Connect with us

STORY

मर्डर के बाद शव सड़ने तक शारिरिक संबंध, कटे सिर शोकेस पर रखने का शौक; डरावनी है इस सीरियल किलर की कहानी

Published

on

आपने निठारी के शैतान सुरेंद्र कोली के बारे में सुना होगा। यह उससे भी भयानक और खूंखार था। इसकी शक्ल देखकर इसकी हैवानियत और शैतानी सोच का अंदाजा लगाना मुश्किल है। महज 23 साल की उम्र में इसने पहली वारदात को अंजाम दिया। अमेरिका के इस कुख्यात सीरियल किलर का नाम- थियोडोर रॉबर्ट बंडी है। इसने 30 से अधिक महिलाओं को अपना शिकार बनाया था। इस किलर को टेड बंडी के नाम से भी जाना जाता था। 80 के दशक में महिलाओं के दिल में इसका खौफ था। यह सुंदर महिलाओं से फ्लर्ट करता फिर मौका पाकर रेप के बाद मर्डर और फिर कई दिनों तक शव के साथ शारिरिक संबंध बनाना इसका शौक था। निशानी के तौर पर यह सिर को धड़ से अलग करके शो केस में सजाकर भी रखता था। शव से संबंध बनाने से पहले शवों पर मेकअप भी करता था। दो बार से जेल से फरार हुए इस साइको किलर को कोर्ट ने इलेक्ट्रिक चेयर पर बैठाकर करंट से मौत की सजा सुनाई थी। जब ये मरा तो जश्न के मारे लोगों ने जमकर पटाखे फोड़े थे। जानते हैं इस सीरियल किलर की कहानी…

Her Murder Was Tied to Ted Bundy. Then the Case Went Cold.

मानवीय इतिहास में कई खूंखार सीरियल किलर हुए हैं। इनमें में एक था- टेड बंडी उर्फ थियोडोर रॉबर्ट बंडी। अमेरिका के इस कुख्यात सीरियल किलर थियोडोर रॉबर्ट बंडी का जन्म 24 नवंबर 1946 को बर्लिंगटन में हुआ था। यह पहले महिला या लड़की का अपहरण करता था। फिर उन्हें अपनी हवस का शिकार बनाता था और फिर जान से मार देता था। इस साइको किलर के सनकीपन का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यह शवों के साथ कई दिनों तक शारिरिक संबंध बनाता था, जब तक शव सड़ न जाए या कोई जानवर उसे अपना शिकार न बना दे।

महिलाओं से फ्लर्टिंग भी

80 के दशक में इसका इतना खौफ था कि इसके नाम से भी लोग डरते थे। रिपोर्ट बताती है कि इसके निशाने पर अक्सर महिलाएं ही होती थी और इसने 30 से ज्यादा महिलाओं को अपना शिकार बनाया था। 1971 से पहले इसके अपराध का कोई रिकॉर्ड नहीं था लेकिन, 1974 से 1978 तक इसने अमेरिका के कई शहरों में संगीन वारदातों को अंजाम दिया था। यह दिखने में काफी हैंडसम था और इसलिए अक्सर महिलाएं इसके चंगुल में फंस जाती थी। यह उनसे फ्लर्ट करता था और फिर अपने मंसूबों को अंजाम दिया।

कटे सिर शोकेस पर रखने का शौक

टेड बंडी इस कदर साइको था कि उसने अपने घर में 12 से अधिक महिलाओं के कटे हुए सिर शोकेस में इस कदर संभाल कर रखे थे, मानो कोई ट्रॉफी हो। मीडिया रिपोर्ट कहती है कि उसने पहली वारदात की कोशिश 23 साल की उम्र में 1969 को की। उसने महिला का अपहरण का प्रयास किया लेकिन सफल नहीं हो पाया। यह बात उसने अपने एक दोस्त निल्सन को बताई थी। हालांकि पुलिस अधिकारी ऑफ रिकॉर्ड बताते हैं कि उसने 1969 में अटलांटिक सिटी में दो महिलाओं के साथ दरिंदगी की और फिर हैवानियत की सारी हदें पार कर दी थी। यह उसका पहला क्राइम था। लेकिन, इसका कोई आधिकारिक रिकॉर्ड नहीं मिलता है।

इसक सीरियल किलर की वारदातों का जिक्र करें तो एक बार इसने एक महिला के घर में चोर की तरह एंट्री ली। वह सो रही थी। पहले सिर पर हमला कर बेहोश किया। फिर लोहे की छड़ी से ऐसी दरिंदगी दिखाई कि वह महिला हमेशा के लिए विकलांग हो गई। इसने 10 से अधिक महिलाओं के घर पर घुसकर वारदातों को अंजाम दिया था।

मौत पर जेल के बाहर फोड़े गए पटाखे

टेड बंडी को पहली बार 16 अगस्त 1975 को गिरफ्तार किया था। लेकिन 7 जून 1977 को वह जेल से भाग निकला। 13 जून को फिर गिरफ्तार हुआ लेकिन, 30 दिसंबर 1977 को फिर फरार हो गया। 15 फरवरी को इसे फिर पकड़ा गया और जनवरी 1989 को इसे मौत की सजा सुनाई गई। इसे फ्लोरिडा के जेल में सवेरे 7 बजे इलेक्ट्रिक चेयर पर बैठाकर करंट देकर मौत दी गई। इसकी मौत पर जेल के बाहर जश्न में पटाखे फोड़े गए थे।

Source : Hindustan

nps-builders

Genius-Classes

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

STORY

ज्ञान की बात: आखिर जींस के पैंट में क्यों बनी होती है एक छोटी पॉकेट

Published

on

दुनिया में जींस को अमेरिका ने इंट्रोड्यूस करवाया. इस देश से होते हुए जींस दुनिया के सारे कोनों में पहुंच गया. जिस जींस को आज फैशन स्टेटमेंट माना जाता है, असल में उसका निर्माण मजदूरों के लिए किया गया था. जींस बनाने के पीछे कारण था मजदूरों के कपड़े ज्यादा गंदे ना हों. जी हां, बार-बार पैंट को धोना ना पड़े इस कारण जींस बनाई गई थी. आज के समय में हर कोई जीन्स पहनता है. इसके पॉकेट के अंदर के हिस्से में एक छोटा पॉकेट बना रहता है. इसे हम सिक्के रखने के लिए इस्तेमाल करते हैं. लेकिन आपको बता दें कि असल में ये किसी और चीज के लिए बनाया गया है.

प्रतीकात्मक तस्वीर

जींस के पॉकेट के अंदर के एरिया में एक छोटा सा स्पेस बनाया जाता है. आमतौर पर हम इसमें सिक्के डाल देते हैं. लेकिन दाएं तरफ बनी का असली उपयोग किसी और कारण से होता है. दरअसल,इसे सिक्के नहीं, बल्कि छोटी घड़ी रखने के लिए यूज किया जाता है. दरअसल,जींस का इतिहास काफी पुराना है. शुरुआत में तो इसे मजदूरों के लिए बनाया गया था लेकिन बाद में ये फैशन स्टेटमेंट बन गया. 18वीं सदी में छोटी चेन वाली घड़ियां चलती थी. उसी घड़ी को रखने के लिए पॉकेट में ये स्पेस बनाया गया था. इस स्पेस को बनाना लेवी स्ट्रॉस नाम की कंपनी ने शुरू किया था. यही अब लेविस बन चुका है.

Knowledge: आखिर जींस में छोटी पॉकेट्स और बटन क्यों होते हैं? बेहद रोचक है इसकी वजह

जींस के दाएं तरफ मौजूद इस स्पेस को आधिकारिक तौर पर वॉच पॉकेट कहा जाता है. पुराने समय में काऊब्वॉयज़ इसके अंदर चेन वाली घड़ी रखते थे. लेकिन बाद में जब इस घड़ी का चलन कम हुआ तो लोगों को लगने लगा कि असल में ये सिक्के रखने के लिए बनाए जाते हैं.इस स्पेस में घड़ी रखने से इसके टूटने-फूटने के चांसेस कम होते थे. इसका इस्तेमाल हर मजदुर करता था. बाद में इस वॉच पॉकेट को लोग इतना पसंद करने लगे कि अब भी इसे दायीं तरफ बनाया जाता है.

प्रतीकात्मक तस्वीर

(मुजफ्फरपुर नाउ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

Continue Reading

STORY

फुल टाइम जॉब के साथ तैयारी करके IAS बनीं याशनी नागराजन, सीखें बेहतर टाइम मैनेजमेंट

Published

on

नई दिल्ली: संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा को देश के सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है और ज्यादातर कैंडिडेट्स को लगता है कि इसकी तैयारी फुल टाइम करनी पड़ती है, लेकिन कुछ स्टूडेंट ऐसे भी होते हैं, जो नौकरी करने के साथ ही सिविल सर्विस एग्जाम पास कर लेते हैं और आईएएस बन जाते हैं. ऐसी ही कुछ स्टोरी अरुणाचल प्रदेश की रहने वाली यशनी नागराजन की है, जिन्होंने फुल टाइम जॉब के साथ रोजाना सिर्फ 4-5 घंटे पढ़ाई की और आईएएस अफसर बनने का सपना पूरा किया.

May be an image of 1 person, standing, food and outdoors

याशनी ने पहले की इंजीनियरिंग

याशनी नागराजन  ने अपनी स्कूली शिक्षा अरुणाचल प्रदेश के नाहरलगुन स्थित केंद्रीय विद्यालय से की. 12वीं के बाद याशनी ने पापुम पारे जिले के युपिया में स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग में एडमिशन लिया और उन्होंने इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में बीटेक पूरा किया.

Meet IAS officer Yashni Nagarajan, who got AIR 57 in UPSC exam along with full-time job

फुल टाइम जॉब के साथ यूपीएससी की तैयारी

बीटेक करने के बाद याशनी नागराजन  की नौकरी लग गई, लेकिन उनका सपना हमेशा से आईएएस अफसर बनने का था. इसके बाद उन्होंने नौकरी के साथ ही यूपीएससी एग्जाम  की तैयारी करने का फैसला किया. हालांकि फुल टाइम जॉब के साथ यह इतना आसान नहीं था, लेकिन उन्होंने बेहतर टाइम मैनेजमेंट से यह संभव कर दिखाया.

Haldiram Bhujiawala, Muzaffarpur - Restaurant

रोज कर पाती थीं सिर्फ 4-5 घंटे पढ़ाई

फुल टाइम जॉब के बावजूद याशनी नागराजन  पढ़ाई के लिए समय निकाल लेती थीं, लेकिन वह एक दिन में सिर्फ 4-5 घंटे ही पढ़ाई कर पाती थीं. हालांकि वह वीकेंड का पूरा इस्तेमाल करती थीं और पूरे दिन पढ़ाई करती थीं. DNA की रिपोर्ट के अनुसार, याशनी मानती है कि फुल टाइम जॉब करने के साथ ही यूपीएससी एग्जाम की तैयारी कर सकते हैं, लेकिन वीकेंड पर आपको ज्यादा ध्यान देना होगा.

तीसरे प्रयास में याशनी को मिली सफलता

याशनी नागराजन ने कड़ी मेहनत से यूपीएससी एग्जाम की तैयारी की, लेकिन पहले दो प्रयासों में उन्हें सफलता नहीं मिली. तीसरे प्रयास में याशनी चयनित हुईं और ऑल इंडिया में 834वीं रैंक हासिल की, लेकिन वो अपनी रैंक से संतुष्ट नहीं थी. इसके बाद उन्होंने चौथी बार एग्जाम देने का फैसला किया.

चौथे प्रयास में बनीं IAS अफसर

लगातार दो असफलताएं और तीसरी बार 834वीं रैंक हासिल करने के बाद भी याशनी नागराजन  ने हिम्मत नहीं हारी और खुद को मोटिवेट करते हुए चौथी बार यूपीएससी परीक्षा दी. चौथे प्रयास में भी याशनी को सफलता मिली और उन्होंने 57वीं रैंक हासिल कर आईएएस बनने का सपना पूरा किया. याशनी के पिता थंगावेल नागराजन रिटायर्ड पीडब्ल्यूडी इंजीनियर हैं और उनकी मां गुवाहाटी हाई कोर्ट रजिस्ट्री के ईटानगर शाखा की रिटायर्ड सुपरिटेंडेंट हैं.

पहले 2 प्रयासों में क्यों नहीं मिली सफलता?

याशनी नागराजन बताती है कि उनकी असफलता पीछे सबसे बड़ी कमी ऑप्शनल विषय था. उन्होंने गलत ऑप्शनल चुन लिया था, क्योंकि उनके सारे दोस्त वही चुन रहे थे. तीन बार उन्होंने उसी ऑप्शनल सब्जेक्ट के साथ परीक्षा दी और चौथी बार में उसे बदलने के बाद सफलता हाथ लगी. वे कहती हैं ऑप्शनल सब्जेक्ट का चुनाव बहुत ज्यादा जरूरी है, इसलिए सोच-समझकर ही चुनना चाहिए.

Source : Zee News

(मुजफ्फरपुर नाउ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Continue Reading

STORY

‘तुम कोई कलेक्टर हो क्या?’, सवाल चुभा तो पास कर ली IAS की परीक्षा; प्रियंका शुक्ला की कहानी

Published

on

आज बात एक ऐसी महिला की जिसने अपनी जिंदगी में जो ठाना वो कर के दिखाया। लगन और मेहनत के बूते यह महिला वहां तक पहुंची जहां पहुंचने की तमन्ना कई लोगों के दिल में होती है। आज हम बात कर रहे हैं आईएएस अफसर प्रियंका शुक्ला की। छत्तीसगढ़ की यह आईएएस अफसर सोशल मीडिया पर भी एक्टिव रहती हैं औऱ कोरोना वायरस जैसे घातक संक्रमण के खिलाफ लोगों को जागरूक करने का काम भी करती हैं।

हालांकि, आईएएस अफसर बनने से पहले प्रियंका शुक्ला एक एमबीबीएस डॉक्टर थीं। लेकिन उनकी जिंदगी में एक ऐसा वाकया हुआ जिसके बाद वो आईएएस अफसर बन गईं। साल 2006 में प्रियंका शुक्ला ने लखनऊ के KGMU संस्थान से MBBS की डिग्री हासिल की थी। ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने लखनऊ में काम शुरू कर दिया था।

अपने कामकाज के दौरान ही वो लखनऊ के एक झोपड़पट्टी इलाके में पहुंची थीं। यहां पहुंचने के बाद उन्होंने देखा कि एक महिला और उनका बच्चा प्रदूषित पानी पी रहे हैं। उस वक्त प्रियंका शुक्ला ने महिला से पूछा था कि आप यह पानी क्यों पी रही हैं? इसपर महिला ने प्रियंका शुक्ला को जवाब दिया कि ‘क्या तुम कोई कलेक्टर हो?’…महिला की यह बात सुनकर प्रियंका शुक्ला चकित रह गई थीं। महिला की बात प्रियंका को इतनी चुभी कि उन्होंने आईएएस अफसर बनने का फैसला कर लिया। इसके लिए उन्होंने साल 2009 में अपनी तैयारी शुरू की। दूसरी बार में प्रियंका शुक्ला ने यूपीएससी की परीक्षा पास कर ली

प्रियंका शुक्ला के बारे में बताया जाता है कि उनकी गिनती बेहतरीन आईएएस अफसरों में होती है। वो बेहतरीन कविताएं लिखती हैं और एक अच्छी नर्तकी भी हैं। इसके अलावा उन्हें गाने और पेंटिग्स का भी शौक है। अपनी कलाकारी से वो सोशल मीडिया पर अपने प्रशंसकों को अक्सर चकित करती रहती हैं।

सोशल मीडिया पर उनके कई प्रशंसक मौजूद हैं। अकेले ट्विटर पर उन्हें 70,000 लोग फॉलो करते हैं। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के कार्यकाल में अपने बेहतरीन काम के लिए प्रियंका शुक्ला अवार्ड भी जीत चुकी हैं। कोरोना वायरस के खिलाफ लोगों को जागरुक करने के उनके काम को लोगों के बीच काफी पसंद किया जाता है।

Input: jansatta

Continue Reading
MUZAFFARPUR4 hours ago

बेला में दो कंपनिया लगाएगी फैक्ट्री, रोजगार के खुलेंगे द्वार

Uncategorized4 hours ago

समाधान यात्रा के दौरान सिटी पार्क व नगर भवन भी जा सकते हैं सीएम नीतीश

crime-news-muzaffarpur-now-india-bihar
MUZAFFARPUR18 hours ago

मुजफ्फरपुर: दिनदहाड़े महिला के गले से छीना सोने का चेन, विरोध करने पर की फायरिंग

WORLD19 hours ago

प्रलय… और फिर प्रलय… 7.8… 7.5… 1500 से ज्यादा मरे, हजारों घायल

MUZAFFARPUR21 hours ago

सकरा में सीएम नीतीश के आगमन को लेकर दिन रात युद्ध स्तर पर चल रहा काम

VIRAL24 hours ago

उत्तर प्रदेश: 63 साल के बुजुर्ग ने 24 साल की लड़की से की दूसरी शादी, 6 लड़कियों का पिता है दूल्हा

AUTOMOBILES1 day ago

मारुति सुजुकी अपनी गाड़ियों पर दे रही बंपर ऑफर, सस्ते दाम पर घर लाएं अपनी फेवरेट कार

BIHAR1 day ago

कलयुगी बेटे की काली करतूत, लड़की के चक्कर में मां-बाप को भेजवा दी जेल

BIHAR1 day ago

जल्द पटना लौटेंगे लालू यादव, 10 फरवरी तक सिंगापुर से हो सकती है उनकी स्वदेश वापसी!

INDIA1 day ago

कड़ी कार्रवाई : सट्टेबाजी-कर्ज वाले 232 चीनी ऐेप बंद

BIHAR2 weeks ago

वैशाली का यह मिठाई दुकानदार निकला करोड़पति, पटना और नोएडा में फ्लैट; 1.83 करोड़ कैश मिले

MUZAFFARPUR3 weeks ago

मुजफ्फरपुर के जंक्शन पर खड़ी भाप इंजन की ट्रेन पर अब हो रही चर्चा, सामने आयी तस्वीर

BIHAR3 weeks ago

यूट्यूब से बिहारी लड़के ने की बंपर कमाई, खरीद ली 50 लाख की ऑडी कार

TECH3 weeks ago

20 हजार वाला OnePlus 5G स्मार्टफोन मात्र 1,399 रुपये में खरीदें!

INDIA4 weeks ago

ग्राहक को केवाईसी अपडेट करवाने के लिए बैंक जाने की ज़रूरत नहीं: आरबीआई

BIHAR3 weeks ago

आधी रात में एटीएम केबिन में मिला प्रेमी जोड़ा, एटीएम काटने की सूचना पर पहुंची थी पुलिस

DHARM4 weeks ago

15 जनवरी को मनाई जाएगी मकर संक्रांति, सुबह से शाम तक है शुभ मुहूर्त

TRENDING4 weeks ago

मम्मी ने ठंड में नहाने को कहा तो नाराज होकर 9 साल के बच्चे ने बुला ली पुलिस

Uncategorized3 weeks ago

‘गिल है कि मानता नहीं…’, दोहरा शतक जड़कर छाए शुभमन, छह हफ्ते में तोड़ दिया वर्ल्ड रिकॉर्ड

VIRAL2 weeks ago

70 साल के ससुर ने 28 साल की बहू से की शादी, मांग भर मंदिर में लिए सात फेरे!

Trending