Connect with us

MUZAFFARPUR

स्‍मार्ट स‍िटी के ल‍िए चयन‍ित मुजफ्फरपुर शहर की तीन प्रमुख सड़कों का न मरम्मत न निर्माण

Published

on

स्मार्ट सिटी मिशन के तहत निर्माण के लिए चयनित शहर की तीन मुख्य सड़कें जर्जर हो चलीं है। तकरीबन पांच साल से ये पुन: निर्माण अथवा मरम्मत की बाट जोह रही हैं, लेकिन कुछ नहीं हो रहा है। हिचकोले खाते इन सड़कों से गुजरना पड़ रहा है। अक्सर दुर्घटनाएं भी होती हैं।

जनवरी में ही होना था बैरिया-धर्मशाला चौक सड़क का निर्माण

Advertisement

स्मार्ट सिटी मिशन के तहत बैरिया से लक्ष्मी चौक, ब्रह्मपुरा, इमलीचट्टी, स्टेशन रोड होते हुए धर्मशाला चौक तक की सड़क को स्पाइनल रोड में शामिल किया गया है। इसका निर्माण 38.75 करोड़ रुपये से होना है, जिसका जिम्मा खोखर इंफ्रास्ट्रक्चर प्रा.लि. को दिया गया था। इस सड़क का निर्माण जनवरी 2022 तक पूरा कर लेना था, लेकिन अब तक नहीं किया जा सका है।

पेरीफेरल रोड का निर्माण भी अधर में

Advertisement

धर्मशाला चौक से नगर थाना, तिलक मैदान, नवयुवक समिति, सरैयागंज टावर होते हुए अखाड़ाघाट पुल तक पेरीफेरल रोड का निर्माण 20.73 करोड़ की लागत से होना है। इसके निर्माण का जिम्मा भी खोखर कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिया गया है। इस सड़क का काम भी जनवरी 2022 में ही पूरा होना था।

Genius-Classes

दिसंबर 2021 में ही बनकर तैयार हो जाना था स्मार्ट रोड

Advertisement

हरिसभा चौक से कल्याणी चौक होते हुए नगर थाना तक 6.67 करोड़ की लागत से स्मार्ट रोड का निर्माण होना है। इसके निर्माण को जिम्मा लिली कंस्ट्रक्शन प्रा. लि. को दिया गया है। इसका निर्माण दिसंबर 2021 में पूरा होना था।

जर्जर हाल में सभी सड़कें

Advertisement

तीनों सड़कों की हालत देखें तो लक्ष्मी चौक से बैरिया तक की पूरी सड़क टूट चुकी है। टूटी सड़क पर पानी बहता रहता है। स्टेशन रोड से धर्मशाला चौक तक की सड़क भी पूरी जर्जर है। आए दिन लोग यहां दुर्घटना के शिकार होते रहते हैं। इसी तरह तिलक मैदान रोड में नगर थाना से सरैयागंज टावर तक गुजरने वाले हिचकोले खाने को मजबूर हैं। वहीं हरिसभा चौक से कल्याणी होते हुए नगर थाना तक की सड़क भी पूरी तरह से जर्जर हो चुकी है।

न एजेंसी और न ही विभाग का ध्यान

Advertisement

हालत यह है कि न स्मार्ट सिटी द्वारा चयनित एजेंसी इन सड़कों का निर्माण करा रही है और स्मार्ट सिटी में इसके शामिल होने के कारण न पथ निर्माण विभाग इसका मरम्मत करा रहा है। इसका खामियाजा शहरवासियों को भुगतना पड़ रहा है।

स्मार्ट सिटी प्रबंध निदेशक विवेक रंजन मैत्रेय ने कहा कि, तीनों योजनाओं के तहत नाला निर्माण का काम चल रहा है। नाला निर्माण होते ही सड़क का काम तेजी से होगा। इसके लिए एजेंसियों पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है। उनपर जुर्माना भी लगाया गया है।

Advertisement

Source: Dainik Jagran

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Advertisement
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

MUZAFFARPUR

सावन के हरे रंग में सराबोर हुई सुहागिनें खूब लगाए ठुमके

Published

on

हाय हाय रे ये मज़बूरी,तेरे सौ टकिए की नौकरी में मेरा लाखों का सावन जाए,,,,,चूडी मजा न देगी कंगन मजा न देगा, तेरे बगैर साजन सावन मजा न देगा,,,,,सावन का महीना और हरी साड़ी से लिपटी सुहागिन जब एक जगह जुटेंगी तो ठुमके भी लगेंगे।

कुछ ऐसा ही हुआ रविवार को आयोजित “हरीतिमा सावन महोत्सव” में स्थानीय कलमबाग चौक स्थित एक होटल में आयोजित महोत्सव में महिलाओं ने घर के काम काज में से खुद को आजाद कर अपने माहौल को खूब जीया।

Advertisement

सामूहिक रूप से दीप प्रज्वलित कर गणेश वन्दना घर पे पधारो गज़ानन्द जी,,,,के साथ कार्यक्रम की शुरुआत की।

रैम्प वाक में सावन क्विन रश्मि प्रभात रंजन,फर्स्ट रनर अप अनामिका, सेकेंड रनर अप दीपा, डांस में अर्पिता, पुष्पांजलि चुनी गई। महिलाओं ने स्वछन्द होकर खूब मस्ती की। बावजूद अपनी परंपरा को नहीं छोड़ा। अरबा चावल,दूभी,सिंदूर, बिन्दी अंजुरी में ले रुपा सिंह ने सबके खोंईच्छा भर कर विदा किए।

Advertisement

संचालन कवियित्री मीनाक्षी मीनल ने किया। भूमिहार महिला समाज की ओर से आयोजित महोत्सव में कविता सिंह, सपना राज,डॉ सुभद्राकुमारी, डॉ बोधि कश्यप, पल्लवी दत्ता, भावना भूषण,मंजू सिंह, अनामिका सिंह, रश्मि सुमि,सोनी तिवारी, कोमल सिंह सहित सौ से अधिक महिलाओं ने भाग लिया।

Advertisement
Continue Reading

MUZAFFARPUR

रोक सूची में खेसरा संग थाना व वार्ड का नंबर भी

Published

on

जमीन खरीद-बिक्री की रोक सूची में शामिल खेसरा के रैयतों के लिए एक और राहत भरी खबर है। अंचल व जिला स्तर पर बनने वाली रोक सूची के खेसरा के साथ अब थाना व वार्ड नम्बर भी दर्ज करना होगा। पहले रोक सूची में थाना व वार्ड नम्बर दर्ज न रहने के कारण पूरे जिले का एक नम्बर का खेसरा एक साथ ब्लॉक हो जा रहा था, जिससे रोक सूची में शामिल खेसरा की संख्या 1.10 लाख से भी ऊपर हो गई थी। इससे रैयतों को नाहक परेशानी हो रही थी और उनकी खतियानी जमीन पर रोक सूची में शामिल बतायी जा रही थी।

डीएम प्रणव कुमार ने रोक सूची में संशोधन के लिए जो नया आदेश जारी किया है, उससे लोगों को बड़ी राहत मिलने वाली है। अब रोक सूची में खेसरा के साथ ही उसका वार्ड व थाना नम्बर भी दर्ज रहेगा। इसका लाभ यह होगा कि रोक सूची में वही खेसरा शामिल होगा जिस वार्ड की जमीन पर रोक लगायी जाएगी। डीएम ने सभी अंचलाधिकारियों को आदेश दिया है कि रोक सूची में शामिल सभी खेसरा के साथ थाना व वार्ड नम्बर दर्ज कर संशोधित रोक सूची बनायें, जिससे लोगों को राहत मिल सके। उन्होंने अंचलाधिकारियों को दो सप्ताह के भीतर संशोधित रिपोर्ट तैयार कर भेजने का आदेश दिया है। अंचलों में होने वाली इस सुधार के लिए अभियान चलेगा और इसकी मॉनिटरिंग दोनों डीसीएलआर करेंगे।

Advertisement

इसके साथ ही उन्होंने डीसीएलआर पूर्वी सह खास महाल पदाधिकारी को खास महाल की जमीन की विवरणी उपलब्ध कराने का आदेश दिया है।

जिले में अभी जो रोक सूची प्रभावी है, उसमें सिर्फ खेसरा संख्या दर्ज है। उसमें न तो खाता संख्या है, न वार्ड संख्या व और थाना नम्बर। उदाहरणत: यदि खेसरा नम्बर आठ को रोक सूची में शामिल किया गया, तो जिले के सभी वार्ड के आठ नम्बर खेसरा पर रोक लग जा रही थी।

Advertisement

अब वार्ड नम्बर दर्ज होने के बाद उसी वार्ड का खेसरा नम्बर ब्लॉक होगा, जिसका विवरण रोक सूची में शामिल रहेगा।

लोगों की इस समस्या को आपके अपने अखबार ‘हिन्दुस्तान’ ने प्रमुखता से उठाया था। इसके बाद राज्य स्तर पर रोक सूची की समीक्षा हुई और अब नया आदेश आया है। उम्मीद है कि जिले में रोक सूची में शामिल 1.10 लाख खेसरा घटकर अब कुछ हजार रह जाएगी।

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Genius-Classes

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर : स्मैकियों की 180 दिनों तक जमानत रोकने को पुलिस देगी अर्जी

Published

on

एनडीपीएस की जांच में खामियों पर हाइकोर्ट में फजीहत के बाद एसएसपी जयंतकांत ने सभी थानों को एसओपी जारी कर इसके पालन का निर्देश दिया है। नई हिदायत के अनुसार अब जब्त चरस-स्मैक की एफएसएल जांच होने तक स्मैकियों की जमानत 180 दिन तक रोकने के लिए पुलिस कोर्ट में आवेदन देगी। एनडीपीएस एक्ट में नियम के अनुसार चरस-स्मैक के साथ धराए आरोपितों के खिलाफ 90 दिन में जांच पूरी कर कोर्ट में पुलिस को चार्जशीट दाखिल कर देनी है।

यदि पुलिस 90 दिन में चार्जशीट दाखिल नहीं करती है तो कोर्ट आरोपित को जमानत का लाभ दे देता है। इस बाध्यता के कारण कांड के आईओ जब्त प्रदर्श की एफएसएल से रिपोर्ट लिए बगैर हड़बड़ी में आरोपितों के खिलाफ 90 दिन पूरी होने से पहले कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर रही थी। अब ऐसा नहीं होगा। यदि पहले 90 दिनों के अंदर जब्त चरस-स्मैक की जांच रिपोर्ट एफएसएल से नहीं मिलती है तो आईओ अगले 90 दिन तक आरोपी को जमानत नहीं देने के लिए कोर्ट में अर्जी देंगे। फिर 180 दिन के अंदर एफएसएल रिपोर्ट लेने के बाद ही कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की जायेगी। विशेष लोक अभियोजक केस मेंकानूनी पक्ष रखेंगे।

Advertisement

मजिस्ट्रेट की गैरमौजूदगी में जब्ती के लिए आरोपी से लेनी होगी मंजूरी

एनडीपीएस एक्ट के मुताबिक मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में ही चरस-स्मैक या मादक पदार्थ जब्त की जानी है। इसके लिए जब्ती स्थल पर मजिस्ट्रेट को बुलाना पुलिस के लिए अनिवार्य है। यदि जब्ती के समय से किसी कारणवश मजिस्ट्रेट नहीं उपलब्ध होते हैं तो आरोपित से एक मंजूरी पत्र लेना है, जिसमें आरोपी यह स्वीकार करेगा कि पुलिस अधिकारी के द्वारा ली जा रही तलाशी के लिए वह तैयार है और उसे कोई आपत्ति नहीं है। आरोपी की लिखित मंजूरी को पुलिस जब्ती सूची के साथ कोर्ट में पेश करेगी।

Advertisement

पुलिस को कोर्ट से लगी थी फटकार

अक्सर पुलिस खुद ही तलाशी लेकर एफआईआर में 50 पुड़िया या 100 पुड़िया चरस स्मैक जब्ती दिखा देती थी। यह एनडीपीएस नियम के अनुसार गलत है। इस नियम के उल्लंघन का मामला अहियापुर की एफआईआर में पकड़ी गई, जिसको लेकर हाइकोर्ट में मुजफ्फरपुर पुलिस के वरीय अधिकारियों को कड़ी फटकार लगी थी।

Advertisement

एनडीपीएस मामले में सभी बिंदुओं का पालन करने के लिए सभी थानेदारों को एसओपी जारी किया गया है। इसके तहत यदि पहले 90 दिन में एफएसएल रिपोर्ट नहीं मिलती है तो अगले 90 दिन और आरोपित को जमानत नहीं देने के लिए कोर्ट में अर्जी दी जायेगी। बगैर एफएसएल रिपोर्ट के कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करने वाले आईओ पर कार्रवाई की जायेगी। – जयंतकांत, एसएसपी

Source : Hindustan

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Genius-Classes

Continue Reading
MUZAFFARPUR1 hour ago

सावन के हरे रंग में सराबोर हुई सुहागिनें खूब लगाए ठुमके

BIHAR3 hours ago

ललन सिंह बोले- नीतीश कुमार का कद घटाने को हुआ षड्यंत्र, आरसीपी थे दूसरा ‘चिराग मॉडल’

BIHAR8 hours ago

पटना हाईकोर्ट ने दिया आदेश, बिहार के 14 कॉलेजों की मान्यता होगी रद्द

INDIA8 hours ago

राम और रामायण से जुड़े स्थलों को देखें फिर से एक बार, 24 से शुरू हो रही है रामायण सर्किट रेल यात्रा

INDIA10 hours ago

इस्लामिक अध्ययन के 2 छात्रों ने जीता रामायण क्विज, धाराप्रवाह पढ़ते हैं संस्कृत श्लोक

MUZAFFARPUR10 hours ago

रोक सूची में खेसरा संग थाना व वार्ड का नंबर भी

MUZAFFARPUR13 hours ago

मुजफ्फरपुर : स्मैकियों की 180 दिनों तक जमानत रोकने को पुलिस देगी अर्जी

BIHAR13 hours ago

शादी करने के लिए पटना से पानीपत पहुंच गए 5 नाबालिग, पुलिस भी हैरान

BIHAR13 hours ago

पारस अस्पताल के डाॅक्टर पर रेप का आराेप, गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस टीम पर बाउंसर्स ने किया हमला

BIHAR23 hours ago

सरकारी अस्पतालों में अब आयुष्मान भारत के लाभार्थियों की मदद करेंगे समर्पित आरोग्य मित्र

BIHAR4 weeks ago

आईटीआई पास छात्रों को अग्निवीर बनने का मौका

BIHAR3 weeks ago

बिहार दारोगा रिजल्ट : छोटी सी दुकान चलाने वाले सख्स की दो बेटियाँ एक साथ बनी दारोगा

job-alert
BIHAR1 week ago

बिहार: मैट्रिक व इंटर पास महिलाएं हो जाएं तैयार, जल्द होगी 30 हजार कोऑर्डिनेटर की बहाली

INDIA3 weeks ago

प्यार के आगे धर्म की दीवार टूटी, हिंदू लड़के से मुस्लिम लड़की ने मंदिर में की शादी

BIHAR3 weeks ago

बिहार में तेल कंपनियों ने जारी की पेट्रोल-डीजल की नई दरें

BIHAR4 weeks ago

बिहार में युवक की पीट-पीटकर हत्या, प्राइवेट पार्ट को काट डाला

BIHAR4 days ago

बीपीएससी 66वीं रिजल्ट : वैशाली के सुधीर बने टॉपर ; टॉप 10 में मुजफ्फरपुर के आयुष भी शामिल

BIHAR4 weeks ago

पिता ने ट्यूशन फीस के लिए दिए 60 हजार रुपए, बेटे ने साइलेंसर वाली पिस्टल खरीद पिता की हत्या

BIHAR1 day ago

एक साल में चार नौकरी, फिर शादी के 30वें दिन ही BPSC क्लियर कर गई बहू

BIHAR3 weeks ago

बिहार : अब शिकायत करें, 3 से 30 दिनों के भीतर सड़क की मरम्मत हाेगी

Trending