Connect with us

TRENDING

पिछले 17 साल से शख्स ने नहीं कटवाए बाल-दाढ़ी, घने जंगल के बीच रहता है एम्बेस्डर कार के अंदर

Published

on

अपनी जिंदगी में हर इंसान कभी ना कभी हर चीज से परेशान होकर अकेले रहने के बारे में जरूर सोचता है. लेकिन घर-परिवार की जिम्मेदारियों के बीच हर कोई ऐसा नहीं कर पाता. समाज और सोसाइटी में कई ऐसी चीजें होती हैं, जो हमारे दिल और दिमाग को प्रभावित करते हैं. ऐसे में सभी चीजों को छोड़कर भाग जाने का ख्याल समझ में आता है. लेकिन जिस शख्स के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं उसकी जिंदगी में कुछ ऐसी घटनाएं हुई कि उसने सबकुछ छोड़कर घने जंगल में रहने का फैसला कर लिया. बीते 17 सालों से ये शख्स जंगल में अकेला  रह रहा है. आइये इसकी कहानी के बारे में आपको बताते हैं.

Meet Karnataka man who has lived out of his Ambassador car parked in the forest for 17 years

अगर आप इस शख्स से मिलना चाहते हैं तो आपको कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले में दो गांव अड़ताले और नक्कारे के पास सुल्लिअ तालुक में मौजूद घने जंगल में जाना पड़ेगा. इसमें भी जंगल में तीन से चार किलोमीटर पैदल जाने के बाद आपको एक छोटा सा प्लास्टिक शीट से बनी झोपड़ी नजर आएगी. इसे बांस के खूँटों से बनाया गया है. इसके अंदर लगी है एक पुरानी एम्बेस्डर कार. अब खटारा हो चुकी इस कार की बोनट में एक रेडियो लगा है जो अब भी काम करता है. यही कार बीते 17 साल से चंद्रशेखर  नाम के इस शख्स का घर है. 56 साल के चंद्रशेखर दुबले-पतले, आधे बाल उड़े और बिना शेव और हेयरकट के आपको नजर आ जाएंगे.

Advertisement

Meet Karnataka man who has lived out of his Ambassador car parked in the forest for 17 years

बीते 17 साल से चंद्रशेखर जंगल में रह रहे हैं. इसकी ख़ास वजह है. दरअसल, सालों पहले उनके नाम डेढ़ एकड़ जमीन थी. इसी में खेती कर वो अपना गुजारा करते थे. 2003 में उन्होंने को-ऑपरेटिव बैंक से लोन लिया था. 40 हजार के इस लोन को काफी कोशिशों के बाद भी वो चुका नहीं पाए. इस वजह से बैंक ने उनकी जमीन को नीलाम कर दिया. इस बात से टूट चुके चंद्रशेखर ने अपनी बहन के घर रहने का फैसला किया. वो अपनी एम्बेस्डर कार से बहन के घर पहुंचे लेकिनव वहां कुछ समय बाद उनकी घरवालों से खटपट हो गई. बस तभी से उन्होंने अकेले रहने का फैसला किया और आज तक जंगल में अकेले रह रहे हैं.

Chandrashekar Gowda

जब चंद्रशेखर ने 17 साल पहले घर छोड़ा था, तब उनके पास दो जोड़ी कपड़े और 1 हवाई चप्पल थी. इसी के साथ वो आज भी रह रहे हैं. कार के अंदर ही वो सोते हैं. कार को पानी और धूप से बचाने के लिए उन्होंने ऊपर से प्लास्टिक कवर चढ़ा दिया है. वो पास के नदी में नहाते हैं और जंगल के पेड़ों की सूखी पत्तियों से बास्केट बनाकर पास के गांव में बेचते हैं. इससे मिले पैसों से ही वो चावल, चीनी और बाकी का राशन खरीद कर जंगल में खाना बनाते हैं. 17 साल से अकेले रह रहे चंद्रशेखर को आज भी उम्मीद है कि उनकी जमीन उन्हें वापस मिल जाएगी.

Advertisement

krishna-motors-muzaffarpur

चंद्रशेखर का कहना है कि ये कार ही उनकी दुनिया है. इसके अलावा उनके पास एक साइकिल है, जिससे वो पास के गांव में आते-जाते हैं. जंगल में कई बार हाथियों ने उनके घर पर अटैक किया लेकिन इसके बाद भी वो वहीं रह रहे हैं. उन्होंने बताया कि वो जंगल में किसी तरह के पेड़ को नहीं काटते. बास्केट बनाने के लिए भी वो सूखे पत्ते और लकड़ियों का इस्तेमाल करते हैं. इस वजह से फॉरेस्ट डिपार्टमेंट को भी इनसे कोई दिक्कत नहीं है. चंद्रशेखर के पास आधार कार्ड नहीं है लेकिन अरणथोड ग्राम पंचायत के सदस्यों ने आकर उन्हें कोरोना वैक्सीन दे दी थी. चंद्रशेखर का कहना है कि लॉकडाउन का समय उनके लिए काफी मुश्किल था. कई-कई महीने उन्होंने जंगली फल खाकर बिताए थे. लेकिन इसके बावजूद वो जंगल में ही रहे. उनकी जिद्द है कि जबतक उन्हें उनकी जमीन वापस नहीं मिलेगी, तब तक वो जंगल में ही रहेंगे.

Source : News18

Advertisement

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

Advertisement
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

संतरे के छिलकों से जॉर्डन के एक फूड आर्टिस्ट और आणविक गैस्ट्रोनोमिस्ट ने बनाया लक्जरी हैंडबैग

Published

on

जॉर्डन के एक फूड आर्टिस्ट और आणविक गैस्ट्रोनोमिस्ट, उमर सरतावी ने संतरे के छिलकों का इस्तेमाल करके एक लक्जरी हैंडबैग डिजाइन किया है. इस निर्माण के पीछे का विचार हाई-एंड लक्ज़री उत्पाद बनाना है जो पर्यावरण के अनुकूल भी हों. उमर ने एक वीडियो में सामान बनाने के लिए अपनाए जाने वाली प्रक्रिया के बारे में बताया. वह छिलके खरीदता है और दो सप्ताह तक विभिन्न चरणों के माध्यम से इसे संसाधित करना शुरू कर देता है. बाद में, वह अपने इच्छित डिज़ाइन के लिए डिजिटल फैब्रिकेशन नामक एक प्रक्रिया का उपयोग करता है और फिर लेजर का उपयोग करके इसे काट देता है.

 

View this post on Instagram

 

Advertisement

A post shared by o m a r | ع م ر (@omar_sartawi)

Advertisement

फूड आर्टिस्ट ने यह भी बताया कि उन्होंने ऑबर्जिन लेदर से फेस मास्क और टेंट भी डिजाइन किए हैं. ओमर ने बताया, कि “जिन चीजों पर मैं वर्तमान में काम कर रहा हूं, उनमें से एक है फलों और सब्जियों के चमड़े को नए तरीकों से संसाधित करना, पर्यावरण के अनुकूल सामग्री के रूप में उपयोग करना, इसे लक्जरी ब्रांडों में बदलना. हम उपलब्ध तकनीकों के माध्यम से आधुनिक डिजाइन के साथ असाधारण उत्पाद बना सकते हैं. मैं इसे फैशन, एक्सेसरीज, हाई-एंड बैग और फर्नीचर में इस्तेमाल कर रहा हूं.”

उमर ने लग्जरी हैंडबैग की कुछ तस्वीरें इंस्टाग्राम पर पोस्ट कीं और इसके निर्माण में उत्पाद की कुछ तस्वीरें भी शेयर कीं हैं.

Advertisement

 

View this post on Instagram

 

A post shared by o m a r | ع م ر (@omar_sartawi)

Advertisement

लोग इससे बहुत प्रभावित हुए और निर्माण के लिए जमकर तारीफ भी की. एक यूजर ने लिखा, “बहुत अच्छा और रचनात्मक,” दूसरे ने लिखा, “बहुत ही रोचक डिजाइन!”

Advertisement

 

View this post on Instagram

 

A post shared by o m a r | ع م ر (@omar_sartawi)

Advertisement

 

View this post on Instagram

 

Advertisement

A post shared by o m a r | ع م ر (@omar_sartawi)

Advertisement

Source : NDTV

Advertisement
Continue Reading

TRENDING

एक महिला ने दूसरी महिला को काटा, कुत्तों को लेकर हुई थी लड़ाई

Published

on

जर्मनी में एक बुजुर्ग महिला और डॉग ओनर के बीच, कुत्तों को लेकर लड़ाई हो गई. इस लड़ाई में बुजुर्ग महिला ने गुस्से में आकर डॉग ओनर को ही काट लिया. रिपोर्ट के अनुसार, घटना पूर्वी जर्मनी के थुरिंगजिया इलाके की है. यहां दो महिलाओं के बीच कुत्तों को अनुशासन सिखाने को लेकर कहासुनी हो गई थी.

Labrador retriever on a leash

‘DW’ की एक न्यूज के मुताबिक, बात बढ़ते-बढ़ते मारपीट तक पहुंच गई. लेकिन जिन कुत्तों को लेकर दोनों महिलाएं लड़ रही थीं, वो शांति से झगड़ा देखते रहे. पुलिस ने बताया कि यहां 27 साल की डॉग ओनर और 51 साल की एक महिला के बीच इसलिए लड़ाई हुई, क्योंकि बुजुर्ग महिला ने युवा महिला के कुत्तों को मारा था.

Advertisement

युवा महिला ने इसका विरोध किया. लेकिन बात मारपीट तक पहुंच गई. इसी बीच जब बुजुर्ग महिला नीचे जमीन पर गिर पड़ी, तो उसने डॉग ओनर के पैरों में दांत से काट लिया और वह जख्मी हो गई, जिसके बाद महिला को तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया.

ये घटना इसलिए भी अजीब है क्योंकि आमतौर पर हम कुत्ते को ऐसे जानवर के तौर पर जानते हैं, जो अपने मालिक की जान बचाने के लिए, अपनी जान दांव पर लगा देता है. लेकिन यहां दोनों कुत्तों ने ऐसा कुछ नहीं किया. वे चुपचाप दोनों की लड़ाई देखते रहे.

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

वहीं, दूसरी तरफ कैलिफोर्निया की एक मॉडल ब्रुकलिन खौरी को उनके एक रिश्तेदार के पालतु कुत्ते पिट बुल ने काट लिया. इसके बाद उन्हें 3 करोड़ रुपये की सर्जरी करवानी पड़ गई. मॉडल ने बताया कि वह पिट बुल को प्यार कर रही थी. तभी कुत्ते ने अचानक से उनके चेहरे पर काट लिया. इससे उनकी नाक और होंठ का निचला हिस्सा जख्मी हो गया. हालांकि, डॉक्टरों ने कहा है कि आगे भी सर्जरी की ज़रूरत पड़ सकती है.

Source : Aaj Tak

Advertisement

Continue Reading

TRENDING

इस्लाम छोड़कर हिंदू बनेंगे फिल्म डायरेक्टर अली अकबर, बिपिन रावत पर कट्टरपंथियों के रवैये से हैं नाराज

Published

on

कोच्चि. फिल्म निर्माता अली अकबर ने अपनी पत्नी के साथ हिंदू धर्म अपनाने का फैसला किया. उन्होंने कहा है कि वे जनरल बिपिन रावत की मौत का अपमान करने वालों के चलते इस्लाम (Islam) छोड़ रहे हैं. कथित रूप से कई लोगों ने जनरल रावत की मौत से जुड़ी पोस्ट पर ‘स्माइली इमोटिकॉन’ का इस्तेमाल किया था. बुधवार को तमिलनाडु के कुनूर जिले में हुए एक हादसे में सैन्य अधिकारी समेत 13 लोगों की मौत हो गई थी.

Filmmaker Ali Akbar was hurt by those who laughed at CDS Rawat martyrdom will adopt Hindu religion - India Hindi News - CDS रावत की शहादत पर हंसने वालों से फिल्ममेकर अली

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अकबर का कहना है कि इस्लाम के शीर्ष नेताओं ने भी बहादुर सैन्य अधिकारी को अपमानित करने वाले ऐसे ‘राष्ट्र विरोधियों’ का विरोध नहीं किया. उन्होंने कहा कि वे इसे स्वीकार नहीं कर सकते. अकबर का कहना है कि उनका धर्म से भरोसा उठ गया है. उन्होंने बुधवार को इस संबंध में एक वीडियो फेसबुक पर भी साझा किया था.

Advertisement

Advertisement

फिल्म निर्माता ने कहा था, ‘आज मैं जन्म से मिले हुए पहनावे को उतार फेंक रहा हूं. आज से मैं मुस्लिम नहीं हूं, मैं एक भारतीय हूं. मेरा यह जवाब उन लोगों के लिए हैं, जिन्होंने भारत के खिलाफ हजारों स्माइलिंग इमोटिकॉन्स पोस्ट किए हैं.’ कई मुस्लिम यूजर्स ने उनकी इस पोस्ट का विरोध किया और उन्हें अपशब्द कहे. हालांकि, कई यूजर्स उनके समर्थन में भी आए. कुछ समय बाद फेसबुक से यह पोस्ट गायब हो गई थी.

एक अन्य पोस्ट में अकबर ने लिखा, ‘देश को उन लोगों की पहचान करनी चाहिए और सजा देनी चाहिए, जो सीडीएस की मौत पर हंस रहे हैं.’ टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में अकबर ने कहा कि सोशल मीडिया पर कई राष्ट्र विरोधी गतिविधियां होती हैं औऱ रावत की मौत पर हंसना इसका ताजा उदाहरण है. उन्होंने कहा, ‘ज्यादातर लोग जो स्माइलिंग इमोटिकॉन्स के साथ कमेंट कर रहे हैं और रावत की मौत की खबर पर जश्न मना रहे हैं, वे मुस्लिम हैं.’

Advertisement

उन्होंने आगे कहा, ‘उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि रावत ने पाकिस्तान और कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ कई कार्रवाई की. इन पोस्ट को देखने के बावजूद, जिनमें बहादुर सैन्य अधिकारी और देश का अपमान किया गया, किसी भी शीर्ष मुस्लिम नेता ने प्रतिक्रिया नहीं दी. मैं ऐसे धर्म का हिस्सा नहीं हो सकता.’

अकबर ने बताया कि वे और उनकी पत्नी हिंदू धर्म में परिवर्तन कर लेंगे और आधिकारिक रिकॉर्ड्स में धार्मिक जानकारी बदलने की प्रक्रिया शुरू करेंगे. उन्होंने कहा कि वे अपने दो बेटियों को धर्म बदलने के लिए मजबूर नहीं करेंगे. फिल्मनिर्माता ने कहा, ‘यह उनकी पसंद हैं और मैं उन्हें ही फैसला करने दूंगा.’ अकबर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश समिति सदस्य थे. उन्होंने पार्टी नेतृत्व से मतभेदों के चलते अक्टूबर में पद से इस्तीफा दे दिया था.

Advertisement

(मुजफ्फरपुर नाउ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

Advertisement
Continue Reading
INDIA3 hours ago

सास बनी मिसाल: बेटे की मौत के बाद बहू को पढ़ाकर बनाया लेक्चरर, करवाई दूसरी शादी

SPORTS3 hours ago

भारत के खिलाफ जीत के बाद दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी बोला- ‘जय श्री राम’

BIHAR3 hours ago

बिहार बोर्ड ने छात्रों को दी बड़ी राहत, अब जूते-मोजे पहनकर दे सकेंगे परीक्षा

BIHAR4 hours ago

RRB-NTPC परीक्षा के रिजल्ट से नाराज अभ्यर्थियों का पटना और आरा के स्टेशनों पर प्रदर्शन, ट्रेन सेवा बाधित

BIHAR8 hours ago

पटना की किन्नर पर फिदा हुआ सुपौल का आशिक,पहले ऐश किया फिर पैसों के लिए कर दी हत्या

INDIA10 hours ago

अखिलेश पर संबित पात्रा का तंज, कहा- अखिलेश यादव का बस चलता तो याकूब मेनन को भी टिकट देते

INDIA12 hours ago

बिना इजाजत पत्नी ने खरीदा स्मार्टफोन, गुस्साए पति ने दी मर्डर की सुपारी

BIHAR12 hours ago

बिहार के मंत्री पुत्र की बढ़ी मुश्किलें, भीड़ से पिटने के बाद अब पुलिस ने भी दर्ज किया FIR

BIHAR13 hours ago

बिहार के इस महिला DM ने किया ऐसा काम कि PM नरेंद्र मोदी भी हुए फैन

INDIA14 hours ago

यूपी विधानसभा चुनाव से पहले अयोध्या में षड्यंत्र, रेलवे पुल के छह बोल्ट गायब; बड़ा हादसा टला

BIHAR2 weeks ago

रेल हादसाः बिहार के कई स्टेशनों से चढ़े थे यात्री, रेलवे ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर

BIHAR3 weeks ago

राजेंद्र नगर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस का बदल जाएगा रूट!

JOBS1 week ago

गेटमैन के पदों पर भर्ती कर रहा इंडियन रेलवे, 10वीं पास भी कर सकते हैं आवेदन

BIHAR2 weeks ago

आज से 17 तारीख तक आधा दर्जन ट्रेनें रद्द, कई गाड़ियों के रूट भी बदले गए

BIHAR3 weeks ago

बिहार में बनेंगे जलमार्ग, सड़कमार्ग और रेलमार्ग के जंक्शन

BIHAR2 weeks ago

बिहार में एक स्‍कूल के हेडमास्‍टर का अनूठा प्रयास, अब ‘हवाई जहाज’ में पढ़ रहे यहां के छात्र

BIHAR4 weeks ago

तूफान की तरह मात्र 11 सेकेंड में 341 मीटर लंबी सुरंग पार कर गई ट्रेन

BIHAR3 weeks ago

3300 करोड़ में बनेंगी 2 फोरलेन सड़कें, पटना से फटाफट पहुंच सकेंगे गया और बक्‍सर

BIHAR3 weeks ago

“एक गजेरी चिलम पीकर” गाने वाली गायिका बदहाली में कर रही गुजर- बसर

BIHAR4 weeks ago

बिहार में अजब प्यार की गजब कहानी, पति ने पत्नी की उसके बॉयफ्रेंड से करवाई शादी

Trending