Connect with us

BUSINESS

पैसों की जरूरत हो तो लोन की जगह लें ये सुविधा; होगा बड़ा फायदा

Published

on

अक्सर जब पैसों की जरूरत होती है तो हम सब या तो दोस्तों या रिश्तेदारों से कर्ज लेते हैं या फिर बैंक के पास लोन के लिए अप्लाई करते हैं। लेकिन क्या आपने कभी ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी (overdraft facility) के बारे में सुना है। अगर नहीं तो ये जान लीजिए कि ये ऐसी सुविधा है जिसके तहत आप अपने खाते में मौजूद रकम से ज्यादा पैसा निकाल सकते हैं। रह गए न हैरान ! आप सोच रहे होंगे कि ऐसा कैसे मुमकिन है ! लेकिन यह बिल्कुल संभव है। आपको बस कुछ जरूरी शर्तें फॉलो करनी होंगी। हम आपको बताते हैं कि क्या है ये ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी और यह आपको कैसे मिलेगी।

Genius-Classes

क्या है Overdraft Facility

Advertisement

आमतौर पर हम सोचते हैं कि हम अपने बैंक अकाउंट से उतना ही पैसा निकाल सकते हैं, जितना उसमें जमा है। लेकिन, कई बैंक और नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियां (NBFC) अपने ग्राहकों को मौैजूद रकम से ज्यादा पैसे निकालने की सुविधा देती हैं। इसे ही ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी कहते हैं। इसका फायदा तब मिलता है जब आपको पैसे की अचानक जरूरत पड़ जाए। दरअसल, यह एक तरह का लोन ही है। इसके तहत आप बैंक अकाउंट में मौजूद बैलेंस से ज्यादा पैसे निकाल सकते हैं।

कब तक वापस करना होगा पैसा

Advertisement

आप जितना अमाउंट निकालते है, उसे एक निश्चित अवधि के भीतर चुकाना होता है। ऐसा न करने पर ब्याज भी लगता है। यह ब्याज रोजमर्रा आधार पर कैलकुलेट होता है। आपको कितना ओवरड्राफ्ट मिलेगा यानी इसकी लिमिट क्या रहेगी, यह बैंक या NBFCs तय करते है। अलग-अलग बैंकों और नॉन बैंकिंग कंपनियों में यह लिमिट अलग-अलग हो सकती है।

कैसे मिलती है यह फैसिलिटी

Advertisement

बैंक और नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियां अपने कुछ कस्‍टमर्स को यह सुविधा प्री-अप्रूव्ड देते हैं। जबकि कुछ ग्राहकों को इसके लिए अलग से आवेदन करना होता है। आप बैंक की ब्रांच या इंटरनेट बैंकिंग के जरिए भी अप्‍लाई कर सकते हैं। कुछ बैंक इस सर्विस के लिए फीस भी लेते हैं। इसलिए बेहतर है कि ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी के लिए अप्‍लाई करने से पहले प्रोसेसिंग फीस के बारे में जानकारी प्राप्त कर लें। आमतौर पर बैंक सैलरी अकाउंट के बदले भी ओवरड्राफ्ट देते हैं। आपकी ओवरड्राफ्ट लिमिट सैलरी का 2 से 3 गुना हो सकती है। इस तरह के ओवरड्राफ्ट सुविधा के लिए आपका सैलरी अकाउंट उसी बैंक में होना चाहिए. जिससे आप ओवरड्राफ्ट लेना चाहते हैं।

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

कितने तरह की होती है फैसिलिटी

Advertisement

ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी दो तरह की होती है, एक सिक्योर्ड और दूसरी नॉन अनसिक्योर्ड। सिक्योर्ड ओवरड्राफ्ट वह है, जिसमें सिक्योरिटी के तौर पर कुछ गिरवी रखा जाता है, जैसे FD, शेयर, घर, सैलरी, इंश्योरेंस पॉलिसी आदि। अगर आपके पास कुछ भी सिक्योरिटी के तौर पर देने के लिए नहीं है तो भी आप ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी ले सकते हैं, लेकिन इसका तरीका अलग है। क्रेडिट कार्ड से पैसा निकालना अनसिक्योर्ड ओवरड्राफ्ट का उदाहरण है। पर्सनल लोन के मुकाबले ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी अच्छा विकल्प है। तय अवधि से पहले भी बिना कोई चार्ज दिए आप बैंक को पैसे वापस कर सकते हैं। ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी में आपको ब्याज भी केवल उतने ही समय का देना होता है, जितने वक्त तक आपने ओवरड्राफ्ट अमाउंट अपने पास रखा है।

Source : Dainik Jagran

Advertisement

nps-builders

Digital media channel which brings the latest updates from across Muzaffarpur, Bihar and India as a whole.

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

BUSINESS

मटके में भी मशरूम उगा कर किसान कमा सकते हैं बंपर मुनाफा

Published

on

मशरूम की खेती से कई किसान बंपर मुनाफा कमा रहे हैं. इससे प्रेरित होकर अन्य किसानों भी इसकी खेती की तरफ रुख करना शुरू कर दिया है. मशरूम की खेती की सबसे खास बात है कि बाजार में ये हाथों-हाथ बिक जाता है. साथ ही इससे बिस्किट, नमकीन जैसे कई अन्य तरह के प्रोडक्ट बनाकर बढ़िया मुनाफा कमा सकते हैं.

बता दें कि मशरूम की खेती करने में पहले लोग हिचकते थे. उनका मानना था कि इसकी खेती करना बेहद खर्चीला है. इसके लिए बकायदे सेटअप तैयार किया जाता है. लेकिन हम आपको बता रहे हैं कि कैसे कम खर्च में अपने घर पर मटके में ऑयस्टर मशरूम ( ढींगरी मशरूम) को उगा सकते हैं.

Advertisement

साल में कभी भी करें ऑयस्टर मशरूम की खेती

हरियाणा के हिसार जिला के सलेमगढ़ गांव के रहने वाले 24 वर्षीय विकास वर्मा बड़े पैमाने पर मशरूम की खेती करते हैं. वह अपने फार्म में सबसे ज्यादा ऑयस्टर मशरूम की खेती करते हैं. उनके मुताबिक इस मशरूम की खेती साल भर की जा सकती है. अन्य प्रकार के मशरूमों की खेती के मुकाबले इसमें नुकसान भी कम होता है.

Advertisement

मटके में ऐसे करें मशरूम की खेती

विकास बताते हैं कि ज्यादातर लोग मशरूम की खेती करने के लिए आयताकार सांचे बनाते हैं. यह प्रकिया थोड़ी खर्चीली है. ऐसे में किसान मटके में भी मशरूम उगा सकते हैं. इसके लिए सबसे पहले आपको एक मटका लेना होगा. मटके में चारों तरफ छोटे-छोटे छेद कर दें. इसके बाद, उस मटके के अंदर नमी युक्त भूसा भरें. इस दौरान मटके के अंदर मशरूम का बीज भी डाल दें. इसके बाद, उन छेदों को रूई की मदद से बंद कर दें. मटके का मुंह किसी मोटे कपड़े से बांध दें, ताकि नमी मटके के बाहर न निकल सके.

Advertisement

इसके बाद उस मटके को अंधेरे कमरे में 12 से 15 दिन के लिए रख दीजिए. करीब 15 दिनों में मशरूम के स्पॉन बीज, पूरी तरह से फैलकर विकसित हो जाएंगे.लगभग 3 हफ्ते बाद कपड़े को हटाकर मटके को देखें.आपको छेद में से मशरूम के छोटे-छोटे सफेद बड दिखाई देंगे. जब बड गुच्छे में तब्दील होकर ऊपर की तरफ मुड़ने लगे तो इसकी तुड़ाई करना शुरू कर दें.

कम हो जाएगी किसानों की लागत

Advertisement

इस तकनीक का इस्तेमाल करने के दौरान किसानों को एक तो खर्च कम आएगा. दूसरा मटके के अंदर का तापमान हमेशा ठंडा रहता है. ऐसे में मशरूम के विकास के लिए ये काफी फायदेमंद साबित हो सकता है, जिससे किसान बढ़िया मुनाफा हासिल कर सकता है.

Source : Aaj Tak

Advertisement

Genius-Classes

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Continue Reading

BUSINESS

क्रेडिट कार्ड यूजर्स के लिए अच्छी खबर, अब UPI के जरिए भी कर सकेंगे पेमेंट

Published

on

अब क्रेडिट कार्ड यूजर्स भी डेबिट कार्ड की तरह UPI से पेमेंट कर सकेंगे. भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बुधवार को इसका ऐलान किया है. आरबीआई यूपीआई के काम करने के तरीके में एक बड़ा बदलाव करने जा रही है.

इस सुविधा के तहत सबसे पहले स्वदेशी रुपे क्रेडिट कार्ड को यूपीआई से लिंक किया जा सकेगा. इसके बाद वीजा  और मास्टरकार्ड जैसे अन्य कार्ड होल्डर इसफा फायदा उठा पाएंगे. अब तक, ग्राहक केवल अपने डेबिट कार्ड को UPI से लिंक कर सकते थे.

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

ऑनलाइन पेमेंट का नया जरिया मिलेगा

यह ऐलान करते हुए आरबीआई गवर्नर ने कहा, “अब तक सिर्फ डेबिट कार्ड के जरिए सेविंग्स /करेंट अकाउंट्स को UPI ट्रांजेक्शन के लिए लिंक किया जा सकता था. अब यूपीआई प्लेटफॉर्म पर क्रेडिट कार्ड को जोड़ने का प्रस्ताव है. शुरुआत में रुपे क्रेडिट कार्ड को यूपीआई से जोड़ा जा सकेगा” उन्होंने कहा कि इस सुविधा से कस्टमर्स को यूपीआई प्लेटफॉर्म के जरिए पेमेंट के लिहाज से दूसरे विकल्प भी उपलब्ध होंगे. कस्टमर जल्द ही इस सुविधा का लाभ उठा पाएंगे.

Advertisement

nps-builders

कई कस्टमर को मिलेगा फायदा

यूपीआई देश में पेमेंट करने का सबसे लोकप्रिय जरिया बन गया है. आज देश में करीब 26 करोड़ लोग यूपीआई का इस्तेमाल करते हैं. वहीं, 5 करोड़ से ज्यादा व्यापारी इसका इस्तेमाल कर रहे हैं.  एक्सपर्ट्स का मानना है कि क्रेडिट कार्ड को यूपीआई से लिंक करने से कस्टमर को पेमेंट का नया ऑप्शन मिलेगा. देश में क्रेडिट कार्ड यूजर्स की संख्या लगातार बढ़ रही है. देश में अब कई छोटी-बड़ी दुकानों पर यूपीआई का इस्तेमाल किया जा रहा है.

Advertisement

आरबीआई ने बढ़ाई रेपो रेट

आरबीआई गवर्नर ने आज रेपो रेट बढ़ाकर अब 4.90 फीसदी करने की घोषणा की है. केंद्रीय बैंक ने वित्त वर्ष 2023 में खुदरा महंगाई दर 7.5 फीसदी रहने का अनुमान जताया है. हालांकि, अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि क्रेडिट कार्ड का उपयोग करके किए गए UPI लेनदेन के लिए मर्चेंट डिस्काउंट रेट (MDR) कैसे लागू होगा, क्योंकि प्रत्येक लेन-देन के लिए व्यापारी लेन-देन की राशि का एक निश्चित भुगतान करता है, जिसे बाद में बैंकों और पेमेंट सर्विस प्रोवाइडरों के बीच बांटी जाती है.

Advertisement

Source : News18

Advertisement
Continue Reading

BUSINESS

नौकरी के साथ शुरू करें यह बिजनेस, करोड़ों रुपये की होगी कमाई

Published

on

अगर आप भी अच्छी कमाई करना चाहते हैं तो हम आपको एक ऐसी खेती करने का आइडिया  दे रहे हैं, जिसमें आप लाखों रुपये आराम से कमा  सकते हैं. दरअसल चंदन की एक ऐसी लकड़ी है, जिसकी देश-विदेश में जबरदस्त मांग है. चंदन की खेती में जितनी आपकी लागत आएगी उससे कई गुना बेहतर कमाई  हो जाएगी.

Under the Radar: How sandalwood is transforming crime and commerce in Asia | Global Risk Insights

आज हम आपको चंदन की खेती  के बारे में बात कर रहे हैं. चंदन की लकड़ी दुनिया की सबसे महंगी लकड़ी में गिनी जाती है. जब आप नौकरी कर रहे हैं, तभी इन पौधों को लगा दें. फिर 10-15 साल बाद चंदन के पौधों से बंपर कमाईपैसा होना शुरू हो जाएगी.

Advertisement

जानिए कैसे करें चंदन की खेती

चंदन के पेड़ों को दो तरीकों से तैयार किया जा सकता है. पहला ऑर्गेनिक और दूसरा परंपरागत तरीके से तैयार किया जाता है. ऑर्गेनिक तरीके से चंदन के पेड़ तैयार करने में करीब 10 से 15 साल लगते हैं और वहीं परंपरागत तरीके से पेड़ को तैयार होने में करीब 20 से 25 साल का समय लगता है.

Advertisement

Amazon.com: Sandalwood Sticks Wild Harvested High Resin Smudging Sticks,Perfect Smudge Stick for Mediation Yoga or Prayer, All Natural Light Scented Sandalwood Sticks, Pack of 20 Holy Sticks. : Home & Kitchen

इसे शुरू के 8 सालों तक किसी बाहरी सुरक्षा की जरूरत नहीं होती है। उसके बाद इसमें खुशबू आने लगती है. लिहाजा ऐसे में इसके चोरी-छिपे काटे जाने का डर रहता है. इसलिए आपको पेड़ को पूरी तरह तैयार होने तक उसे जानवरों और अन्य लोगों से बचाकर रखना होगा. इसके पेड़ रेतीले और बर्फीले इलाकों को छोड़कर हर जगह उगाए जा सकते हैं.

पेड़ से 5 लाख रुपये की कमाई

Advertisement

चंदन  का इस्तेमाल तमाम चीजों में होता है. इसका सबसे ज्यादा उपयोग परफ्यूम बनाने में किया जाता है. इसके अलावा ब्यूटी प्रोडक्ट्स बनाने में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है. आयुर्वेदिक दवा बनाने के लिए भी चंदन का इस्तेमाल किया जाता है.
अगर चंदन का एक पेड़ लगाते हैं तो साल में आप 5 लाख रुपये तक कमा सकते हैं. वहीं अगर आप 100 पेड़ लगाने में कामयाब रहते हैं और बड़े होने पर उनकी लकड़ी बेचते हैं तो आपको 5 करोड़ रुपये तक की कमाई हो सकती है.

जानिए पौधे की कीमत

Advertisement

अगर आप चंदन  का पौधा लगाते हैं तो किसी किसी भी अच्छी नर्सरी में यह 100 रुपये से 150 रुपये तक में मिल जाएगा. चंदन का पौधा परजीवी होता है यानी कि वह खुद जमीन में जीवित नहीं रह सकता. उसे जीवित रहने के लिए किसी के सहारा की जरूरत होती है.यानी उसके साथ एक होस्ट पौधे की जरूरत होती है.

यह होस्ट पौधा 50-60 रुपये में आ जाता है. जब पेड़ बड़ा हो जाता है तो किसान हर साल उससे 15-20 किलो लकड़ी आसानी से काट सकता है. बाजार में यह लकड़ी करीब 30 हजार रुपये प्रति किलो तक बिकती है. ऐसे में एक पेड़ लगाने पर आपको हर साल करीब 5 लाख रुपये की आमदनी हो सकती है.

Advertisement

सरकार के इस कानून का रखें ध्यान

अगर आप भी चंदन की बागवानी  का मन बना रहे हैं तो एक बात और जान लीजिए. साल 2017 में सरकार ने कानून बनाकर चंदन की लकड़ी की खरीद-बिक्री पर पूरी तरह रोक लगा दी है. यानी कि आप चंदन के पेड़ लगा तो सकते हैं लेकिन उसकी लकड़ी केवल सरकार को ही बेच सकते हैं. ऐसा करने पर भी हर साल लाखों से लेकर करोड़ों रुपये तक फायदा होता है. वहीं किसी और से चंदन खरीदने या बेचने पर कानूनी कार्रवाई भी हो सकती है.

Advertisement

(मुजफ्फरपुर नाउ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Haldiram Bhujiawala, Muzaffarpur - Restaurant

Advertisement
Continue Reading
BIHAR6 hours ago

जिस पति को पाने के लिए घर से की बगावत उसी ने शादी के महज तीन साल बाद दी दर्दनाक मौत

MUZAFFARPUR7 hours ago

सावन के हरे रंग में सराबोर हुई सुहागिनें खूब लगाए ठुमके

BIHAR9 hours ago

ललन सिंह बोले- नीतीश कुमार का कद घटाने को हुआ षड्यंत्र, आरसीपी थे दूसरा ‘चिराग मॉडल’

BIHAR14 hours ago

पटना हाईकोर्ट ने दिया आदेश, बिहार के 14 कॉलेजों की मान्यता होगी रद्द

INDIA14 hours ago

राम और रामायण से जुड़े स्थलों को देखें फिर से एक बार, 24 से शुरू हो रही है रामायण सर्किट रेल यात्रा

INDIA16 hours ago

इस्लामिक अध्ययन के 2 छात्रों ने जीता रामायण क्विज, धाराप्रवाह पढ़ते हैं संस्कृत श्लोक

MUZAFFARPUR16 hours ago

रोक सूची में खेसरा संग थाना व वार्ड का नंबर भी

MUZAFFARPUR19 hours ago

मुजफ्फरपुर : स्मैकियों की 180 दिनों तक जमानत रोकने को पुलिस देगी अर्जी

BIHAR19 hours ago

शादी करने के लिए पटना से पानीपत पहुंच गए 5 नाबालिग, पुलिस भी हैरान

BIHAR19 hours ago

पारस अस्पताल के डाॅक्टर पर रेप का आराेप, गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस टीम पर बाउंसर्स ने किया हमला

BIHAR4 weeks ago

आईटीआई पास छात्रों को अग्निवीर बनने का मौका

BIHAR3 weeks ago

बिहार दारोगा रिजल्ट : छोटी सी दुकान चलाने वाले सख्स की दो बेटियाँ एक साथ बनी दारोगा

job-alert
BIHAR1 week ago

बिहार: मैट्रिक व इंटर पास महिलाएं हो जाएं तैयार, जल्द होगी 30 हजार कोऑर्डिनेटर की बहाली

INDIA3 weeks ago

प्यार के आगे धर्म की दीवार टूटी, हिंदू लड़के से मुस्लिम लड़की ने मंदिर में की शादी

BIHAR3 weeks ago

बिहार में तेल कंपनियों ने जारी की पेट्रोल-डीजल की नई दरें

BIHAR4 weeks ago

बिहार में युवक की पीट-पीटकर हत्या, प्राइवेट पार्ट को काट डाला

BIHAR4 days ago

बीपीएससी 66वीं रिजल्ट : वैशाली के सुधीर बने टॉपर ; टॉप 10 में मुजफ्फरपुर के आयुष भी शामिल

BIHAR4 weeks ago

पिता ने ट्यूशन फीस के लिए दिए 60 हजार रुपए, बेटे ने साइलेंसर वाली पिस्टल खरीद पिता की हत्या

BIHAR2 days ago

एक साल में चार नौकरी, फिर शादी के 30वें दिन ही BPSC क्लियर कर गई बहू

BIHAR3 weeks ago

बिहार : अब शिकायत करें, 3 से 30 दिनों के भीतर सड़क की मरम्मत हाेगी

Trending