आख़िर कब तक हम खोते रहेंगे अपनों को? कब लौट कर आएँगे वो जो छोड़ गए हैं अपने अपनों को अधूरे वादों के साथ?
Connect with us
leaderboard image

INDIA

आख़िर कब तक हम खोते रहेंगे अपनों को? कब लौट कर आएँगे वो जो छोड़ गए हैं अपने अपनों को अधूरे वादों के साथ?

Anu Roy

Published

on

उदासी का मंज़र ही रहा होगा फ़्लाइट लेफ़्टिनेंट संध्या के लिए जब उन्होंने अपनी आँखों के सामने से अपने महबूब को जंगल में खोते देखा होगा. दिल डूबने लगा होगा उनका सामने लगी स्क्रीन कि रडार से An-32 एरक्राफ़्ट के सिग्नल को ग़ायब होता देख.

Image may contain: 1 person, smiling, aeroplane, sky, outdoor and nature

ये किसी फ़िल्म का सीन नहीं हक़ीक़त है. पिछले सोमवार को जब 12:30 बजे जब एयरफ़ोर्स का रसियन मेड एयरक्राफ़्ट उड़ान भरा तब उसमें 8 क्रू-मेंबर थे और 5 सिविलियन. उन्हीं 8 क्रू-मेम्बर में लेफ़्टिनेंट तंवर की वाइफ़ ग्राउंड ड्यूटी पर थी. जो सिग्नल रीड कर रही थी. लापता होने से पहले आख़िरी सिंग्नल एक बजे मिला था उस एयरक्राफ़्ट का. उसके बाद वो खो गया अरुणाचल प्रदेश के घने जंगलों में.

Families worried

आज चार दिन बीत चुके हैं. अभी तक कोई ख़बर नहीं मिली है उस विमान की और न उनमें सवार लोगों की. एयरफ़ोर्स अपनी तरफ़ से ढूँढने की तमाम कोशिश कर रहा मगर हासिल अभी तक कुछ भी नहीं हुआ है.

वैसे भी ग़ायब होने की ये कोई पहली घटना नहीं है. 2016 में भी An-32 ग़ायब हो गया था. आज तक उसकी ख़बर कहाँ आयी है. कहाँ कुछ भी पता चल पाया उस पर सवार जाँबाज़ पायलटों के बारे में.

अख़बार के दूसरे-तीसरे पन्नें पर उनके लापता होने की ख़बर कभी छपी थी. जैसे आज इस एयरक्राफ़्ट के लिए छप रही. धीरे-धीरे छपना बंद हो जाएगा. लोग भूल जाएँगे. दूसरे विमान के लापता होने तक.

कोई नहीं समझ सकता उन परिवारों का दुःख जिनके अपने उन विमानों के साथ खो गए. जिनके अपने लौटने का वादा करके तो गये थे पर कभी लौटे ही नहीं. माँ-बाप बूढ़ी होती आँखों में इंतज़ार लिए कभी प्रधानमंत्री को चिट्ठियाँ लिखते हैं तो कभी एयरफ़ोर्स को. कोई जवाब नहीं आता उनके लिए. वो आँखों में इंतज़ार लिए इस दुनिया से चले जाते हैं.

चुनाव के समय जवानों के नाम पर प्रधानमंत्री मोदी जी वोट माँगते नज़र आए थे. अब वक़्त है कि वो चुने जा चुके हैं तो एयरफ़ोर्स के इन कबाड़ी विमानों को हटा नए एयरक्राफ़्ट मँगवाए. रूस और बाक़ी के देशों से उड़ता काफ़ीन ख़रीद कर हमारे जवानों को मौत के मुँह में न ढकेले.

देश के लिए ये जवान सिर्फ़ एक व्यक्ति भर होता है. जिसके जीने मरने से किसी को कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता. मगर वो एक जवान अपनी महबूबा की पूरी दुनिया, माँ-बाप के लिए जीने का सहारा और अपने बच्चों का पिता, उनका हीरो होता है.

अब वक़्त आ गया है कि इन जाँबाज़ एयर-फ़ोर्स के पायलटों के बारे में सोचा जाए. उनकी सुरक्षा के लिए ज़रूरी क़दम उठाए जाएँ.

 

INDIA

अप्रैल 2020 से शुरू होगा निर्माण कार्य, ऐसे बनेगा राम मंदिर

Santosh Chaudhary

Published

on

अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण अप्रैल 2020 में शुरू होकर साल 2022 तक पूरा हो सकता है। न्यूज एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से यह खबर दी है। सुप्रीम कोर्ट ने 9 नवंबर को दिए फैसले में विवादित भूमि को हिंदुओं को देकर इस पर मंदिर निर्माण का रास्ता साफ कर दिया है। अपने फैसले में कोर्ट ने केंद्र सरकार को यह निर्देश भी दिया कि वो 3 महीने के अंदर योजना बनाए और मंदिर निर्माण के लिए एक ट्रस्ट का गठन करे।

एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया है- इस बात पर भी चर्चा हो रही है कि नया ट्रस्ट बनाया जाए या फिर पुराने रामजन्मभूमि न्यास में ही नए सदस्य शामिल कर लिए जाएं। इन सूत्रों ने बताया है कि विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) और बजरंग दल भी राम मंदिर ट्रस्ट का हिस्सा हो सकते हैं, हालांकि सदस्यों को लेकर आखिरी फैसला प्रधानमंत्री कार्यालय ही करेगा। सबसे बड़ा विवाद जो प्रस्तावित ट्रस्ट के सामने आने की संभावना है, वो मंदिर निर्माण के लिए कई संगठनों, ट्रस्टों और धार्मिक समूहों द्वारा फंड जमा करने से संबंधित है।

मुख्य मुद्दा यह होगा कि क्या ये फंड जमाकर्ता नए ट्रस्ट को पैसा सौंपने के लिए तैयार होंगे और वे पिछले 27 सालों के दौरान जमा किए गए करोड़ों रुपये के लिए जवाबदेह होंगे। एएनआई के मुताबिक, वीएचपी का मानना है कि राम मंदिर का निर्माण सरकारी पैसे के बजाए जनता के चंदे से होना चाहिए। वहीं न्यूज एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कानून, गृह मंत्रालय और संस्कृति मंत्रालय के अधिकारियों से सुप्रीम कोर्ट के फैसले का अध्ययन करने और प्रस्तावित ट्रस्ट के तौर-तरीकों पर जल्द से जल्द काम करने को कह चुके हैं। इस बीच ट्रस्ट में जगह पाने को लेकर संतों और कई हिंदू संगठनों के बीच होड़ शुरू हो गई है।

एेसे बनेगा राम मंदिर

अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण का रास्ता साफ हो चुका है। अब सुप्रीम कोर्ट द्वारा तय दिशानिर्देशों के तहत सरकार को वे सब औपचारिकताएं पूरी करनी हैं जो मंदिर निर्माण में सहायक साबित होंगी।

ट्रस्ट का गठन

नौ नवंबर को बहुप्रतीक्षित और देश के सबसे बड़े सर्वसम्मत फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया है कि वह तीन महीने के भीतर एक ट्रस्ट का गठन करे। आगे यही ट्रस्ट मंदिर निर्माण से जुड़ी हर गतिविधियों, प्रक्रियाओं का निर्धारण करेगा।

जानें- क्या है प्रक्रिया

अयोध्या जमीन अधिग्रहण एक्ट 1993 के तहत ट्रस्ट का गठन होगा। मंदिर के लिए यह आंतरिक और बाहरी अहाते की जमीन को कब्जे में लेगा। इसी कानून के तहत केंद्र सरकार ने विवादित स्थल के इर्द-गिर्द की 67.7 एकड़ जमीन अधिगृहीत की थी। कुछ शर्तो के साथ इसी कानून से यह जमीन ट्रस्ट को सौंपी जा सकेगी। उस स्थिति में केंद्र सरकार के अधिकार बनने वाले ट्रस्ट में समाहित हो जाएंगे।

ट्रस्ट का प्रारूप

कुछ रिपोर्टो में ये बात सामने आ रही है कि राम मंदिर ट्रस्ट का रूप-स्वरूप देश के अन्य मंदिरों के ट्रस्ट जैसा होगा। इनमें सोमनाथ मंदिर, अमरनाथ श्राइन बोर्ड या माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड का उल्लेख किया जा रहा है। एएनआइ की एक रिपोर्ट के मुताबिक राम मंदिर ट्रस्ट का मॉडल सोमनाथ मंदिर के अनुरूप हो सकता है। इस ट्रस्ट के सात सदस्यों में प्रधानमंत्री और गृहमंत्री बतौर सदस्य शामिल हैं।

अलग-अलग राय

भावी ट्रस्ट के रूप-रंग के साथ उसके सदस्यों के नामों की चर्चाएं जोरों से होने लगी हैं। इसमें केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मनोनीत लोगों के रहने का अनुमान है साथ ही धार्मिक नेताओं के शामिल होने की बात को भी खारिज नहीं किया जा सकता है। गैर सरकारी मनोनीत नामों के बारे में कयास लगने शुरू हो चुके हैं। राम मंदिर आंदोलन को इस मुकाम तक लाने में अहम भूमिका निभाने वाले संगठन विश्व हिंदू परिषद का मानना है कि ट्रस्ट को राम मंदिर के निर्माण में भक्तों की सांकेतिक भागीदारी में मदद करनी चाहिए। परिषद चाहती है कि गृहमंत्री अमित शाह और उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसके सदस्य बनें। रामजन्मभूमि न्यास के प्रमुख महंत नृत्य गोपालदास का कहना है कि गोरखनाथ मंदिर के महंत की हैसियत से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को ट्रस्ट का नेतृत्व करना चाहिए। फैसले के बाद उनका यह बयान भी चर्चा के केंद्र में रहा जिसमें उन्होंने कहा कि, नए ट्रस्ट की कोई जरूरत नहीं है। राम मंदिर के लिए न्यास पहले से ही एक ट्रस्ट के रूप में काम कर रहा है। निर्मोही अखाड़ा सहित अन्य को इसमें शामिल किया जा सकता है। हालांकि अखाड़ा सदस्यों का मत इससे प्रतिकूल है। उनका कहना है कि रामजन्मभूमि न्यास के खिलाफ हम लड़ रहे हैं। उनके ट्रस्ट का सदस्य हम कैसे बन सकते हैं? वे अपने ट्रस्ट को भंग करके हमारे साथ ट्रस्ट में सहभागी बन सकते हैं।

सोमनाथ की तर्ज पर ट्रस्ट

माना जा रहा है कि प्रस्तावित राम मंदिर का निर्माण अगले साल दो अप्रैल को रामनवमी से शुरू हो जाएगा। नवमी तिथि मधु मास पुनीता..इसी दिन भगवान राम का जन्म हुआ था। जैसाकि रिपोर्ट आ रही हैं, अगर राममंदिर ट्रस्ट का स्वरूप सोमनाथ मंदिर की तरह रहा तो आइए जानते हैं कैसे करेगा काम।

कौन कौन है सदस्य

श्री सोमनाथ ट्रस्ट एक धार्मिक चैरिटेबल ट्रस्ट है जिसका पंजीकरण गुजरात पब्लिक ट्रस्ट एक्ट, 1950 के तहत हुआ है। वर्तमान में इसके सात सदस्य हैं। गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल इसके चेयरमैन हैं। पीएम नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी और गुजरात के पूर्व प्रमुख सचिव प्रवीण लाहेरी इसके सदस्य हैं। कोलकाता के नेवतिया समूह के चेयरमैन हर्षव‌र्द्धन नेवतिया और वेरावल से सेवानिवृत्त संस्कृत के प्रोफेसर जेडी परमार इसके सदस्य हैं।

सदस्यता अवधि

बोर्ड की सदस्यता आजीवन है। परमार 1975 में इसके सदस्य बने जबकि अमित शाह जनवरी, 2016 में भावनगर से कांग्रेस सांसद प्रसन्नवदन मेहता की मौत के बाद सदस्य बने। केंद्र और राज्य सरकारें प्रत्येक चार-चार सदस्यों को मनोनीत कर सकती है। आमतौर पर ट्रस्टी मंडल संभावित उम्मीदवारों की एक सूची तैयार करता और रिक्तियां इसी सूची से भरी जाती हैं। एक साल में चार बार ट्रस्टी बोर्ड की मीटिंग होती है।

ट्रस्ट के काम

2018 में ट्रस्ट को 42 करोड़ रुपये चढ़ाने, दान और किराए के रूप में मिले। ट्रस्ट के पास कई गेस्ट हाउस भी हैं। 2017 के दौरान इस मद में ट्रस्ट को 39 करोड़ रुपये की कमाई हुई थी। पिछले दो साल के दौरान गुजरात सरकार ने मंदिर परिसर में सुविधाओं के विकास में 31.47 करोड़ रुपये खर्च किए।

ट्रंस्ट के अन्य कार्य

ट्रस्ट आंगनवाड़ी बच्चों को पोषक भोजन मुहैया कराता है। बेरोजगारों को हुनरमंद बनाता है। पांच दिनी कार्तिकी पूनम मेला का आयोजन करता है। आठ से नौ लाख लोगों के अलावा स्थानीय कलाकार अपनी कला का प्रदर्शन करते हैं।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading

INDIA

भारत के नए चीफ जस्टिस होंगे एसए बोबडे, आज रिटायर हो रहे हैं जस्टिस रंजन गोगोई

Santosh Chaudhary

Published

on

जस्टिस शरद अरविंद बोबडे देश के अगले मुख्य न्यायाधीश होंगे। अयोध्या विवाद पर सबसे बड़ा फैसला देने वाले चीफ जस्टिस रंजन गोगोई का कार्यकाल आज समाप्त हो रहा है। उनकी जगह भारत के नए चीफ जस्टिस के तौर पर जस्टिस एसए बोबडे शपथ लेंगे। परंपरा मुताबिक मौजूदा मुख्य न्यायाधीश पत्र लिखकर अपने बाद इस कार्यभार को संभालने वाले न्यायाधीश के नाम की सिफारिश करते हैं। जस्टिस गोगोई ने 18 अक्तूबर को राष्ट्रपति को पत्र लिखकर जस्टिस बोबडे के नाम की सिफारिश की थी।जस्टिस एसए बोबडे  देश के 47वें मुख्य न्यायाधीश होंगे। न्यायमूर्ति बोबडे 17 महीने के लिए 23 अप्रैल 2021 तक इस पद पर बने रहेंगे। मौजूदा सीजेआई रंजन गोगोई 17 नवंबर को अपने पद से रिटायर हो रहे हैं।

जस्टिस बोबडे कई महत्वपूर्ण बेंचों में रहे हैं जिनमें हाल ही में अयोध्या टाइटल विवाद भी शामिल हैं इसके अलावा वह BCCI सुधार मामले में बेंच की भी अगुवाई कर रहे हैं। साल 2018 में उन्होंने कर्नाटक राजनीतिक विवाद पर रातभर कांग्रेस व जेडीएस की याचिका पर सुनवाई की थी जिसके बाद वहां दोबारा सरकार बन गई थी। जस्टिस बोबडे निजता के अधिकार के लिए गठित संविधान पीठ में शामिल रहे और वह आधार को लेकर उस बेंच में भी रहे जिसने कहा था कि जिन लोगों के पास आधार नहीं है उन्हें सुविधाओं से वंचित नहीं किया जाएगा।

जस्टिस बोबडे ने 1978 में नागपुर विश्वविद्यालय से एलएलबी की डिग्री हासिल करने के बाद बार काउंसिल ऑफ महाराष्ट्र में नामांकन कराया। उन्होंने 21 साल तक बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच में प्रैक्टिस की और सुप्रीम कोर्ट में भी पेश हुए। उन्हें 1998 में वरिष्ठ वकील के रूप में नामित किया गया और बाद में मार्च, 2000 में बॉम्बे उच्च न्यायालय के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत किया गया था।

जस्टिस बोबडे के बारे में मुख्य बातें…

– जस्टिस शरद अरविंद बोबडे का जन्म 24 अप्रैल, 1956 को महाराष्ट्र के नागपुर में हुआ था

– नागपुर विश्वविद्यालय से बी.ए. और एल.एल.बी डिग्री ली है

– 1978 में जस्टिस बोबडे ने बार काउंसिल ऑफ महाराष्ट्र को ज्वाइन किया था

– इसके बाद बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच में लॉ की प्रैक्टिस की, 1998 में वरिष्ठ वकील बने

– 2000 में जस्टिस बोबडे ने बॉम्बे हाईकोर्ट में बतौर एडिशनल जज पदभार ग्रहण किया

– इसके बाद वह मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बने

– 2013 में सुप्रीम कोर्ट में बतौर जज कमान संभाली

– जस्टिस एस. ए. बोबड़े 23 अप्रैल, 2021 को रिटायर होंगे

– 18 नवंबर को जस्टिस बोबडे बतौर चीफ जस्टिस शपथ लेंगे

– मौजूदा CJI रंजन गोगोई ने उनके नाम की सिफारिश की थी

– राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनके नाम की मंजूरी दे दी है

– जस्टिस बोबडे आधार कार्ड, दिल्ली-NCR में पटाखों पर बैन समेत अन्य ऐतिहासिक फैसलों का हिस्सा रहे हैं।

Input : News24

Continue Reading

INDIA

पल भर में त’बाह होगा 2000 KM दूर बैठा दु’श्मन, भारत ने किया अग्नि-2 का सफल परीक्षण

Santosh Chaudhary

Published

on

भारत ने शनिवार को मध्यम दूरी के बै’लेस्टिक मि’साइल अग्नि-2 का सफल परीक्षण किया है. सरकारी सूत्रों के मुताबिक ओडिशा के बालासोर से इस मि’साइल का सफल परीक्षण किया गया.

यह परीक्षण इसलिए भी अहम है क्योंकि भारत ने पहली बार इस मिसाइल का रात में परीक्षण किया है. यह मिसाइल 2000 किलोमीटर तक मार कर सकती है. स्ट्रैटेजिक फोर्सेज कमांड द्वारा ओडिशा के तट से अग्नि-2 मिसाइल का परीक्षण किया गया.

अग्नि 2 बैलिस्टिक मिसाइल 20 मीटर लंबी होती है और यह 1000 किलो तक का वजन ले जाने में सक्षम है. आपको बता दें कि अग्नि-2 मिसाइल को पहले ही सेना में शामिल किया जा चुका है.

इसे डीआरडीओ की एडवांस्ड सिस्टम्स लेबोरेटरी ने तैयार किया है. इस मिसाइल को इंटीग्रेटेड गाइडेड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत बनाया गया है.

अत्याधुनिक नैविगेशन सिस्टम से युक्त इस मिसाइल में बेहतरीन कमांड और कंट्रोल सिस्टम है. यह मिसाइल अग्नि सीरीज मिसाइल का हिस्सा है. इस सीरीज में 700 किमी तक जाने वाली अग्नि-1 और 3000 किमी तक जाने वाली अग्नि-3 मिसाइल भी शामिल हैं. इनके अलावा लंबी दूरी तक मार करने वाली अग्नि-4 और अग्नि-5 भी इस सीरीज का हिस्सा हैं.

Continue Reading
Advertisement
MUZAFFARPUR27 mins ago

मौलवी के खिलाफ जल्द चार्जशीट करेगी पुलिस

MUZAFFARPUR1 hour ago

विधायक के बॉडीगार्ड का मोबाइल छीना

BIHAR1 hour ago

सुविधा : उत्तर बिहार के 22 रूटों पर चलेंगी 166 सरकारी बसें

MUZAFFARPUR2 hours ago

पूरे भारत में रविवार को सबसे ज्यादा प्रदूषित रहा मुजफ्फरपुर, पटना तीसरे नंबर पर

BIHAR2 hours ago

जिसकी मौ’त में 23 लोग जेल में, वह जिंदा लौटा

RELIGION2 hours ago

पर्व : मंगलवार को भैरव अष्टमी पर सिंदूर और तेल से करें भगवान का श्रृंगार और बोलें भैरव मंत्र

BIHAR2 hours ago

वशिष्ठ बाबू के नाम पर होगा कोईलवर का नया पुल: मंत्री

BIHAR3 hours ago

हाईटेक डुप्लेक्स में रहेंगे अब बिहार के MLA और MLC, सीएम आज देंगे सौगात

MUZAFFARPUR3 hours ago

सरैयागंज में रात को तीन घंटे तक ठप रहेगी बिजली

BIHAR3 hours ago

राहत की खबर: 22 नवंबर से पटना के चौक- चौराहों पर 35 रुपये किलो मिलेगा प्याज

MUZAFFARPUR2 days ago

मुजफ्फरपुर का थानेदार नामी गुं’डा के साथ मनाता है जन्मदिन! केक काटते हुए सोशल मीडिया पर तस्वीर वायरल…खाक होगा क्रा’इम कंट्रोल?

INDIA2 days ago

आ गया ‘मिर्ज़ापुर 2’ का टीजर, पंकज त्रिपाठी ने इंस्टाग्राम पर किया शेयर

BIHAR3 weeks ago

27 अक्टूबर से पटना से पहली बार 57 फ्लाइट, दिल्ली के लिए 25, ट्रेनों की संख्या से भी दाेगुनी

tharki-proffesor
MUZAFFARPUR3 days ago

खुलासा: कोचिंग आने वाली हर छात्रा को आजमाता था मुजफ्फरपुर का ‘पा’पी प्रोफेसर’, भेजा गया जे’ल

BIHAR3 weeks ago

पंकज त्रिपाठी ने माता पिता के साथ मनाई प्री दिवाली, एक ही दिन में वापस शूटिंग पर लौटे

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर के लाल शाहबाज नदीम का क्रिकेट देखेगा पूरा विश्‍व, भारतीय टीम में शामिल होने पर पिता ने कही बड़ी बात

MUZAFFARPUR1 day ago

कुंवारी मां बनी कटरा की पी’ड़िता से दु’ष्क’र्म का आ’रोपी माैलवी गि’रफ्तार

JOBS19 hours ago

भर्ती : 12वीं पास के लिए CISF में नौकरी, 300 जीडी हेड कांस्टेबल पदों के लिए करें आवेदन

BIHAR3 weeks ago

मदीना पर आस्‍था तो छठी मइया पर भी यकीन, 20 साल से व्रत कर रही ये मुस्लिम महिला

victory-of-gamcha-campaign-by-nilotpal
BIHAR1 day ago

होटल ने वेटरों के ड्रेस में गमछा किया शामिल

Trending

0Shares