Connect with us

WORLD

भारतीय डॉक्टर ने अपने पालतू जगुआर और तेंदुए के बिना यूक्रेन छोड़ने से किया इनकार

Published

on

युद्धग्रस्त यूक्रेन से भारतीयों को निकालने का सिलसिला जोरों पर है। रोजाना सैकड़ों भारतीय यहां से वापस भारत लाए जा रहे हैं। इस बीच ऐसे मामले भी सामने आए हैं जहां कुछ लोग अपने पालतू जानवरों के बिना यूक्रेन छोड़ने को तैयार नहीं हैं। इन्हीं में से एक हैं भारतीय डॉक्टर गिरिकुमार पाटिल। वह अपने पालतू पैंथर और जगुआर के बिना यूक्रेन छोड़ने के लिए राजी नहीं हैं। जानवरों से प्रेम के लिए गिरिकुमार को यहां जगुआर कुमार के नाम से भी जाना जाता है। उनके पास एक जगुआर और एक पैंथर है।

Advertisement

पाटिल का कहना है कि उन्होंने इस संबंध में भारतीय दूतावास से भी संपर्क किया था, लेकिन उन्हें कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला। उन्होंने कहा कि मेरा इलाका रूसी सैनिकों से घिरा हुआ है और में हरसंभव कोशिश कर रहा हूं। मैं इन्हें अपने बच्चों की तरह प्यार करता हूं।

May be an image of 1 person and big cat

यूक्रेन से भारत आने वाले छात्रों के साथ पालतू कुत्ते और बिल्लियां भी आ रही हैं। भारतीय नागरिकों के साथ-साथ इन विदेशी जानवरों को भी देश में लाने के लिए सरकार ने विशेष दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसके तहत कुत्ते, बिल्ली को लेकर मालिकाना हक साबित करना होगा। साथ ही इनके सभी तरह के टीकाकरण और स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारियां भी प्रमाणित करने बाद ही दूसरे देश में जाने की इजाजत दी जा सकती है।

Advertisement

prashant-honda-muzaffarpur

nps-builders

clat

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WORLD

सड़क पर मिले 38 लाख रुपये, गरीबी के बावजूद वापस लौटा दिए, इसी ईमानदारी ने ज़िन्दगी बदल दी

Published

on

बढ़ती जरूरतों के इस दौर में लोगों के अंदर कम हो रही ईमानदारी के बीच एक अफ्रीकी देश का ये लड़का ईमानदारी की मिसाल बन चुका है. आर्थिक तंगी से जूझने के बावजूद इस लड़के ने सड़क किनारे मिले लगभग 38 लाख रुपये उसके मालिक को सौंप दिए. भले ही इस लड़के ने उन पैसों में से एक रुपया नहीं लिया लेकिन किस्मत ने उसे उसकी ईमानदारी का ऐसा इनाम दिया कि आज वह दुनिया भर की मीडिया में चर्चा का विषय बना हुआ है.

nps-builders

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार 19 साल का इमैनुएल टुलो पश्चिमी अफ्रीकी देश लाइबेरिया का रहनेवाला है. मोटरबाइक टैक्सी ड्राइवर का काम करने वाले टुलो की कमाई इतनी कम है कि वह रोजाना होने वाले खर्चों तक को पूरा नहीं कर पाता. ऐसे में उसे एक दिन सड़क किनारे एक बैग के रूप में ऐसा खजाना मिला जिससे उसकी जिंदगी भर की तकलीफें दूर हो सकती थीं. दरअसल उसे सड़क किनारे एक बैग मिला जो लगभग 38 लाख रुपये के लाइबेरियन और अमेरिकी नोटों से भरा हुआ था.

Advertisement

वह चाहता तो इन पैसों से अपनी जिंदगी बदल सकता था लेकिन उसने ऐसा नहीं किया और वो पैसे अपनी चाची को देते हुए कहा कि सरकारी रेडियो पर अगर इन पैसों के लिए कोई अपील करता है, तो वो उसे दे देगा. उसकी इस ईमानदारी का लोगों ने खूब मजाक भी उड़ाया. कुछ ने तो उसे कहा कि वो गरीबी में ही मरेगा. लेकिन लोगों की बातों की परवाह न करते हुए टुलो अपनी सच्चाई और ईमानदारी पर कायम रहा. ये तो उसे भी नहीं पता था कि उसे उसकी ईमानदारी के लिए ऐसा इनाम मिलने वाला है जिससे वह पूरी दुनिया में चर्चित हो जाएगा.

राष्ट्रपति से मिला ईमानदारी का इनाम

Advertisement

टुले की इस ईमानदारी की खबर देश के राष्ट्रपति जॉर्ज विया तक पहुंच गई. जिसके बाद उन्होंने उसे 8 लाख रुपये का इनाम देने के साथ साथ देश के सबसे प्रतिष्ठित स्कूल में दाखिला भी दिलवाया. अब टुले अपने से 6 साल छोटे बच्चों के साथ पढ़ाई कर रहा है. इसके साथ ही इस ईमानदार लड़के को ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए एक अमेरिकी कॉलेज ने फुल स्कॉलरशिप का ऑफर दिया है.

इमैनुएल को राष्ट्रपति द्वारा मिले लगभग 8 लाख रुपए के साथ साथ एक लोकल मीडिया के मालिक की तरफ से वो कैश भी मिला जो व्यूअर्स और लिसनर्स ने उसके लिए भेजा था. इतना ही नहीं बल्कि इमैनुएल कोउस शख्स की तरफ से भी 1 लाख से ज्यादा रुपयों का इनाम मिला जिसके पैसे उसने लौटाए थे. वहीं अमेरिका के एक कॉलेज ने सेकेंडरी एजुकेशन समाप्त होने के बाद उसे फुल स्कॉलरशिप देने की पेशकश की है।

Advertisement

Genius-Classes

इमैनुएल उन बहुत से लाइबेरियन बच्चों में से एक है जिन्हें गरीबी के कारण स्कूल छोड़कर नौकरी करनी पड़ती है. इमैनुएल ने भी 9 साल की उम्र में अपने पिता की मौत के बाद पढ़ाई छोड़ दी थी. उसके बाद वह अपनी चाची के साथ रहता था. परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिए उसने मोटरबाइक टैक्सी चलाने का काम शुरू किया था. “अब अपनी ईमानदारी के कारण इमैनुएल फिर से पढ़ाई कर पा रहा है. उसे सेकंडरी स्कूल की पढ़ाई को पूरा करने में 6 साल लगेंगे. और 25 साल की उम्र में वो ग्रेजुएट हो जाएगा. इमैनुएल यूनिवर्सिटी में अकाउंटिंग की पढ़ाई करना चाहता है. जिससे कि वह देश की अर्थव्यवस्था को संभालने में योगदान दे सके. ”

Source: India Times

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Genius-Classes

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

Continue Reading

WORLD

कुत्ते कब इंसान के साथी बने थे, हिमयुग के DNA ने दिया जवाब

Published

on

वैसे तो घोड़े, बिल्ली और अन्य जानवर भी इंसान के पालतू जानवरों की श्रेणी मे आते हैं. लेकिन कुत्तों की बात ही अलग है. लेकिन कुत्ते हमेशा ही इंसान के दोस्त नहीं थे. जानवरों का इतिहास बताता है कि जंगली भेड़ियों से अलग होने के बाद ही कुत्तों का घरेलूकरण होना शुरू हो गया था, लेकिन यह कब और कैसे हुआ यह अभी तक रहस्य ही बना हुआ था. जीनोम सीक्वेंसिंग के जरिए नए अध्ययन में हिमयुग से बर्फ में दबे जंगली भेड़ियों के अवशेष और उनके DNA से पता चला है कि कैसे जंगली भेड़िए इंसानों के दोस्त होते चले गए.

nps-builders

पुरातन भेड़ियों के जीनोम सीक्वेंसिंग

Advertisement

यूके के फ्रांसिस कर्क इंस्टीट्यूट के अनुवाशिकविद एंडर्स् बर्गस्ट्रॉम ने बताया कि वैज्ञानिकों ने इस प्रोजेक्ट के जरिए पुरातन भेड़ियों के जीनोम की सीक्वेंसिंग की संख्या में भारी मात्रा में इजाफा किया जिससे शोधकर्ताओं को भेड़ियों के वंश के इतिहास की विस्तार से जानकारी मिल सकी और वे कुत्ते के उदय के समय का पता लगा सके.

भेड़ियों के वंश इतिहास में कुत्ते

Advertisement

बर्गस्ट्रॉम ने बताया कि वंश के इतिहास की इस तस्वीर में कुत्तों को सही जगह पर रखने के प्रयास में शोधकर्ताओं ने पाया कि कुत्ते अपना वंशइतिहास कम से कम दो अलग भेड़ियों की जनसंख्या से लेकर कर आए हैं. इनमें से एक पूर्वी स्रोत है जिसका सभी कुत्तो में योगदान है और एक अलग पश्चिमी स्रोत है जिसका कुछ कुत्तों में योगदान है.

धुंधला कालक्रम

Advertisement

आज के, छोटे चिहुआहुआ से लेकर ताकतवर मास्टिफ, सभी पालतू कुत्ते एक ही प्रजाति के हैं, वह है कैनिस फैमिलियारिस है. वहीं भेड़ियों के सभी वंशज आज के भूरे भेड़ियों (कैनिस लूपस) के साझेदार हैं. लेकिन इनका कालक्रम बहुत ही धुंधला और विवादित रहा है. कई वैज्ञानिकों ने सुझाया है कि यह प्रक्रिया एक लाख साल से भी ज्यादा पहले के समय से शुरू हुई थी. लेकिन इस पर भी विवाद है.

कब हुई शुरुआत

Advertisement

हालिया अध्ययन में बर्गस्ट्रॉम और उनका साथियों ने 100 से 32000 साल के बीच के कुत्तों का डीएनए को शामिल किया और पाया कि कुत्ते 11 हजार साल पहले अलग हुए थे और उनके अलग होने की प्रक्रिया इससे पहले ही शुरू हुई होगी. माना जाता रहा कि कुत्तों का घरेलूकरण यानि भेड़ियों से अलग होने की प्रक्रिया करीब 40 से 20 हजार साल पहले शुरू हुई होगी और यह भी कि ऐसा दुनिया के अलग अलग हिस्सों में हुआ होगा.

जीनोम की तुलना

Advertisement

यह शोध 72 पुरातन भेड़ियों के जीनोम पर आधारित है, जिसमें से 66 को हाल ही में विश्लेषण के लिए स्कैन किया गया था करीब एकलाख साल पुराने हैं. इसमें यूरोप, साइबेरिया और उत्तर अमेरिका के भेड़ियों की करीब 30 हजार पीढ़ियों को शामिल किया है. इनकी तुलना आधुनिक भेड़ियों, पुरातन और आधुनिक कुत्तों और कोयोट्स जैसे अन्य कैनिड प्रजातियों के 68 जीनोम से तुलना की.

Environment, Evolution, History, Domestication of Dogs, Genome Sequencing, Grey Wolf, Dogs, Dogs became Human Friends, Ice Age,

साइबेरिया के अवशेष

Advertisement

इन नमूनों में कुछ साइबेरिया के स्थायी तुषार में 18 हाजर साल से दबे डोगोर कब और 32 हजार साल से दबे भेड़िया का सिर भी शामिल था. जीनोम ने खुलासा किया कि आधुनिक और पुरातन दोनों ही कुत्ते, यरोप की तुलना में एशिया में रहने वाले पुरातन भेड़ियों के ज्यादा नजदीकी संबंधी थे. इससे पता चला कि घरेलूकरण और विविधिकरण पश्चिम की जगह पूर्व में शुरू हुआ होगा.

Genius-Classes

नेचर में प्रकाशित इस अध्ययन से शोधकर्ता पुरातन भेड़ियों के बारे में और जानकारी भी हासिल कर सके. उन्हें यह भी पता लगा कि बहुत से म्यूटेशन और उससे संबंधित बदलाव सभी भेड़ियों और फिर कुत्तों में भी देखने को मिले. अब शोधकर्ता यह जानने का प्रयास कर रहे हैं वास्तव में कुत्ते भेड़ियों कि किस प्रजाति से अलग होना शुरू हुए थे.

Advertisement

Source : News18

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

Advertisement
Continue Reading

WORLD

वीडियो : हवा में उड़ता शॉपिंग मॉल, होटल और स्विमिंग पूल!

Published

on

आपने आसमान में उड़ते हुए हवाई जहाज जरूर देखे होंगे, लेकिन क्या आपने कभी ‘उड़ता होटल’ देखा है. जाहिर तौर पर आपका जवाब नहीं में होगा. लेकिन जिस हिसाब से विज्ञान तरक्की कर रहा है, अब वो वक्त ज्यादा दूर नहीं है, जब हम ‘उड़ने वाला होटल’ भी देख सकेंगे. एक वीडियो में इसकी झलक देखने को मिली है.

Genius-Classes

दरअसल, हाशेम अल-घैली नाम के यूट्यूब चैनल ने उड़ने वाले होटल का कॉन्सेप्ट वीडियो जारी कर लोगों को चौंका दिया है. वीडियो के मुताबिक, वह समय भी आएगा जब Nuclear-Powered Sky Hotel में लोग मौज-मस्ती कर सकेंगे.

Advertisement

लग्जरी सुविधाओं से लैस होगा!

कॉन्सेप्ट वीडियो के मुताबिक, उड़ने वाला होटल एक तरह का हवाई जहाज होगा, जो कभी जमीन पर लैंड नहीं करेगा. इसमें 5,000 यात्रियों के बैठने की व्यवस्था होगी. उड़ने वाला होटल तमाम तरह की लग्जरी सुविधाओं से लैस होगा.

Advertisement

वीडियो में दिखाया गया है कि कैसे इस उड़ने वाले होटल में रेस्तरां, एक विशाल शॉपिंग मॉल के साथ-साथ जिम, थिएटर और यहां तक ​​कि एक स्विमिंग पूल भी होगा.

VIDEO

Advertisement

वीडियो में बताया गया है कि ये Flying Hotel आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस से चलने वाला स्काई क्रूज होगा, जिसमें 20 इंजन होंगे. सभी इंजन न्यूक्लियर फ्यूजन की मदद से संचालित होंगे. प्लेन को कुछ इस तरह डिजाइन किया गया होगा कि ये कभी जमीन पर नहीं उतरेगा.

Advertisement

आम एयरलाइन कंपनियों के हवाई जहाज पैसेंजर्स को इस Flying Hotel तक लेकर लाएंगे और हवा में ही इसमें एंटर करेंगे. इस प्लेन के मेंटेनेंस का काम भी हवा में ही होगा. यूट्यूबर का दावा है कि परमाणु ऊर्जा से चलने वाला ये ‘स्काई क्रूज’ भविष्य हो सकता है.

‘डेली स्टार’ रिपोर्ट के मुताबिक, भले ही ये प्रोजेक्ट काफी बड़ा और अनोखा है लेकिन कुछ लोग इसकी आलोचना भी कर रहे हैं. उनका कहना है कि ‘उड़ने वाला होटल’ न्यूक्लियर पावर से चलेगा, ऐसे में अगर कभी ये क्रैश हुआ तो तबाही मच सकती है.

Advertisement

पूरा का पूरा शहर बर्बाद हो सकता है. वहीं, कुछ लोगों ने कहा कि जब भी ऐसा कुछ तैयार होगा, इसमें सफर करना बेहद महंगा होगा.

Source : Aaj Tak

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Continue Reading
INDIA34 mins ago

वीवो के ऑफिस में ईडी के छापे से भड़का चीन, कहा-कंपनियों का भरोसा टूटेगा

INDIA2 hours ago

किसान के झोपड़ी में 2 बल्ब, बिजली बिल एक लाख रुपये का

INDIA2 hours ago

महेंद्र सिंह धोनी ने इंग्लैंड में मनाया बर्थडे, पत्नी साक्षी और ऋषभ पंत भी रहे साथ

INDIA2 hours ago

काली विवाद के बीच अब लीना मणिमेकलई का एक और नया ट्वीट, ‘शिव-पार्वती’ को सिगरेट पीते हुए दिखाया

MUZAFFARPUR5 hours ago

गरीबनाथ मंदिर से अघोरिया बाजार तक हटाया अतिक्रमण

BIHAR5 hours ago

बिहार: दुल्हन बनी प्रेमिका की मांग में प्रेमी ने भर दिया सिंदूर, घरवाले ने पकड़कर जमकर पीटा

BIHAR5 hours ago

बिहार में फिर डराने लगा कोरोना, पटना में 7 डॉक्टर समेत 136 नए संक्रमित मिले; राज्यभर में 309 नए मरीजों की पहचान हुई

BIHAR7 hours ago

लालू यादव इलाज के लिए पटना से दिल्ली पहुंचे, हेमंत सोरेन ने शेयर की एयरपोर्ट पर मुलाकात की तस्वीर

MUZAFFARPUR7 hours ago

फिल्म ‘नफीसा’ बताएगी मुजफ्फरपुर के शेल्टर होम की सच्चाई, वर्ष के अंत में होगी मुजफ्फरपुर में शूटिंग

MUZAFFARPUR7 hours ago

कांवरियों के बाबा गरीबनाथ मंदिर तक पहुंचने के लिए प्रशासन का रूट चार्ट तैयार

INDIA3 days ago

IAS अतहर की होने वाली वाइफ हैं इतनी स्टाइलिश, फैशन के मामले में हीरोइनों को भी देती हैं मात!

MUZAFFARPUR1 day ago

मुजफ्फरपुर : पढ़ाने को विद्यार्थी नहीं हैं, लौटा रहा हूं तीन साल की तनख्वाह

TECH2 weeks ago

अब केवल 19 रुपये में महीने भर एक्टिव रहेगा सिम

BIHAR2 days ago

पटना की अनोखी शादी: जिस घर में 13 साल पहले नौकरानी बन आई वहीं से दुल्हन बन विदा हुई गुड़िया

BIHAR1 week ago

विधवा बहू की ससुरालवालों ने कराई दूसरी शादी, पिता बन कर ससुर ने किया कन्यादान

BIHAR2 weeks ago

बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद से मदद मांगना बिहार के बीमार शिक्षक को पड़ा महंगा

BIHAR4 weeks ago

गांधी सेतु का दूसरा लेन लोगों के लिए खुला, अब फर्राटा भर सकेंगे वाहन, नहीं लगेगा लंबा जाम

MUZAFFARPUR1 week ago

मुजफ्फरपुर: पुलिस चौकी के पास सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, अड्डे से आती थी रोने की आवाज

BIHAR4 weeks ago

समस्तीपुर के आलोक कुमार चौधरी बने एसबीआई के एमडी, मुजफ्फरपुर से भी कनेक्शन

BIHAR3 weeks ago

बिहार : पिता की मृत्यु हुई तो बेटे ने श्राद्ध भोज के बजाय गांव के लिए बनवाया पुल

Trending