नेपाल में बारिश और भीषण तूफान ने मचाई तबाही, 31 की मौत, 400 घायल
Connect with us
leaderboard image

Uncategorized

नेपाल में बारिश और भीषण तूफान ने मचाई तबाही, 31 की मौत, 400 घायल

Santosh Chaudhary

Published

on

नेपाल में रविवार से शुरू बारिश और भयंकर तूफान की वजह से भारी तबाही हुई है. तूफान की चपेट में आने से अब तक 31 लोगों की मौ’त हो चुकी है जबकि 400 से ज्यादा घा’यल हुए हैं. बारा जिले में 27 और पर्सा जिले में 4 लोगों के मा’रे जाने की आधिकारिक पुष्टि हो चुकी है. बताया जा रहा है कि अस्पतालों में बेड और ब्लड का बहुत ही अभाव देखा गया है.

इस बीच, राहत और बचाव कार्य के लिए सशस्त्र पुलिस बल और नेपाल सेना की टीम को बाढ़ प्रभावित इलाकों में तैनात कर दिया गया है. प्रशासन स्थिति से निपटने में लगा हुआ है. टेंट और तिरपाल लेकर राहत बचाव दल विभिन्न स्थानों पर पहुंच रहा है.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक नेपाल सेना के प्रवक्ता यम प्रसाद धकाल ने बताया कि आपात स्थिति से निपटने के लिए दो हेलिकॉप्टर तैनात किए गए हैं. सिमर इलाके में भी सेना हालात से निपटने के लिए मुस्तैद है. बारिश और तूफान से प्रभावित इलाकों में 100 से ज्यादा सैन्यकर्मियों को तैनात किया गया है. बचाव एवं राहत कार्य जारी है.

नेपाल के समाचार पत्र ‘हिमालयन टाइम्स’ के मुताबिक रविवार को यह तूफान दक्षिणी जिले बारा और पास के परसा में शाम के समय आया. जिला पुलिस कार्यालय के मुताबिक परसा में हताहतों की संख्या बढ़ सकती है. खबरों के मुताबिक कम से कम 31 लोगों की मौत हो चुकी है और 400 लोग घायल हुए हैं.

नेशनल इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर ने बताया कि घायलों का उपचार कई अस्पतालों में चल रहा है. प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली ने लोगों के मारे जाने की घटना पर दुख व्यक्त किया और मृतकों के परिजन के प्रति संवेदना व्यक्त की है.

बता दें कि 2012 में नेपाल में हुई भारी बारिश से बाढ़ आ गई थी जिसमें दो हजार घर तबाह हो गए थे. नेपाल के डांग जिले में राप्ती नदी में आई बाढ़ से 2000 घर बह गए. इसमें चार हजार से ज्यादा लोग प्रभावित हुए थे.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TRENDING

लिंचिंग पर पीएम को पत्र लिखने वालों के खिलाफ आखिर मुजफ्फरपुर में ही केस क्यों ?

Ravi Pratap

Published

on

मॉब लिंचिंग के विरोध में इस पत्र पर हस्ताक्षर करने वाले देश की तमाम मशहूर शख्सियतों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का निर्देश जिला अदालत ने दिया है.मुजफ्फरपुर के स्थानीय वकील सुधीर कुमार ओझा ने दो महीने पहले मुजफ्फरपुर के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट यानी सीजेएम सूर्यकांत तिवारी की कोर्ट में अर्जी दी थी कि इन लोगों ने ऐसा करके देश के प्रधानमंत्री की छवि धूमिल की है जो कि राजद्रोह जैसा जुर्म है, इसलिए इनके खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज होना चाहिए.

 

सीजेएम ने ओझा की याचिका पिछले महीने बीस अगस्त को स्वीकार कर ली थी जिसके इसके बाद गुरुवार यानी तीन अक्टूबर को सदर पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज हुई. एफआईआर में ओझा ने आरोप लगाया है कि देश की इन जानी-मानी हस्तियों ने देश और प्रधानमंत्री मोदी की छवि को कथित तौर पर धूमिल किया. याचिकाकर्ता ने इन सभी लोगों पर अलगाववादी प्रवृत्ति का समर्थन करने का भी आरोप लगाया.

23 जुलाई को प्रधानमंत्री को लिखे गए पत्र में विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े देश के तमाम लोगों ने मांग की थी कि मॉब लिंचिंग जैसे मामलों में जल्द से जल्द और सख्त सजा का प्रावधान किया जाना चाहिए. पत्र लिखने वालों में इतिहासकार रामचंद्र गुहा, फिल्मकार मणि रत्नम, अपर्णा सेन, गायिका शुभा मुद्गल, अभिनेत्री कोंकणा सेन शर्मा, फिल्मकार श्याम बेनेगल, अनुराग कश्यप सहित विभिन्न क्षेत्रों की कम से कम 49 हस्तियां शामिल थीं.

पुलिस के मुताबिक इस मामले में भारतीय दंड संहिता यानी आईपीसी की कई धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की गई है इसमें राजद्रोह, उपद्रव करने, शांति भंग करने के इरादे से धार्मिक भावनाओं को आहत करने से संबंधित धाराएं लगाई गईं हैं. अब इन लोगों को या तो अग्रिम जमानत लेनी होगी या फिर गिरफ्तार होने के लिए तैयार रहना होगा.

क्या है बिहार कनेक्शन

जिन हस्तियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है उनमें से शायद ही किसी का संबंध बिहार से हो. फिर भी यह मामला बिहार के मुजफ्फरपुर में क्यों दर्ज हुआ, यह सवाल उठना लाजिमी है. हालांकि ऐसे पहले भी कई मामले सामने आते रहे हैं जिनमें वादी का सीधे तौर पर किसी मामले से संबंध न हो और उस जगह का भी संबंध न हो जहां शिकायत की जा रही हो, फिर भी कई बार अदालतों के आदेश पर या सीधे ही पुलिस में एफआईआर दर्ज करा दी जाती है.

सुप्रीम कोर्ट में वकील दुष्यंत पाराशर कहते हैं, “यदि कोई मामला जनहित का हो या फिर देश और समाज के बड़े हिस्से के हितों से सरोकार रखता हो तो उन्हें कोई भी और किसी भी जगह दर्ज करा सकता है. ऐसे में कोर्ट खुद संज्ञान लेती है कि मामले में कितनी गंभीरता है. ऐसे मामलों में न्यायाधिकार क्षेत्र नहीं देखा जाता है.”

दुष्यंत पाराशर कहते हैं कि किसी व्यक्ति के बयान से यदि किसी की भावना आहत होती है तो जरूरी नहीं कि उस व्यक्ति ने जहां बयान दिया है या वो जहां से ताल्लुक रखता है, वहीं केस दर्ज कराया जाए. पीड़ित व्यक्ति या आहत व्यक्ति कहीं भी केस दर्ज करा सकता है. उनके मुताबिक, ये विवेचना और फिर कोर्ट में सुनवाई के दौरान पता चल जाएगा कि मामले में कितना दम है या फिर जिस व्यक्ति की भावना आहत हुई है क्या वह सचमुच ऐसा मामला है जो व्यापक स्तर पर जनसमुदाय की भावनाओं से सरोकार रखता हो.

हालांकि कुछ जानकारों का ये भी कहना है कि ऐसे मामलों में जो प्रार्थना पत्र दिया जाता है उसमें इस बात को स्पष्ट करना जरूरी होता है कि क्या यह मामला सच में जनहित या देशहित से जुड़ा है और इसमें न्यायाधिकार क्षेत्र का मुद्दा नहीं आएगा. उत्तर प्रदेश में अभियोजन विभाग में अतिरिक्त निदेशक रह चुके हरिहर पांडेय कहते हैं, “सामान्य मामलों में तो इस बात का ध्यान रखा जाना आवश्यक है कि मामला किस न्यायाधिकार क्षेत्र का है लेकिन कुछ मामलों में इसका विस्तार भी होता है और राजद्रोह जैसे मामलों में इसका कोई औचित्य नहीं रह जाता. लेकिन यह भी सच है कि इसमें इस बात को पूरे प्रमाणों और दस्तावेजों के साथ बताना भी पड़ेगा कि ये कैसे राजद्रोह है.”

केस दर्ज करने के कैसे कैसे आधार

वरिष्ठ वकीलों और कानूनी जानकारों के मुताबिक, ऐसे मामलों को कहीं भी दर्ज कराने में कोई दिक्कत भले ही न हो लेकिन इस तरह के मामलों में नोटिस जारी करके या फिर एफआईआर के आदेश देने के पीछे कई बार जजों के ‘चर्चा में आने की ख्वाहिश’ भी रहती है.

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील डॉक्टर सुरत सिंह कहते हैं कि जनहित याचिकाओं और न्यायिक सक्रियता के मामलों में अदालतों की आलोचना इसीलिए हुई क्योंकि कई ऐसे मामले हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में प्राथमिकता के तौर पर सुने जाने लगे, जो कि जनहित के नाम पर तो लाए गए थे लेकिन उससे भी व्यापक जनहित के मामलों को इनकी तुलना में नजरअंदाज कर दिया गया. ऐसा सिर्फ इसलिए कि उन मामलों की चर्चा होती थी और अखबारों में खबरें छपती थीं.

तीन साल पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट ने निचली अदालत के एक जज को इसलिए निलंबित कर दिया था क्योंकि वो आए दिन किसी न किसी मामले में चर्चित राजनीतिक हस्तियों या फिर ऐसे ही लोगों को नोटिस जारी करके कोर्ट में हाजिर होने का निर्देश देते थे. साल 2016 में महोबा के एक सिविल जज अंकित गोयल को इसलिए निलंबित कर दिया गया था क्योंकि वह न्यायिक कार्यों में अविवेकपूर्ण फैसले लेते थे. उनके खिलाफ यह कार्रवाई इलाहाबाद हाईकोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस के आदेश पर की गई थी.

दरअसल अंकित गोयल ने सितंबर 2015 में समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह के खिलाफ नोटिस जारी कर उन्हें हाजिर होने को कहा था. इसके अलावा उन्होंने तत्कालीन केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली को भी किसी मामले में खुद ही संज्ञान लेते हुए उनके खिलाफ धारा 124A और आईपीसी की धारा 505 के तहत मामला दर्ज किया था. उन्होंने तत्कालीन मंत्री आजम खान को भी किसी मामले में हाजिर होने का निर्देश दिया था.

रिपोर्ट : निधि चोपड़ा

(हम ज्यादा दिन WhatsApp पर आपके साथ नहीं रह पाएंगे. ये सर्विस अब बंद होने वाली है. लेकिन हम आपको आगे भी नए प्लेटफॉर्म Telegram पर न्यूज अपडेट भेजते रहेंगे. इसलिए अब हमारे Telegram चैनल को सब्सक्राइब कीजिए)

Continue Reading

Uncategorized

प्लास्टिक की जगह अब बांस की बोतल में पीएं पानी, गडकरी आज करेंगे लॉन्च

Santosh Chaudhary

Published

on

2 अक्टूबर से केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्र’तिबंध लगाने की तैयारी में है. इसीलिए सरकार एक नया विकल्प लाई है. इसके विकल्प के तौर पर एमएसएमई मंत्रालय (MSME) के अधीन कार्यरत खादी ग्रामोद्योग आयोग ने बांस की बोतल का निर्माण किया है, जो प्लास्टिक बोतल की जगह इस्तेमाल होगी. केंद्रीय एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी ने बांस की इस बोतल को एक कार्यक्रम के दौरान लॉन्च कर दिया है.

क्या होगी इस बोतल की कीमत- इस बांस की बोतल की क्षमता कम से कम 750 एमएल की होगी और इसकी कीमत 300 रुपये से शुरू होगी. यह बोतलें पर्यावरण के अनुकूल होने के साथ-साथ टिकाऊ भी हैं. दो अक्तूबर से खादी स्टोर में इस बोतल की बिक्री की शुरुआत होगी.

2 अक्टूबर है और इस दिन गांधी जयंती के अवसर पर सिंगल यूज प्लास्टिक के इस्तेमाल पर सरकार पूरी तरह से प्रतिबंध लगा रही है.

हालांकि केवीआईसी द्वारा पहले ही प्लास्टिक के गिलास की जगह मिट्टी के कुल्हड़ का निर्माण शुरू किया जा चुका है. इस प्रक्रिया के तहत अभी तक मिट्टी के एक करोड़ कुल्हड़ बनाए जा चुके हैं.

Image result for bamboo bottle

ये चीजें भी की गई लॉन्च

केवीआईसी ने वित्त वर्ष के अंत तक एक करोड़ की क्षमता को तीन करोड़ तक ले जाने का लक्ष्य रखा है. माना जा रहा है कि इससे रोजगार भी पैदी होगा.

गडकरी बांस की बोतल के अलावा खादी के अन्य प्रोडक्ट्स भी लॉन्च किया है. नितिन गडकरी ने महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर 2 अक्टूबर से खादी ग्रामोद्योग उत्पादों पर विशेष छूट दिए जाने की घोषणा की और कई नए उत्पादों का उद्घाटन किया.

इसके साथ सोलर वस्त्र(सोलर चरखा से बना), गोबर से बना साबुन और शैम्पू, कच्ची घानी सरसो तेल सहित कई उत्पाद लांच किया गया है.

Continue Reading

Uncategorized

न कोई राजा-न रंक..बिहार बाढ़ की इन 10 तस्वीरों ने विकास के दावों की खोल दी पोल

Santosh Chaudhary

Published

on

बिहार में तीन दिनों से जारी भारी बारिश ने नीतीश सरकार की विकास के दावों की पोल खोल कर रख दी है. राजधानी पटना बाढ़ और बारिश के पानी में पूरी तरह डूब चुका है जबकि पूर्वी बिहार के ज्यादातर हिस्सों में भी बारिश के रौद्र रूप ने लोगों के जीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया है. राज्य में भारी बारिश और बाढ़ से अब तक 40 लोगों की मौत हो चुकी है. पटना में आई बाढ़ ने आम आदमी तो क्या सरकार के मंत्रियों को भी नहीं बख्शा है और हालात इतने बदतर हो चुके हैं कि डिप्टी सीएम सुशील मोदी का भी एनडीआरएफ को रेस्क्यू करना पड़ा. सुशील मोदी के सरकारी आवास में भी बाढ़ का पानी घुस चुका है. सुशील मोदी रेस्क्यू के बाद अपने सामान के साथ एक फ्लाईओवर पर खड़े नजर आए जिसके बाद उनकी यह तस्वीर वायरल हो गई.

न कोई राजा-न रंक..बिहार बाढ़ की इन 10 तस्वीरों ने विकास के दावों की खोल दी पोल

 

न कोई राजा-न रंक..बिहार बाढ़ की इन 10 तस्वीरों ने विकास के दावों की खोल दी पोल

सारण से बीजेपी सांसद और पूर्व मंत्री रह चुके राजीव प्रताप रूडी के भी आवास में बाढ़ का पानी भर गया है. अगर आप इन दिनों उनके घर जाना चाहेंगे तो पैदल या गाड़ी से नहीं बल्कि नाव से जाना होगा. पूरा पटना जलमग्न हो गया है.

न कोई राजा-न रंक..बिहार बाढ़ की इन 10 तस्वीरों ने विकास के दावों की खोल दी पोल

राजधानी पटना में आई बरसाती बाढ़ से आम और खास सब डूबे हुए है. कई इलाकों में मकानों की पहली मंजिल आधे से ज्यादा डूब चुकी है. इसी बीच पटना के कदम कुआं इलाके से हाईकोर्ट के जज साहब और उनके परिवार का रेस्क्यू करना पड़ा.

न कोई राजा-न रंक..बिहार बाढ़ की इन 10 तस्वीरों ने विकास के दावों की खोल दी पोल

बिहार की स्वरकोकिला शारदा सिन्हा का भी पटना के राजेन्द्रनगर स्थित घर में पानी घुस गया जिसके बाद उन्हें एनडीआरएफ की टीम ने रेस्क्यू कर सुरक्षित जगह पहुंचाया.

न कोई राजा-न रंक..बिहार बाढ़ की इन 10 तस्वीरों ने विकास के दावों की खोल दी पोल

पटना साहिब सीट से बीजेपी के सांसद और केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने राजधानी पहुंचकर बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया और उन्होंने बताया कि इससे पहले उन्होंने ऐसी स्थिति कभी नहीं देखी थी.

न कोई राजा-न रंक..बिहार बाढ़ की इन 10 तस्वीरों ने विकास के दावों की खोल दी पोल

गली, मोहल्ले, स्कूल-कॉलेज, सड़क, बाजार से शोरूम तक के अंदर पानी घुस गया है. पटना में जलजमाव से प्रभवित लोगों की मदद के लिए बिहार सरकार ने गृह मंत्रालय से 2 हेलिकॉप्टर की मांग की है. साथ ही कोल इंडिया से जल जमाव को निकालने के लिए पम्प की भी मांग की है.

न कोई राजा-न रंक..बिहार बाढ़ की इन 10 तस्वीरों ने विकास के दावों की खोल दी पोल

इस बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रदेश में लगातार हो रही मूसलाधार बारिश के मद्देनजर रविवार को फिर बैठक की और पटना में जलजमाव वाले इलाकों का दौरा की हालात का जायजा लिया. बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि गंगा नदी के दोनों किनारे स्थित 12 जिलों में लोगों के लिए दिक्कत की स्थिति पैदा हो गई है.

न कोई राजा-न रंक..बिहार बाढ़ की इन 10 तस्वीरों ने विकास के दावों की खोल दी पोल

पानी में फंसे लोगों का रेस्क्यू करने की कोशिश की जा रही है. पानी का कर्फ्यू लागू है और सहमा हुआ सा शहर अपनी बेबसी पर रोता नजर आ रहा है. बिहार में बारिश और बाढ़ से बिगड़े हालात को देखते हुए स्कूलों और कॉलेजों की दो दिन की छुट्टी कर दी गई है. पटना दरिया हो चुका है.

न कोई राजा-न रंक..बिहार बाढ़ की इन 10 तस्वीरों ने विकास के दावों की खोल दी पोल

मूसलाधार बारिश के मद्देनजर रविवार को फिर बैठक की और पटना में जलजमाव वाले इलाकों का दौरा की हालात का जायजा लिया. बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि गंगा नदी के दोनों किनारे स्थित 12 जिलों में लोगों के लिए दिक्कत की स्थिति पैदा हो गई है.

न कोई राजा-न रंक..बिहार बाढ़ की इन 10 तस्वीरों ने विकास के दावों की खोल दी पोल

पानी में फंसे लोगों का रेस्क्यू करने की कोशिश की जा रही है. पानी का कर्फ्यू लागू है और सहमा हुआ सा शहर अपनी बेबसी पर रोता नजर आ रहा है. बिहार में बारिश और बाढ़ से बिगड़े हालात को देखते हुए स्कूलों और कॉलेजों की दो दिन की छुट्टी कर दी गई है. पटना दरिया बन चुका है.

Input : Ajj Tak

Continue Reading
Advertisement
RELIGION16 mins ago

सुप्रीम कोर्ट से अयोध्‍या के’स वापस लेगा सुन्‍नी वक्‍फ बोर्ड, विवादि’त जमीन पर छोड़ेगा कब्‍जा

BIHAR54 mins ago

VIDEO: बिहार में इस तरह भी होता है बच्चों का जन्म, वीडियो देखकर आपको भी आएगी शर्म

BIHAR3 hours ago

बिहार के इन 3 शहरों में जल्द दूर होगी पानी की किल्लत, पीने के लिए मिलेगा गंगाजल

STORY3 hours ago

प्रांजल बनीं भारत की पहली नेत्रहीन महिला IAS, प्रेरणादायक है इनकी कहानी

INDIA4 hours ago

Ayodhya Case: CJI गोगोई ने किया स्‍पष्‍ट, अयोध्या मामले की आज पूरी हो जाएगी सुनवाई

MUZAFFARPUR4 hours ago

एक हजार वेपर लाइट हुईं खराब शहर की सड़कें व गलियां अंधेरे में

RELIGION13 hours ago

कब से शुरू हुई छठ महापर्व मनाने की परंपरा, जानिए पौराणिक बातें

BIHAR13 hours ago

बिहार में TET को लेकर पटना हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, उम्र खत्‍म होने के बाद भी दे सकेंगे परीक्षा

INDIA15 hours ago

मां के लिए फ्रिज खरीदने 35 किलो सिक्के लेकर गया, दो हजार रु. कम निकले तो शोरूम ने छूट दी

BIHAR15 hours ago

चैतन्य प्रसाद और आनंद किशोर की छुट्टी, बिहार में 8 IAS अधिकारियों का तबादला

BIHAR2 days ago

63वीं परीक्षा का रिजल्ट जारी, श्रीयांश तिवारी बने टॉपर, यहां देखें लिस्ट

BIHAR5 days ago

पटना पहुंची प्रीति जिंटा, एक झलक पाने को बेताब दिखी भीड़

BIHAR2 weeks ago

KBC 11: वैज्ञानिक के नाम से जुड़े सवाल पर अटकी बिहार की साइंस टीचर संगीता, गेम छोड़ने का लिया निर्णय

BIHAR3 days ago

संभावना सेठ के साथ रॉयल फुलार ने मनाया अपना प्रथम वर्षगाँठ

INDIA7 days ago

Reliance Jio यूजर्स को लगा बड़ा झटका, अन्‍य मोबाइल नेटवर्क पर कॉल करने के लिए देना होगा पैसा

MUZAFFARPUR6 days ago

मुजफ्फरपुर से दिल्ली के लिए चलेगी सुविधा स्पेशल

BIHAR5 days ago

पटना: IIT मुंबई ने सबसे कम उम्र के प्रोफेसर तथागत तुलसी को नौकरी से निकाला, जानिए कारण

BIHAR3 weeks ago

हाई वोल्‍टेज फैमिली ड्रामा: प्रेमी के घर के सामने धरना पर बैठी प्रेमिका, बोली- चल कर शादी

BUSINESS4 days ago

Paytm इस्तेमाल करने वालों के लिए बुरी ख़बर

MUZAFFARPUR3 weeks ago

बिहार में 28 नवंबर से 12 दिसंबर के बीच आठ जिलों की सेना बहाली, ये कागजात लाना होगा जरूरी

Trending

0Shares