबर तक का समय दिया गया है। कक्षा 10 के छात्र जो सिंगल गर्ल चाइल्ड स्कॉलरशिप के लिए आवेदन करना चाहते हैं, वे सीबीएसई की ऑफिशियल वेबसाइट cbse.gov.in पर जाकर स्कॉलरशिप का फॉर्म भर सकते हैं।

जानिए क्या हैं एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया हैं –

छात्रा अपने माता-पिता की इकलौती संतान होनी चाहिए। यानी माता पिता को कोई अन्य लड़का या लड़की न हो।

दसवीं कक्षा की परीक्षा में 60% या 6.2 सीजीपीए या अधिक ग्रेड प्राप्त हुआ हो।

सीबीएसई से संबद्ध स्कूलों में 11वीं और 12वीं कक्षा में पढ़ रहे हैं।

ऐसी छात्राएं जिनकी ट्यूशन फीस एकेडमिक ईयर के दौरान 10वीं कक्षा के लिए 1500 रुपये प्रति माह से अधिक नहीं है।

nps-builders

RAMKRISHNA-MOTORS-IN-MUZAFFARPUR-CHAKIA-RAXUAL-MARUTI-

Genius-Classes

Continue Reading

EDUCATION

सीबीएसई 10वीं व 12वीं में अब दो बार होगा प्री बोर्ड

Published

on

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के दसवीं और 12वीं वार्षिक परीक्षा 2023 के लिए स्कूलों में दो बार प्री बोर्ड लिया जायेगा। बोर्ड द्वारा इसको लेकर सभी स्कूलों को निर्देश दिये गये है। हर स्कूल इसकी तैयारी में जुट गया है। पहला प्री बोर्ड दिसंबर और दूसरी बार जनवरी में ली जायेगी। इस दौरान अगर किसी छात्र का प्री बोर्ड रिजल्ट खराब होता है तो उन छात्रों के लिए स्कूल द्वारा अतिरिक्त कक्षाएं चलाई जायेंगी। दोनों प्री बोर्ड का प्रश्न पत्र स्कूल द्वारा ही तैयार किया जायेगा। प्री बोर्ड का रिजल्ट स्कूलों को संभाल कर रखने का भी निर्देश बोर्ड द्वारा दी गयी है।

ज्ञात हो कि कोरोना काल के बाद पहली बार बोर्ड द्वारा लिखित परीक्षा ली जायेगी। छात्रों को लिखित परीक्षा देने की आदत लगे, परीक्षा का डर छात्रों का खत्म हो, इसके लिए दो बार प्री बोर्ड ली जायेगी। जिन छात्रों को प्री बोर्ड में कम अंक प्राप्त होते है, तो ऐसे छात्रों को दूसरा प्री बोर्ड होने से पहले अतिरिक्त कक्षाएं संचालित की जायेगी। वहीं प्री बोर्ड में छात्रों द्वारा क्या गलतियां की गयी, इसका भी आकलन स्कूल स्तर पर विषयवार शिक्षकों द्वारा की जायेगी। आकलन रिपोर्ट के अनुसार ही अतिरिक्त कक्षाएं संचालित की जायेगी। अभी तक सीबीएसई द्वारा एक ही बार प्री बोर्ड लिया जाता था, लेकिन इस बार दो प्री बोर्ड ली जायेगी।

nps-builders

 बोर्ड परीक्षा की तरह होगा प्री बोर्ड

स्कूलों की मानें तो बोर्ड परीक्षा की तरह ही प्री बोर्ड ली जायेगी। छात्रों को दस मिनट प्रश्न पत्र पढ़ने के लिए दिया जायेगा। वही परीक्षा के दौरान कक्षा से बाहर निकलने की अनुमति नहीं होगी। परीक्षा के लिए उत्तरपुस्तिका स्कूल प्रशासन द्वारा ही उपलब्ध करवाया जायेगा। डीएवी बीएसईबी प्रशासन की मानें तो दिसंबर में पहला प्री बोर्ड होगा। उसके बाद जनवरी में प्री बोर्ड ली जायेगी। ज्ञात हो कि सीबीएसई द्वारा फरवरी के दूसरे सप्ताह से दसवीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा शुरू कर दी जायेगी। वहीं एक जनवरी से प्रायोगिक परीक्षा की संभावित तिथि है।

Source : Hindustan

RAMKRISHNA-MOTORS-IN-MUZAFFARPUR-CHAKIA-RAXUAL-MARUTI-

Genius-Classes

Continue Reading

EDUCATION

मुजफ्फरपुर में आईएएस टॉपर्स सेमिनार के जरिए सफलता की रणनीति करेंगे साझा

Published

on

आईएएस बनने का सपना आंखों में लिए कई लोग आगे बढ़ते है, लेकिन सही राह पता ना होने के कारण वो मंजिल तक नहीं पहुंच पाते, या काफी वक्त लग जाता है। और प्रॉपर गाइडेंस मिलना भी आसान नहीं होता। लेकिन अब टॉपर आईएएस की तरफ से मिल रहा है, कुछ सीखने का मौका।

IAS परीक्षा की तैयारी कैसे करें, ये स्वयं 2020 व 2021 बैच के IAS टॉपर प्रदीप सिंह, निशांत कुमार, अल्तमश गाजी व अन्य टॉपर्स सेमिनार के माध्यम से सफलता की रणनीति अभ्यर्थियों के साथ साझा करेंगे। इस हेतु जिला प्रशासन, मुजफ्फरपुर के सहयोग से NACS के द्वारा दिनांक 12 मार्च को दिन के 10 बजे जुब्बा सहनी ऑडिटोरियम, मुजफ्फरपुर में एक ओपन सेमिनार रखा गया है जिसमे कोई भी अभ्यर्थी जो IAS बनना चाहते है वे भाग ले सकते है। ये सभी टॉपर्स इस सेमिनार में अभ्यर्थियों के साथ सिविल सर्विसेस परीक्षा से जुड़ी तमाम बारीकियों, कठिनाइयों और चुनौतियों को साझा करेंगे।

clat

देश ही नही दुनिया के सबसे कठिनतम माने जाने वाले इस परीक्षा की तैयारी कब शुरू करे, तैयारी का माध्यम क्या हो, वैकल्पिक विषयों का चयन कैसे किया जाय, पढ़ाई की रणनीति क्या हो, लंबे समय तक मनोबल कैसे बनाये रखे, साक्षात्कार कैसे फेस करे जैसे तमाम तरह के सवालों और आशंकाओं का समाधान इस सेमिनार में इन सफल अधिकारियों द्वारा किया जाएगा।

NACS (National Association of Civil Servants) द्वारा आयोजित इस सेमिनार का मुख्य उद्देश्य यह है कि अभ्यर्थी सीधे उन टॉपर्स से बात करे जो स्वयं इस साल सफलता का स्वाद चख चुके है ताकि वे भी अपनी तैयारी को एक नई धार व दिशा दे सके। उल्लेखनीय है NACS सीनियर IAS अधिकारी श्री बी के प्रसाद के मार्गदर्शन में स्थापित एवं संचालित बिहार और झारखंड के सिविल सेवकों का एक ऐसा संगठन है जो 2014 से लगातार बिहार-झारखंड के अभ्यर्थियों को सिविल सेवा हेतु मार्गदर्शन प्रदान करता रहा है। इस बार सिविल सेवा परीक्षा 2020 में मेंस क्लियर कर चुके अभ्यर्थियों के लिए इंटरव्यू गाइडेंस प्रोग्राम यानी IGP चलाया गया जिसमें 58 अभ्यर्थियों ने भाग लिया था। इनमें से रैंक 1 शुभम कुमार सहित कुल 25 से भी ज्यादा अभ्यर्थी अंतिम रूप से चनयनित हुए थे।

prashant-honda-muzaffarpur

इस सफलता को देखकर NACS अब और बड़े स्तर पर सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करने वाले अभ्यर्थियों को मार्गदर्शन प्रदान करना चाहता है ताकि बिहार-झारखंड से IAS के चयन को बढ़ाया जा सके। इसी कड़ी में अब मुजफ्फरपुर में भी इस सेमिनार का आयोजन किया जा रहा है। सेमिनार की अध्यक्षता जिला कलेक्टर श्री प्रणव कुमार करेंगे जो स्वयं 2008 बैच के IAS अधिकारी है। साथ ही इस सेमिनार में SSP श्री जयंत कांत, नगर आयुक्त श्री विवेक रंजन IAS 2017 बैच, DDC श्री आशुतोष द्विवेदी IAS 2018 बैच, श्री शरथ , IPS प्रशिक्षु मौजूद रहेंगे और अभ्यर्थियों का मार्गदर्शन करेंगे। इसके अलावा सेमिनार के संयोजक संतोष कुमार भी अभ्यर्थियों को मोटिवेट करेंगे जो स्वयं 2014 बैच के IAS है तथा वर्तमान में अरुणाचल प्रदेश में कर्मचारी चयन बोर्ड के सचिव है। अधिक जानकारी के लिए अभ्यर्थी NACS के ट्विटर हैंडल @NacsBihar_JH एवं फेसबुक पेज National Association of Civil Servants-Bihar & Jharkhand से जुड़े रहे।

nps-builders

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

Continue Reading
BIHAR7 hours ago

सुशील मोदी का दावा राज्य में टल सकता हैं निकाय चुनाव, SC के ऑर्डर को बताया टाइपो एरर

INDIA8 hours ago

दिसंबर में 13 दिन बंद रहेंगे बैंक, आरबीआई ने जारी की छुट्टी की लिस्ट

MUZAFFARPUR9 hours ago

कोहरे के कारण लिच्छवी समेत 12 ट्रेनें 3 महीने तक रद्द

BIHAR22 hours ago

नगर निकाय चुनाव की हुई घोषणा, 2 चरणों में संपन्न होंगे चुनाव

BIHAR23 hours ago

पटना में राक्षस कैफे का हुआ उद्घाटन

MUZAFFARPUR23 hours ago

स्वास्थ्य सचिव सेंथिल ने होमी भाभा कैंसर अस्पताल के दक्षिण गेट का किया उद्घाटन

BIHAR1 day ago

मधुर भंडारकर की फिल्म में नजर आएगी बिहार की बेटी आयशा

baalu-sand-ghar
BIHAR1 day ago

बिहार में बालू खनन होगा बंद, नीतीश सरकार ने विभागों को जारी किया नोटिस

JOBS1 day ago

केंद्रीय विद्यालयों में 13 हजार पदों पर बंपर बहाली

BIHAR1 day ago

फैसला : अब मैट्रिक पास ही बनेंगी आंगनबाड़ी सहायिका और इंटर पास सेविका

TRENDING3 weeks ago

प्यार की खातिर टीचर मीरा बनी आरव, जेंडर बदल कर स्कूल स्टूडेंट कल्पना से रचाई शादी

MUZAFFARPUR4 weeks ago

इंतजार की घड़ी खत्म: 12 साल पहले बना सिटी पार्क 15 नवंबर से पब्लिक के लिए खुलेगा

TRENDING4 weeks ago

गेयर बदलने के स्टाइल पर हो गई फिदा, करोड़पति महिला ने ड्राइवर से ही रचा ली शादी

INDIA2 weeks ago

गर्लफ्रेंड शादी करना चाहती थी, प्रेमी ने उसके 35 टुकड़े किए, कई दिन फ्रिज में रखा

SPORTS2 weeks ago

खुशखबरी! टी20 वर्ल्ड कप में हार के बाद भारतीय टीम में फिर होगी धोनी की वापसी

MUZAFFARPUR4 weeks ago

सोनपुर मेला के लिए रेलवे की तैयारी पूरी,मुजफ्फरपुर से चलेगी 4 जोड़ी स्पेशल ट्रेन

ENTERTAINMENT3 weeks ago

‘कसौटी जिंदगी की’ एक्टर सिद्धांत वीर सूर्यवंशी का जिम में वर्कआउट करते वक्त निधन

MUZAFFARPUR3 weeks ago

सोनपुर मेले में भारी भीड़ को देखते हुए आज और कल मुजफ्फरपुर से चलेगी स्पेशल ट्रेनें

OMG4 weeks ago

पाकिस्तानी एक्ट्रेस सेहर शिनवारी का जिम्बाब्वे को ऑफर, इंडिया को हराया तो तुमसे करूंगी शादी

BIHAR3 weeks ago

भोजपुरी एक्ट्र्रेस अक्षरा सिंह की बढ़ीं मुश्किलें, पटना के घर पर पुलिस ने चिपकाया इश्तेहार

Trending