Connect with us

HEALTH

चाबी-लकड़ी से कान साफ करना खतरे की घंटी, जानिए ईयर वैक्स निकालने का सही तरीका

Published

on

कान हमारे शरीर का एक बेहद अहम अंग है जो हमें सुनने की क्षमता प्रदान करता है, इसलिए इसका ख्याल रखना बेहद जरूरी है. फिर भी कई लोग कान की सफाई के नाम पर इसकी सेहत के साथ खिलवाड़ करते हुए नजर आते हैं. ऐसा नहीं है कि ईयर वैक्स बिल्कुल ही नहीं निकालना चाहिए, लेकिन सावधानी भी बेहद जरूरी है.

ईयर वैक्स के फायदे

Advertisement

ईयर वैक्स में एंटीबैक्टीरियल प्रोपर्टीज होती हैं जिससे कान की सफाई में मदद मिलती है, ये कानों की हिफाजत करता है और उसे ड्राई नहीं होने देता. जब तेज धूल उड़ती है तो ईयर वैक्स ही कान में गंदगी घुसने से बचाता है. इसके अलावा जब हम स्विमिंग या स्नान कर रहे होते हैं तो ये हमारे कानों में पानी नहीं घुसने देता.

कान को धारदार चीजों से न करें साफ

Advertisement

कान से ईयरवैक्स निकालने के दौरान कई लोग लकड़ी, लोहे या किसी धारदार चीजों का इस्तेमाल करते हैं इसके कई नुकसान हैं. ऐसा करने से ईयर वैक्स बाहर निकलने के बजाए और भी अंदर चला जाता है. साथ ही इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है. सबसे बड़ा नुकसान ये हैं कि नुकीली चीजों से ईयरड्रम फट सकता है और सुनने की क्षमता भी खत्म हो सकती है.

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

कानों की सफाई कैसे करें?

Advertisement

पहली बात तो ये कि ईयरवैक्स से कानों को कोई नुकसान नहीं है, इसलिए आमतौर पर इसे बाहर निकालने की कोई जरूरत नहीं होती. अगर कान में वैक्स काफी ज्यादा भर गई है जिसकी वजह से सुनने में दिक्कत आने लगी है, तो खुद से सफाई का बीड़ा न उठाएं और तुरंत ईयर स्पेशलिस्ट से संपर्क करें.

nps-builders

Prashant Honda Ramnavmi -01

ईयरबड्स का इस्तेमाल कितना सेफ?

Advertisement

इस बात से ज्यादातर लोग वाकिफ हैं कि कान की सफाई करने के लिए धारदार चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, ऐसे में कॉटन के ईयर बड्स या ईयर कैंडल कितने सेफ हैं? हेल्थ एक्सपर्ट के मुताबिक इससे परेशानी दूर होने के बजाए कानों में घाव होने का खतरा पैदा हो जाता है.

Source : Zee News

Advertisement

(DISCLAIMER: यहां दी गई जानकारी घरेलू नुस्खों और सामान्य जानकारियों पर आधारित है. इसे अपनाने से पहले चिकित्सीय सलाह जरूर लें. MUZAFFARPUR NOW इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

peter-england-muzaffarpur

Advertisement
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

HEALTH

कोरोना के सभी वेरिएंट का पता सिर्फ 1 घंटे में, अमेरिका में विकसित हुआ CoVarScan टेस्ट

Published

on

कोरोना को आए करीब तीन साल होने को है लेकिन इसका कहर अब भी बदस्तूर जारी है. पूरी दुनिया में इस वक्त भी कोरोना ने रफ्तार पकड़ ली है और पश्चिमी देशों में कुछ नए वेरिएंटों ने भी दस्तक देनी शुरू कर दी है. कोरोना के इस नए वेरिएंट का पता लगाने में कई-कई दिन लग जाते हैं. आरटीपीसीआर टेस्ट में करीब 24 घंटे का समय लगता है. लेकिन अमेरिकी वैज्ञानिकों ने अब एक ऐसा तरीका इजाद किया जिसके अतर्गत कोरोना के सभी वेरिएंट का टेस्ट सिर्फ एक घंटे में हो जाता है.

सभी वेरिएंट का सटीक पता

Advertisement

वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि SARS-CoV-2 के किसी भी वेरिएंट का पता सिर्फ एक रैपिड टेस्ट से एक घंटे के अंदर लग जाएगा. इस टेस्ट को CoVarScan नाम दिया गया है. यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास के शोधकर्ताओं ने इस CoVarScan से 4000 सैंपल का टेस्ट किया है. शोधकर्ताओं के इस अध्ययन को क्लीनिकल केमिस्ट्री जर्नल में प्रकाशित भी किया गया है. शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि CoVarScan से वर्तमान में पाए जाने वाले सभी वेरिएंट का सटीक पता लगाया जा सकता है.

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

यह अब तक इजाद किसी भी टेस्ट विधि से ज्यादा सटीक है. सबसे खास बात यह है कि चाहे सैंपल में कोई भी वेरिएंट क्यों न हो, उसका पता आसाना से लगा लिया जाता है.

Advertisement

nps-builders

फिलहाल कोई भी टेस्ट एक घंटे में वेरिएंट का पता नहीं लगाता

यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास के प्रोफेसर और इस अध्यन के प्रमुख शोधकर्ता जेफरी सोरेले ने बताया कि इस टेस्ट के इस्तेमाल से सामुदायिक स्तर पर पाए जाने वाले सभी वेरिएंट का पता तो जल्दी लगाया ही जाता है, इसके अलावा अगर कोई नया वेरिएंट सामने आया है, तो यह टेस्ट इसे भी बता देता है. जेफरी सोरेले ने बताया कि जब हम इलाज के लिए अलग-अलग प्रतिक्रिया देने वाले वेरिएंट के साथ काम कर रहे हैं, तो इसका प्रभाव मरीजों पर भी पड़ता है.वर्तमान में जितने भी कोविड टेस्ट हैं उनसे आमतौर पर कोविड-19 के जेनेटिक मैटेरियल या छोटे-छोटे अणुओं का पता चलता है. इन टेस्टों से वेरिएंट का पता नहीं चलता. इसके लिए सैंपल को अलग जगह पर भेजना होता है. लेकिन CoVarScan में वेरिएंट का पता भी एक घंटे में चल जाता है.

Advertisement

Source : News18

Genius-Classes

Advertisement
Continue Reading

HEALTH

लगातार रहता है रीढ़ की हड्डी में दर्द, तो हो सकती है यह बड़ी वजह : डॉ रीशिकांत सिंह

Published

on

देश के प्रसिद्ध न्यूरोसर्जन डॉ रीशिकांत सिंह, पीएमसीएच , पटना का कहना है कि,  कोई भी दर्द बड़ा या छोटा नहीं होता लेकिन अगर इसका सही समय पर इलाज नहीं किया गया तो यह भयंकर रुप ले सकता है इसलिए वक्त रहते ही दर्द का इलाज कराना चाहिए। कई रिसर्च् में यह साबित हुई है कि लगातार रीढ़ की हड्डी में दर्द होने के कई कारण हो सकते हैं लेकिन अगर सही समय पर इलाज मिल जाए तो ठीक हो सकते है लेकिन अगर सही से इलाज नहीं किया गया तो यह भयंकर रूप ले सकती है। इस आर्टीकल में रीढ़ की हड्डी में दर्द की बीमारी के बारे में है। आप रीढ़ की हड्डी में दर्द का इलाज एवं लक्षण के साथ रीढ़ की हड्डी में दर्द की दवा, उपचार और निदान के बारे में जान सकते हैं कम्प्रेसिव मायलोपैथी नामक बीमारी रीढ़ (स्पाइन) की हड्डियों को संकुचित कर उन्हें विकारग्रस्त कर देती है, लेकिन अब इस समस्या का इलाज संभव है… कम्प्रेसिव मायलोपैथी नामक बीमारी आमतौर पर पचास साल की उम्र के बाद शुरू होती है परंतु कई कारण ऐसे भी हैं जिनकी वजह से यह कम उम्र में भी परेशानी का कारण बन सकती है। कमर से लेकर सिर तक जाने वाली रीढ़ की हड्डी के दर्द को ही स्पॉन्डिलाइटिस कहते हैं। यह ऐसा दर्द है जो कभी नीचे से ऊपर और कभी ऊपर से नीचे की ओर बढ़ता है।

कारणों पर नजर

Advertisement

सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस आदि रीढ़ से संबंधित समस्याओं के कारण जब स्पाइनल कैनाल सिकुड़ जाता है, तब स्पाइनल कॉर्ड पर दबाव बढ़ जाता है। इसके अलावा अन्य कई कारण हैं। जैसे रूमैटिक गठिया के कारण गर्दन के जोड़ों को नुकसान पहुंच सकता है, जिससे गंभीर जकड़न और दर्द पैदा हो सकता है। रूमैटिक गठिया आमतौर पर गर्दन के ऊपरी भाग में होता है। स्पाइनल टीबी,स्पाइनल ट्यूमर, स्पाइनल संक्रमण भी इस रोग के प्रमुख कारण हैं। इसके अलावा कई बार खेलकूद, डाइविंग या किसी दुर्घटना के कारण रीढ़ की हड्डी के बीच स्थित डिस्क (जो हड्डियों के शॉक एब्जॉर्वर के रूप में कार्य करती है) अपने स्थान से हटकर स्पाइनल कैनाल की ओर बढ़ जाती है, तब भी संकुचन की स्थिति बन जाती है।

जांच

Advertisement

इस बीमारी का सबसे सटीक विवरण देता है एमआरआई। इस जांच के द्वारा रीढ़ की हड्डी में संकुचन और इसके कारण स्पाइनल कॉर्ड पर पड़ने वाले दबाव की गंभीरता को स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। इसके अलावा कई बार रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर होने पर कंप्यूटर टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन, एक्स-रे आदि से भी जांच की जा सकती है।

ऑपरेशन के बगैर उपचार

Advertisement

रोग के प्रारंभिक मामलों में दर्द और सूजन कम करने वाली दवाओं और गैर-ऑपरेशन तकनीकों से इलाज किया जाता है। गंभीर दर्द का भी कॉर्टिकोस्टेरॉयड से इलाज किया जा सकता है, जो पीठ के निचले हिस्से में इंजेक्ट की जाती है। रीढ़ की हड्डी को मजबूती और स्थिरता देने के लिए फिजियोथेरेपी की जाती है। अगर इन गैर-ऑपरेशन विधियों से लाभ नहीं होता तो हम सर्जरी कराने का सुझाव दे सकते हैं। ऐसी अनेक सर्जिकल तकनीकें हैं जिनका इस रोग के इलाज में इस्तेमाल किया जा सकता है।

सर्जिकल उपचार

Advertisement

कम्प्रेसिव मायलोपैथी की समस्या के स्थायी इलाज के लिए प्रभावित स्पाइन की वर्टिब्रा की डिकम्प्रेसिव लैमिनेक्टॅमी (एक तरह की सर्जरी) की जाती है ताकि स्पाइनल कैनाल में तंत्रिकाओं के लिए ज्यादा जगह बन सके और तंत्रिकाओं पर से दबाव दूर हो सके।

यदि डिस्क हर्नियेटेड या बाहर की ओर निकली हुई होती हैं तो स्पाइनल कैनाल में जगह बढ़ाने के लिए उन्हें भी हटाया जा सकता है, जिसे डिस्केक्टॅमी कहते हैं।
कभी-कभी उस जगह को भी चौड़ा करने की जरूरत पड़ती है, जहां तंत्रिकाएं मूल स्पाइनल कैनाल से बाहर निकलती हैं। इस स्थान को फोरामेन कहते हैं। इस सर्जिकल प्रक्रिया को फोरामिनोटॅमी कहा जाता है।

Advertisement

क्या है बीमारी के लक्षण

डॉ, रीशिकांत सिंह का कहना की

Advertisement

रीढ़ की हड्डी नसों की केबल पाइप जैसी होती है। जब यह पाइप संकुचित हो जाती है, तो नसों पर दबाव से ये लक्षण उत्पन्न हो सकते हैं …

सुन्नपन या झुनझुनी का अहसास होना

Advertisement

गर्दन, पीठ व कमर में दर्द और जकड़न

लिखने, बटन लगाने और भोजन करने में समस्या

Advertisement

गंभीर मामलों में मल-मूत्र संबंधी समस्याएं उत्पन्न होना

चलने में कठिनाई यानी शरीर को संतुलित रखने में परेशानी

Advertisement

कमजोरी के कारण वस्तुओं को उठाने या छोड़ने में परेशानी

बचाव व रोग का उपचार

Advertisement

व्यायाम इस रोग से बचाव के लिए आवश्यक है।

देर तक गाड़ी चलाने की स्थिति में पीठ को सहारा देने के लिए तकिया लगाएं।

Advertisement

कंप्यूटर पर अधिक देर तक काम करने वालों को कम्प्यूटर का मॉनीटर सीधा रखना चाहिए।

कुर्सी की बैक पर अपनी पीठ सटा कर रखना चाहिए। थोड़े-थोड़े अंतराल पर उठते रहना चाहिए। उठते-बैठते समय पैरों के बल उठना चाहिए।

Advertisement

दर्द अधिक होने पर चिकित्सक की सलाह से दर्द निवारक दवाओं का प्रयोग किया जा सकता है। फिजियथेरेपी द्वारा गर्दन का ट्रैक्शन व गर्दन के व्यायाम से आराम मिल सकता है।

Advertisement
Continue Reading

HEALTH

मोतियाबिंद और फेको सर्जरी

Published

on

मैं, मनीष स्वरुप, कॉफ्रेट का संस्थापक को एक अवसर मिला शहर के मशहूर और कारगर नेत्र चिकित्सक जोड़ी डॉक्टर पल्लवी सिन्हा और डॉक्टर शलभ सिन्हा से मिलने का। डॉक्टर शलभ सिन्हा और पल्लवी सिन्हा से उनके आई हॉस्पिटल नयनदीप नेत्रालय में मिलने पर मैंने मोतियाबिंद को करीब से जाना और इस कारण से कह सकता हूँ कि अधिकांश लोगों ने मोतियाबिंद के बारे में सुना है, लेकिन मैं इसे उन लोगों के साथ साझा करने के लिए लिख रहा हूं जो नहीं जानते हैं और जो जानते हैं लेकिन सिर्फ अपने ज्ञान की जांच करने के लिए। डॉक्टर शलभ सिन्हा और पल्लवी सिन्हा के अनुसार मोतियाबिंद तब होता है जब आँखों के लेंस में धुंधलापन बन जाता है। यह रेटिना तक पहुंचने वाले प्रकाश की मात्रा को सीमित करता है और दृष्टि को प्रभावित करता है। मोतियाबिंद उम्र के अवधि के साथ धीरे-धीरे विकसित होते हैं। प्रारंभिक अवस्था में वे कोई लक्षण उत्पन्न नहीं कर सकते हैं। हालांकि, उपचार के बिना (आमतौर पर सर्जरी) मोतियाबिंद और खराब हो जाएगा और अंततः ग्रसित मरीज़ को पूर्ण अंधापन हो जाएगा।

कारण और जोखिम कारक: डॉक्टर शलभ ने बताया कि मोतियाबिंद का सबसे आम कारण उम्र बढ़ना है, जबकि अन्य कारणों में अन्य चिकित्सा स्थितियां, आंखों की चोट, आनुवंशिक दोष और कुछ दवाओं की प्रतिक्रिया शामिल हैं। मोतियाबिंद उम्र बढ़ने के साथ का एक स्वाभाविक हिस्सा है और 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में आम है। मोतियाबिंद से पीड़ित अधिकांश बुजुर्ग लोगों में स्वास्थ्य की स्थिति या आंखों की बीमारियों में कोई अन्य योगदान नहीं होता है। मोतियाबिंद एक दोषपूर्ण जीन के कारण जन्म के समय (जन्मजात मोतियाबिंद) भी हो सकता है, और गर्भावस्था के दौरान संक्रमण या आघात से जुड़े बच्चों (बचपन के मोतियाबिंद) में विकसित हो सकता है। नवजात शिशुओं और बच्चों में मोतियाबिंद दुर्लभ हैं। मोतियाबिंद एक या दोनों आंखों को प्रभावित कर सकता है। मोतियाबिंद के विकास के जोखिम को बढ़ाने वाले अन्य कारकों में शामिल हैं: मोतियाबिंद का पारिवारिक इतिहास, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, आंखों की अन्य स्थितियां जैसे यूवाइटिस, पिछली आंख की सर्जरी, चोट या सूजन, कॉर्टिकोस्टेरॉइड दवा का लंबे समय तक उपयोग (जैसे: प्रेडनिसोन) , प्रेडनिसोलोन), धूप में अत्यधिक संपर्क, धूम्रपान, बहुत अधिक शराब पीना, खराब आहार।
संकेत और लक्षण के विषय पर डॉक्टर पल्लवी सिन्हा कहती हैं कि मोतियाबिंद के लक्षण और लक्षणों में शामिल हो सकते हैं: धुंधला, क्लॉउडी , फजी , फोमी,ब्लरी या फिल्मी दृष्टि, प्यूपिल में एक ध्यान देने योग्य बादल, रोशनी से प्रकाश या चकाचौंध की संवेदनशीलता, उदाहरण के लिए: रात में गाड़ी चलाते समय हेडलाइट्स से, दूर दृष्टि में कमी लेकिन निकट दृष्टि में सुधार, दोहरी दृष्टि (डिप्लोपिया) या रोशनी के चारों ओर प्रभामंडल, आंखों के नुस्खे में बार-बार बदलाव, रंग फीका या पीला दिखना, रात में खराब दृष्टि, पढ़ने के लिए तेज रोशनी की आवश्यकता और अन्य क्लोज-अप कार्य।

Advertisement

डाइग्नोसिस : डॉक्टर शलभ सिन्हा और डॉक्टर पल्लवी सिन्हा के अनुसार मोतियाबिंद के लिए बताएं गए डाइग्नोसिस काफी ज्यादा सामान हैं। उन्होंने बताया कि एक नेत्र विशेषज्ञ आपकी दृष्टि का परीक्षण करने और आपकी आंखों की जांच करने के बाद प्रारंभिक निदान कर सकता है। यदि मोतियाबिंद का संदेह है, तो आमतौर पर एक नेत्र विशेषज्ञ (नेत्र रोग विशेषज्ञ) के लिए एक रेफरल की सिफारिश की जाती है। मोतियाबिंद के सटीक स्थान और सीमा को निर्धारित करने के लिए नेत्र विशेषज्ञ आंख और दृष्टि की अधिक विस्तृत जांच कर सकता है। फिर वे उचित उपचार की सिफारिश करेंगे। मोतियाबिंद को इस आधार पर वर्गीकृत किया जा सकता है कि वे लेंस के किस भाग को प्रभावित करते हैं। मोतियाबिंद का स्थान और सीमा भी दृष्टि हानि की सीमा को निर्धारित करती है। उदाहरण के लिए, यदि लेंस का केंद्र प्रभावित होता है (परमाणु मोतियाबिंद); हालांकि, यदि लेंस के किनारे प्रभावित होते हैं (कॉर्टिकल मोतियाबिंद) तो दृष्टि हानि मुश्किल से ध्यान देने योग्य हो सकती है।

उपचार और सर्जरी पर जब मैंने उनसे पूछा तो उन्होंने बताया कि वैसे तो मोतियाबिंद का उपचार सालो से हो रहा हैं लेकिन मेडिकल साइंस में तरक्की के वजह से फेको सर्जरी जिसमें किसी भी तरह के सुई का उपयोग नहीं होता हैं सबसे ज्यादा विश्वस्नियें तरीका हैं। आगे विस्तृत रूप से इन डॉक्टर्स पल्लवी सिन्हा और शलभ सिन्हा ने बताया कि नए नुस्खे वाले चश्मे और मजबूत रोशनी के साथ शुरुआती मोतियाबिंद के लक्षणों में सुधार किया जा सकता है। हालांकि, एक बार जब मोतियाबिंद इस हद तक बढ़ जाता है कि बिगड़ा हुआ दृष्टि आपके जीवन की गुणवत्ता को कम कर देता है और दैनिक गतिविधियों में हस्तक्षेप करता है, तो सर्जरी ही एकमात्र प्रभावी उपचार है।

Advertisement

जब मैंने , मनीष स्वरुप, कॉफ्रेट के संस्थापक ने और पूछा तो उन्होंने बताया कि मोतियाबिंद सर्जरी में क्लाउडेड लेंस को हटाना और इसे एक स्पष्ट प्लास्टिक लेंस के साथ बदलना शामिल है जिसे इंट्राओकुलर लेंस (आईओएल) के रूप में जाना जाता है। सर्जरी का उद्देश्य जितना संभव हो सके दृष्टि (विशेषकर दूर दृष्टि) को बहाल करना है। अलग-अलग आवर्धक शक्ति वाले आईओएल का उपयोग पहले से मौजूद अल्प-दृष्टि (मायोपिया), दीर्घ-दृष्टि (हाइपरोपिया), या आपके कॉर्निया (दृष्टिवैषम्य) के आकार की समस्याओं को ठीक करने में मदद के लिए किया जा सकता है।आज आधुनिक तकनीक ने मोतियाबिंद का अधिक सुरक्षित तरीके से इलाज करने में बहुत मदद की है। यह नहीं भूलना चाहिए कि पुराने दिन चले गए हैं और आज इसका उपयोग नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि इसका उपयोग मोतियाबिंद सर्जरी के दौरान बहुत दर्द देने के लिए किया जाता था। आज सबसे अच्छी मोतियाबिंद सर्जरी फेको है और पुराने दिनों के विपरीत, रोगियों को एक बड़ा चीरा लगाने की आवश्यकता नहीं होती है जिससे सर्जरी के बाद बहुत सारी समस्याएं होती हैं। मोतियाबिंद सर्जरी आमतौर पर एक दिन के ठहरने की प्रक्रिया के रूप में की जाती है और आमतौर पर हल्के बेहोश करने की क्रिया के साथ स्थानीय संवेदनाहारी के तहत की जाती है। फेकमूल्सीफिकेशन, या फेको, मोतियाबिंद सर्जरी की विधि है जिसमें आंख के आंतरिक लेंस को अल्ट्रासोनिक ऊर्जा का उपयोग करके इमल्सीफाइड किया जाता है और एक इंट्राओकुलर लेंस इम्प्लांट, या आईओएल के साथ बदल दिया जाता है। सर्जरी में आंख के सामने एक छोटा चीरा लगाना शामिल है, जिसके माध्यम से पुराने लेंस को हटा दिया जाता है और कृत्रिम फोल्डेबल आईओएल डाला जाता है।यदि मोतियाबिंद दोनों आंखों को प्रभावित करता है, तो एक समय में केवल एक आंख का ही ऑपरेशन किया जाता है। आमतौर पर यह सिफारिश की जाती है कि दूसरी आंख का इलाज करने से पहले आंख अच्छी तरह से ठीक हो जाए। यह आमतौर पर कम से कम एक महीने का होता है।

सर्जरी होने के बाद डॉक्टर पल्लवी सिन्हा कहती हैं कि मरीजों को आम तौर पर क्लिनिक या अस्पताल में कुछ घंटों के ठीक होने के बाद घर भेज दिया जाता है, और जब बेहोश करने की क्रिया खत्म हो जाती है। आंख की सुरक्षा के लिए आमतौर पर पहली रात के लिए आंख के ऊपर एक आई पैड लगाया जाता है।मोतियाबिंद सर्जरी के बाद आंखों में हल्का दर्द और बेचैनी महसूस होना आम बात है। इसे आमतौर पर पैरासिटामोल जैसी दवाओं से अच्छी तरह नियंत्रित किया जा सकता है।हालांकि आंखों को सिंक्रोनाइज़ करने में एक या दो दिन लग सकते हैं, लोग आमतौर पर रिपोर्ट करते हैं कि दृष्टि में तेजी से सुधार होता है, लगभग दो सप्ताह के भीतर सामान्य गतिविधियों में वापस आने में सक्षम होता है। दूर दृष्टि वापस आती है लेकिन ठीक या विस्तृत दृश्य कार्यों के लिए पढ़ने के चश्मे की आवश्यकता होगी।मोतियाबिंद सर्जरी आम तौर पर सुरक्षित होती है और गंभीर जटिलताओं के विकास का जोखिम कम होता है।
वही डॉक्टर शलभ सिन्हा जो कि पोस्टीरियर कैप्सूल ओपसीफिकेशन (पीसीओ) के विशेषगय हैं बताते हैं कि सबसे आम जटिलता पोस्टीरियर कैप्सूल ओपसीफिकेशन (पीसीओ) नामक एक स्थिति है, जिसमें सर्जरी के महीनों या वर्षों बाद लेंस इम्प्लांट के पीछे की ओर बढ़ने वाली त्वचा या झिल्ली शामिल होती है, जिससे दृष्टि फिर से धुंधली हो जाती है। झिल्ली को काटने के लिए पीसीओ का इलाज एक साधारण लेजर नेत्र शल्य चिकित्सा से किया जा सकता है।मोतियाबिंद सर्जरी में आंख के अंदर संक्रमण और रक्तस्राव का खतरा होता है और रेटिना डिटेचमेंट का खतरा बढ़ जाता है। हालांकि, अधिकांश जटिलताओं का इलाज दवा या आगे की सर्जरी से किया जा सकता है।

Advertisement

डॉक्टर शलभ और पल्लवी सिन्हा का सुरक्षा के दृष्टि से कहना हैं कि मोतियाबिंद को रोका नहीं जा सकता। हालांकि, कुछ दृष्टिकोण उनके विकसित होने की संभावना में देरी या कमी कर सकते हैं। आंखों को पराबैंगनी प्रकाश से बचाने वाले धूप का चश्मा पहनने की सलाह दी जाती है। फलों और सब्जियों में उच्च आहार, शराब का सेवन सीमित करना और धूम्रपान छोड़ना भी फायदेमंद माना जाता है।स्वास्थ्य स्थितियों का इष्टतम प्रबंधन जो मोतियाबिंद (जैसे: मधुमेह) के विकास के जोखिम को बढ़ा सकता है, की सलाह दी जाती है। यदि कॉर्टिकोस्टेरॉइड लंबे समय तक लिए जा रहे हैं, तो यह अनुशंसा की जाती है कि मोतियाबिंद के विकास के संकेतों के लिए एक जीपी या ऑप्टोमेट्रिस्ट नियमित रूप से आंखों की जांच करें। भले ही कॉर्टिकोस्टेरॉइड नहीं लिया जा रहा हो, 40 से अधिक उम्र के लोगों के लिए नियमित रूप से आंखों की जांच की सलाह दी जाती है ताकि विकास के शुरुआती चरण में मोतियाबिंद और अन्य आंखों की समस्याओं का पता लगाया जा सके।

Advertisement
Continue Reading
INDIA2 hours ago

वीवो के ऑफिस में ईडी के छापे से भड़का चीन, कहा-कंपनियों का भरोसा टूटेगा

INDIA3 hours ago

किसान के झोपड़ी में 2 बल्ब, बिजली बिल एक लाख रुपये का

INDIA3 hours ago

महेंद्र सिंह धोनी ने इंग्लैंड में मनाया बर्थडे, पत्नी साक्षी और ऋषभ पंत भी रहे साथ

INDIA3 hours ago

काली विवाद के बीच अब लीना मणिमेकलई का एक और नया ट्वीट, ‘शिव-पार्वती’ को सिगरेट पीते हुए दिखाया

MUZAFFARPUR6 hours ago

गरीबनाथ मंदिर से अघोरिया बाजार तक हटाया अतिक्रमण

BIHAR6 hours ago

बिहार: दुल्हन बनी प्रेमिका की मांग में प्रेमी ने भर दिया सिंदूर, घरवाले ने पकड़कर जमकर पीटा

BIHAR6 hours ago

बिहार में फिर डराने लगा कोरोना, पटना में 7 डॉक्टर समेत 136 नए संक्रमित मिले; राज्यभर में 309 नए मरीजों की पहचान हुई

BIHAR8 hours ago

लालू यादव इलाज के लिए पटना से दिल्ली पहुंचे, हेमंत सोरेन ने शेयर की एयरपोर्ट पर मुलाकात की तस्वीर

MUZAFFARPUR8 hours ago

फिल्म ‘नफीसा’ बताएगी मुजफ्फरपुर के शेल्टर होम की सच्चाई, वर्ष के अंत में होगी मुजफ्फरपुर में शूटिंग

MUZAFFARPUR8 hours ago

कांवरियों के बाबा गरीबनाथ मंदिर तक पहुंचने के लिए प्रशासन का रूट चार्ट तैयार

INDIA3 days ago

IAS अतहर की होने वाली वाइफ हैं इतनी स्टाइलिश, फैशन के मामले में हीरोइनों को भी देती हैं मात!

MUZAFFARPUR1 day ago

मुजफ्फरपुर : पढ़ाने को विद्यार्थी नहीं हैं, लौटा रहा हूं तीन साल की तनख्वाह

TECH2 weeks ago

अब केवल 19 रुपये में महीने भर एक्टिव रहेगा सिम

BIHAR2 days ago

पटना की अनोखी शादी: जिस घर में 13 साल पहले नौकरानी बन आई वहीं से दुल्हन बन विदा हुई गुड़िया

BIHAR1 week ago

विधवा बहू की ससुरालवालों ने कराई दूसरी शादी, पिता बन कर ससुर ने किया कन्यादान

BIHAR2 weeks ago

बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद से मदद मांगना बिहार के बीमार शिक्षक को पड़ा महंगा

BIHAR4 weeks ago

गांधी सेतु का दूसरा लेन लोगों के लिए खुला, अब फर्राटा भर सकेंगे वाहन, नहीं लगेगा लंबा जाम

MUZAFFARPUR1 week ago

मुजफ्फरपुर: पुलिस चौकी के पास सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, अड्डे से आती थी रोने की आवाज

BIHAR4 weeks ago

समस्तीपुर के आलोक कुमार चौधरी बने एसबीआई के एमडी, मुजफ्फरपुर से भी कनेक्शन

BIHAR3 weeks ago

बिहार : पिता की मृत्यु हुई तो बेटे ने श्राद्ध भोज के बजाय गांव के लिए बनवाया पुल

Trending