Connect with us

BIHAR

भगवान राम व रावण ने भी सुल्तानगंज से गंगाजल भरकर बाबा को क‍िया था अर्पित… बाबाधाम की पौराण‍िक कथा

Published

on

मानो तो मैं गंगा मां हूं, ना मानो तो बहता पानी….। गंगा तो गंगा है, वह अविरल पावन व निर्मल है। पतित पावनी गंगा जहां जहां से गुजरी है, वहां लाखों सनातनी धर्मावलंबियों ने अपने तन को डूबो कर मोक्ष पाने की लालसा अर्पित की है। पर जब वह गंगा उत्तरवाहिनी हो जाती है तो वह स्थल और गंगा का वह वेग उस इलाके के लिए खास हो जाता है। देवघर नगरी इसी कारण खास बन गई है। देवघर में विश्व की सर्वाधिक लंबी अवधि का मेला श्रावण माह में लगता है।

शिव का आविर्भाव का वह समय सावन ही था। गंगा स्वर्ग से देवघर की धरती पर जब हरिद्वार में आयी तब वह सावन का ही महीना था। तो शिव, सावन और गंगा का एक समन्वय भक्ति और आस्था के भाव को अविनाशी बनाता है। भगवान राम अपने माता-पिता संग सुल्तानगंज से गंगाजल भरकर कांवर यात्रा कर अपने इष्ट भगवान शंकर को जल अर्पित किया था। इसकी चर्चा रामायण में की गयी है। बाबा मंदिर के तीर्थपुरोहित दुलर्भ मिश्र कहते हैं कि मर्यादा पुरुषोत्तम राम के कांवर चढ़ाने की चर्चा रामायण में है। लंकापति रावण भी सुल्तानगंज से गंगाजल लाकर अपने आराध्य देव की पूजा देवघर में किया था। इसकी भी चर्चा सुनने को मिलती है। इसी कारण ज्योतिर्लिंग की पूजा सबसे पहले गंगाजल से ही होती है।

Advertisement

अजगैबीनाथ के सामने उत्तरायण होती है गंगा

बिहार के सुल्तानगंज में गंगा बहती है। यहां अजगैबीनाथ का मंदिर है। यहां से जल भरने की खासियत यह है कि यहां उत्तर से पूरब की ओर गंगा बहती है और अजगैबी मंदिर के सामने आकर वह फिर विपरीत यानि उत्तर दिशा में बहने लगती है। यह जो स्थान गंगा के वेग के बदलने का है वही उत्तरायण है। और यहां पर गंगा की पवित्रता पराकाष्ठा से उपर हो जाती है। इसी स्थान पर शिव भक्त कांवर में पावन जल भरते हैं। आपके मन में यह सवाल उठ रहा होगा कि सुल्तानगंज से ही कांवर क्यों भरा जाता है। गंगा किनारे का स्थान भारतीय संस्कृति मे तीर्थ स्थान बना है जहां गंगा उल्टी दिशा में बहती है।

Advertisement

Genius-Classes

मतलब जिधर से आयी उसी की ओर फिर मुड़ गयी। जहां जहां गंगा ने अपने वेग को ऐसा किया है वह स्थल पावन तीर्थ स्थान बना है। गंगोत्री में भागीरथ का भाव उत्तर की ओर है। ऋषिकेश में उत्तर की ओर है। प्रयागराज में दशाश्वमेध घाट में उत्तर दिशा में मुड़ती है। बिहार के आरा, सिमरिया और मुंगेर के कष्टहरनी घाट में भी गंगा उत्तरायण है। सुल्तानगंज से जल भरकर बाबा बैद्यनाथ को चढ़ाने की परंपरा ऋषि, मुनियों ने भी आरंभ से कही है। तो यह सुल्तानगंज का अजगैबीनाथ का धाम प्रसिद्ध् है पावन है।

Source: Dainik Jagran

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

MUZAFFARPUR

सावन के हरे रंग में सराबोर हुई सुहागिनें खूब लगाए ठुमके

Published

on

हाय हाय रे ये मज़बूरी,तेरे सौ टकिए की नौकरी में मेरा लाखों का सावन जाए,,,,,चूडी मजा न देगी कंगन मजा न देगा, तेरे बगैर साजन सावन मजा न देगा,,,,,सावन का महीना और हरी साड़ी से लिपटी सुहागिन जब एक जगह जुटेंगी तो ठुमके भी लगेंगे।

कुछ ऐसा ही हुआ रविवार को आयोजित “हरीतिमा सावन महोत्सव” में स्थानीय कलमबाग चौक स्थित एक होटल में आयोजित महोत्सव में महिलाओं ने घर के काम काज में से खुद को आजाद कर अपने माहौल को खूब जीया।

Advertisement

सामूहिक रूप से दीप प्रज्वलित कर गणेश वन्दना घर पे पधारो गज़ानन्द जी,,,,के साथ कार्यक्रम की शुरुआत की।

रैम्प वाक में सावन क्विन रश्मि प्रभात रंजन,फर्स्ट रनर अप अनामिका, सेकेंड रनर अप दीपा, डांस में अर्पिता, पुष्पांजलि चुनी गई। महिलाओं ने स्वछन्द होकर खूब मस्ती की। बावजूद अपनी परंपरा को नहीं छोड़ा। अरबा चावल,दूभी,सिंदूर, बिन्दी अंजुरी में ले रुपा सिंह ने सबके खोंईच्छा भर कर विदा किए।

Advertisement

संचालन कवियित्री मीनाक्षी मीनल ने किया। भूमिहार महिला समाज की ओर से आयोजित महोत्सव में कविता सिंह, सपना राज,डॉ सुभद्राकुमारी, डॉ बोधि कश्यप, पल्लवी दत्ता, भावना भूषण,मंजू सिंह, अनामिका सिंह, रश्मि सुमि,सोनी तिवारी, कोमल सिंह सहित सौ से अधिक महिलाओं ने भाग लिया।

Advertisement
Continue Reading

BIHAR

ललन सिंह बोले- नीतीश कुमार का कद घटाने को हुआ षड्यंत्र, आरसीपी थे दूसरा ‘चिराग मॉडल’

Published

on

आरसीपी सिंह इस्तीफे और उसके बाद चल रही गतिविधि पर जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने कहा कि पार्टी से आरसीपी सिंह के त्यागपत्र देने पर मुझे कुछ नहीं कहना. लेकिन आरसीपी सिंह ने जो कहा, उस पर मुझे आश्चर्य है. उन्होंने कहा कि दरअसल यह नीतीश कुमार का कद घटाने को षड्यंत्र हुआ है. समय आने पर बताया जाएगा कि यह साजिश किसने की.

ललन सिंह ने कहा कि आरसीपी सिंह पर नीतीश कुमार ने खूब भरोसा किया. नीतीश कुमार ने उनकी पहचान बनाई. आरसीपी सिंह जेडीयू को जानते ही कितना है? ललन सिंह ने कहा कि वे कभी संघर्ष के साथी नहीं रहे. वे हमेशा सत्ता के साथी रहे. इस बार सत्ता जाने की उनकी बौखलाहट दिखी. ललन सिंह के मुताबिक, जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी बने नहीं, बल्कि नीतीश कुमार ने उन्हें बनाया. मुझे भी नीतीश कुमार ने राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया. मैं जेडीयू का केयरटेकर हूं.

Advertisement

ललन सिंह ने आरसीपी सिंह के उस बयान को आड़े हाथ लिया, जिसमें उन्होंने जदयू को डूबता जहाज बताया था. ललन सिंह ने कहा कि जेडीयू डूबता नहीं, दौड़ता जहाज है. नीतीश कुमार ने जहाज में छेद करने वाले को बाहर निकाल दिया. ललन सिंह ने कहा कि एक चिराग तैयार था, दूसरा चिराग मॉडल तैयार हो रहा था.

जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि आरसीपी को जेडीयू की एबीसीडी भी पता नहीं. वे क्या जानते हैं समता पार्टी और जेडीयू के बारे में? आरसीपी सिंह के मंत्रिमंडल में शामिल होने पर तंज करते हुए ललन सिंह ने कहा कि माला लेकर गए और खुद पहन लिया. नीतीश कुमार भुंजा खाते हैं, इस पर भी आपत्ति है.

Advertisement

ललन सिंह ने आरसीपी के बयान को लेकर पूछा, अगर नीतीश कुमार काम नहीं करते हैं तो बिहार का विकास कैसे हुआ. उन्होंने कहा कि आरसीपी सिंह को देर सबेर जाना था. उनका तन यहां था और मन कहीं और. त्यागपत्र दे दिए, अब जहां मन करे, चले जाइए. आप स्वतंत्र नागरिक हैं.

ललन सिंह ने कहा कि षड्यंत्र कैसे हुआ, कहां हुआ, हमें मालूम है. सब प्रमाण है. समय आने पर बताया जाएगा. जेडीयू सांसदों की बैठक के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस बारे कोई जानकारी नहीं है मुझे. उन्होंने कहा कि एनडीए में ऑल इज वेल है.

Advertisement

केंद्र के साथ तालमेल को लेकर उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव और उपराष्ट्रपति चुनाव में हम साथ रहे हैं. लेकिन केंद्रीय मंत्रिमंडल में जेडीयू के शामिल होने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल में शामिल होने की क्या जरूरत है. 2019 में नीतीश कुमार का निर्णय था कि हम मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होगे. देश में महंगाई के मुद्दे को राजद के उठाने को लेकर ललन सिंह ने कहा कि तेजस्वी को लगता है यह जनता का मुद्दा है. उन्होंने उठाया है तो हम विरोध क्यों करें.

ललन सिंह ने कहा कि कुछ लोग नाव में छेद कर पानी घुसाना चाहते हैं. हम नीतीश कुमार के आभारी हैं कि उन्होंने साजिश पहचाना ली. उन्होंने कहा कि सत्ता जाने पर आरसीपी सिंह की बौखलाहट स्वाभाविक है. आरसीपी सिंह लकीर मिटाने की कोशिश कर रहे हैं.

Advertisement

Source : News18

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Genius-Classes

Advertisement
Continue Reading

BIHAR

पटना हाईकोर्ट ने दिया आदेश, बिहार के 14 कॉलेजों की मान्यता होगी रद्द

Published

on

बिहार के 11 यूनिवर्सिटी और 325 कॉलेजों की अब मान्यता रद्द कर दी जाएगी. इसको लेकर हाईकोर्ट में सुनवाई हुई, जिस पर कोर्ट ने सख्ती दिखाई है. मामला 287 करोड़ की अनुदान राशि का उपयोगिता नहीं देने का है.

मान्यता 18 अगस्त के पहले ख़त्म किया जाए

Advertisement

मुख्य न्यायाधीश संजय करोल और न्यायाधीश एस कुमार ने सात विश्वविद्यालय के कुलपति को यह आदेश देते हुए कहा है कि पहले फेज की सूची में 14 कॉलेजों के मान्यता 18 अगस्त के पहले ख़त्म किया जाए. साथ ही इसकी जानकारी कोर्ट को दी जाए. विश्वविद्यालय के कुलपति अगर कार्रवाई नहीं करते हैं, तो उन पर जुर्माना लगाने की भी बात कही गई है.

14 कॉलेजों में बीएन मंडल विवि के सबसे ज्यादा कॉलेज

Advertisement

बताया जाता है कि 14 कॉलेजों में बीएन मंडल विवि और तिलकामांझी विवि भागलपुर के सबसे ज्यादा कॉलेज शामिल हैं. इनमें बीएन मंडल विवि के पूर्णिया कॉलेज, सर्ब नारायण राम कुंवर सिंह कॉलेज, वीर नारायण चंद कॉलेज, एलएन मिथिला के चन्द्रमुखी भोला कॉलेज, बीएन मंडल दर्शन साह कॉलेज के नाम हैं.

कॉलेजों के नाम

Advertisement

भीमराव अंबेदकर यूनिर्विसिटी के केसरीचंद ताराचंद कॉलेज, एमजेके कॉलेज, श्रीलक्ष्मी किशोरी महाविद्यालय, तिलकामांझी विवि के मदन अहिल्या महिला कॉलेज, महिला कॉलेज, मगध विवि के महंथ मधुसूदन कॉलेज, सरदार पटेल मेमोरियल कॉलेज, जेपी विवि के नंदलाल सिंह कॉलेज के नाम हैं.

Source : Prabhat Khabar

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Genius-Classes

Continue Reading
MUZAFFARPUR54 mins ago

सावन के हरे रंग में सराबोर हुई सुहागिनें खूब लगाए ठुमके

BIHAR3 hours ago

ललन सिंह बोले- नीतीश कुमार का कद घटाने को हुआ षड्यंत्र, आरसीपी थे दूसरा ‘चिराग मॉडल’

BIHAR7 hours ago

पटना हाईकोर्ट ने दिया आदेश, बिहार के 14 कॉलेजों की मान्यता होगी रद्द

INDIA8 hours ago

राम और रामायण से जुड़े स्थलों को देखें फिर से एक बार, 24 से शुरू हो रही है रामायण सर्किट रेल यात्रा

INDIA9 hours ago

इस्लामिक अध्ययन के 2 छात्रों ने जीता रामायण क्विज, धाराप्रवाह पढ़ते हैं संस्कृत श्लोक

MUZAFFARPUR10 hours ago

रोक सूची में खेसरा संग थाना व वार्ड का नंबर भी

MUZAFFARPUR13 hours ago

मुजफ्फरपुर : स्मैकियों की 180 दिनों तक जमानत रोकने को पुलिस देगी अर्जी

BIHAR13 hours ago

शादी करने के लिए पटना से पानीपत पहुंच गए 5 नाबालिग, पुलिस भी हैरान

BIHAR13 hours ago

पारस अस्पताल के डाॅक्टर पर रेप का आराेप, गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस टीम पर बाउंसर्स ने किया हमला

BIHAR23 hours ago

सरकारी अस्पतालों में अब आयुष्मान भारत के लाभार्थियों की मदद करेंगे समर्पित आरोग्य मित्र

BIHAR4 weeks ago

आईटीआई पास छात्रों को अग्निवीर बनने का मौका

BIHAR3 weeks ago

बिहार दारोगा रिजल्ट : छोटी सी दुकान चलाने वाले सख्स की दो बेटियाँ एक साथ बनी दारोगा

job-alert
BIHAR1 week ago

बिहार: मैट्रिक व इंटर पास महिलाएं हो जाएं तैयार, जल्द होगी 30 हजार कोऑर्डिनेटर की बहाली

INDIA3 weeks ago

प्यार के आगे धर्म की दीवार टूटी, हिंदू लड़के से मुस्लिम लड़की ने मंदिर में की शादी

BIHAR3 weeks ago

बिहार में तेल कंपनियों ने जारी की पेट्रोल-डीजल की नई दरें

BIHAR4 weeks ago

बिहार में युवक की पीट-पीटकर हत्या, प्राइवेट पार्ट को काट डाला

BIHAR4 days ago

बीपीएससी 66वीं रिजल्ट : वैशाली के सुधीर बने टॉपर ; टॉप 10 में मुजफ्फरपुर के आयुष भी शामिल

BIHAR4 weeks ago

पिता ने ट्यूशन फीस के लिए दिए 60 हजार रुपए, बेटे ने साइलेंसर वाली पिस्टल खरीद पिता की हत्या

BIHAR1 day ago

एक साल में चार नौकरी, फिर शादी के 30वें दिन ही BPSC क्लियर कर गई बहू

BIHAR3 weeks ago

बिहार : अब शिकायत करें, 3 से 30 दिनों के भीतर सड़क की मरम्मत हाेगी

Trending