Connect with us

BIHAR

किशनगंज के 37 स्कूलों में सरकारी आदेश का उल्लंघन, रविवार की जगह शुक्रवार को हो रही छुट्टी

Published

on

पटना/किशनगंज. झारखंड में मुस्लिमों की बड़ी आबादी वाले जिलों के 100 से अधिक सरकारी स्कूलों में रविवार की जगह शुक्रवार को साप्ताहिक अवकाश की खबरें हाल में ही सामने आई थीं. अब झारखंड की तरह बिहार के 37 स्‍कूलों में रविवार की जगह जुमे यानी शुक्रवार को अवकाश रखे जाने की बात सामने आई है. इन स्कूलों में बच्चे रविवार को पढ़ने आते हैं और शुक्रवार को छुट्टी मनाते हैं. बिहार के किशनगंज जिले में के 19 स्कूलों का मामला सुर्खियों में बना हुआ है जहां शुक्रवार को छुट्टी दी जाती है.

Genius-Classes

बिहार के किशनगंज जिले में मुस्लिम समुदाय के लोग अधिक हैं; इसलिए यहां शिक्षा के मंदिर को भी धर्म के आधार पर चलाया जा रहा है. यहां नियम सरकार नहीं बल्कि आबादी नियमों को बना रही है; और यह खेल बहुत लंबे समय से चला आ रहा है. सबसे खास बात यह है कि शिक्षा विभाग को इसकी भनक तक नहीं है. किशनगंज मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र है. लगभग 80 % मुस्लिम आबादी है और यहां आबादी का दबाव सरकारी नियमों व संविधान पर भारी पड़ रहा है. जहां पूरे हिंदुस्तान में स्कूल रविवार को बंद होते है. वहीं किशनगंज में नियम सबसे अलग हैं. यहां के कई स्कूलों में जुमे की छुट्टी होती है.

Advertisement

बता दें कि यह केवल मौखिक रूप पर नहीं चल रहा है बल्कि सरकारी दस्तावेजों में इसका जिक्र है. इन दस्तावेजो में साफ-साफ लिखा गया है कि किस-किस स्कूल में जुमे का अवकाश होता है. ये अपने आप में चौंकाने वाला दस्तावेज है कि पूरे किशनगंज जिले में जुमे के दिन स्‍कूलों को बंद कर रविवार को खोला जाता है. सबसे खास यह कि स्कूल के साथ उर्दू शब्द लग गया तो वह मुस्लिम स्कूल हो गया और अवकाश जुमे का हो गया. सवाल उठने लगे हैं कि अगर शिक्षा का आधार ही धर्म के आधार पर हो गया तो हम समाज में धर्म की समानता को कैसे बनाए रख पाएंगे ?

Advertisement

बजरंगदल के सदस्य गणेश झा ने कहा कि हम सभी जानते हैं कि पूरे भारत में विद्यालय सरकारी हो या निजी; सभी रविवार को बंद होते हैं. लेकिन, किशनगंज मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र है जहां की लगभग 80 % मुस्लिम आबादी है. इस कारण यहां पर स्कूल रविवार की जगह जुमे को बंद किए जा रहे हैं. रविवार की जगह शुक्रवार को छुट्टी का आदेश केवल इसलिए है क्योंकि यहां मुस्लिम अधिक है.

शिक्षा विभाग के अधिकारी सुभाष कुमार गुप्ता किशनगंज के डीईओ हैं. इनका कहना है कि कोई आदेश नहीं मिला है. ऐसा लंबे समय से चलता आ रहा है. उनको खुद इस बात की जानकारी नहीं है कि यह सब हो कब से रहा है. किशनगंज डीईओ ने कहा कि पहले यह पूर्णिया का जिला का अंग हुआ करता था; इसलिए पूर्णिया सेल से संपर्क करने का प्रयास किया जा रहा है. उनके साथ कोई पत्राचार हुआ हो जिसके आधार पर शुरुआत हुई हो.

Advertisement

बहरहाल, सवाल यही है कि जिले में रविवार की जगह जुमे की छुट्टी हो रही और शिक्षा अधिकारी को कुछ पता ही नहीं. स्‍कूलों को बंद करने का कोई सरकारी आदेश, अधिसूचना या दस्तावेज किसी के पास मौजूद नहीं है; पर छुट्टी जुमे की हो रही है. आंकड़ों की मानें तो जिले में 37 सरकारी स्कूलों को रविवार की जगह शुक्रवार को बंद किया जाता है.

आंकड़ों में चौकाने वाला एक और तथ्‍य निकल कर सामने आया है.आश्चर्य की बात है कि यह कोई निजी स्कूल या मदरसा नहीं है बल्कि यह साधारण सरकारी स्कूल है और सरकार के पैसों से चलते हैं. इन स्कूलों में उर्दू की भी पढ़ाई होती है, लेकिन इनमें पढ़ने वाले बच्चे केवल मुस्लिम समुदाय के नहीं है बल्कि इन स्कूलों में दूसरे धर्म के बच्‍चे भी पढ़ते हैं. मगर अब आबादी के अनुसार यहां धर्म के आधार पर नियम तय किए जा रहे हैं.

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

किशनगंज में धर्म; शिक्षा के मंदिर पर इस कदर हावी है कि कुछ समय पहले यहां के एक उर्दू विद्यालय, जिसमें उर्दू केवल विषय के रूप पढ़ाई जाती है. इसे मुस्लिम स्कूल घोषि‍त कर दिया गया है. इस विद्यालय में एक प्रिंसिपल की पोस्टिंग के बाद उनकी जॉइनिंग पर जमकर हंगामा मचा था. स्कूल में बतौर प्रिंसिपल जॉइनिंग के विरोध में यहां के स्‍थानीय लोग, स्थानीय विधायक और मेयर सहित तमाम नेता उतर आए थे. उनका कहना था कि उर्दू स्‍कूल में हिंदू प्रिंसिपल की बहाली नहीं होनी चाहिए. मगर यह स्‍कूल सरकारी विद्यालय है.

nps-builders

बहरहाल, सवाल यह है कि जिस तरह से आबादी के हिसाब से शिक्षण संस्‍थानों के नियम और कानून बदले जा रहे हैं, व्यवस्थाओं को बदला जा रहा है, वो दिन दूर नहीं जब संविधान में भी बदलाव देखने को मिल सकता है. यह कहना गलत नहीं होगा.

Advertisement

जिला शिक्षा पदाधिकारी का कहना है कि यह परंपरा वर्षों से चली आ रही है. जिसे अब तक बदला नहीं गया. वो इन दस्तावेजों को तलाश रहे हैं. अब जब यह मामला सामने आया है तो इस बात की जानकारी ली जाएगी कि स्‍कूलों को बंद करने का आदेश पहले कब दिया गया, किस आधार पर दिया गया.

हालांकि, उन्‍होंने ये बात जरूर कही कि ये स्‍कूलों को शुक्रवार को बंद करने का कोई अधिकारिक दस्तावेज उनके पास नहीं है. पर अब सवाल आता है कि क्या धर्म के आधार पर नियम तय होंगे. व्यवस्था धर्म के आधार पर चलेगी. नियम सरकार के चलेंगे या मन मर्जी से चलेंगे. अगर बचपन की शिक्षा ही धर्म के नियम पर दी जाएगी तो संविधान में समानता की बात तो खत्म ही हो जाती है.

Advertisement

Source : News18

Advertisement
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

BIHAR

जिस पति को पाने के लिए घर से की बगावत उसी ने शादी के महज तीन साल बाद दी दर्दनाक मौत

Published

on

बगहा. अनिता और अनिल एक दूसरे के साथ सात जन्मों तक साथ निभाने का वायदा करते नहीं थकते थे. अनिता तीन साल पहले अनिल के प्रेम में इस कदर पागल हुई कि उसने अपने परिवार से ही बगावत कर लिया जिसने उसे जन्म देने के बाद उसकी परवरिश की. अनिता और अनिल की प्रेम कहानी जब परवान चढने लगा तो ग्रामीणों ने वर्ष 2019 में दोनों का प्रेम विवाह कराकर साथ जीने का आजाद कर दिया. अनिता भी प्रेमी से पति बने अनिल चौधरी के साथ हंसी खुशी रहने लगी लेकिन दोनों की खुशी को परिवार की नजर लग गई.

प्रेम कहानी बिहार के बगहा की है जहां लालच ने कलह पैदा कर दिया. सब रिश्ते को छोड़कर ससुराल पहुंची अनिता के परिजनों से दहेज की मांग होने लगी. बात-बात में मारपीट और झगड़ा के बीत अनिता का सपना टूट गया जिसे देखकर वह अनिल के साथ आई थी. शनिवार की रात उसकी आखिरी रात बन गई जब अनिल के घर से उसकी अर्थी निकल पड़ी.

Advertisement

दहेज के लिए हत्या का आरोप, पिता ने कहा- बेटी को किया जाता रहा प्रताड़ित

बगहा नगर थाना क्षेत्र के आनंद नगर मुहल्ला वार्ड संख्या 26 निवासी छोटेलाल चौधरी के पुत्र अनिल चौधरी की पत्नी अनिता देवी की संदेहास्पद स्थिति में लाश मिलने से गांव में हड़कंप मच गया. ग्रामीणों ने बताया कि अनिता और अनिल चौधरी की शादी प्रेम प्रसंग में हुई थी. ग्रामीणों के समक्ष बिना दान दहेज के. मृत विवाहिता के पिता सुभाष चौधरी ने बताया कि मेरी बेटी को दहेज के लिए प्रताड़ित किया जा रहा था. 3 लाख रुपये की मांग की जा रही थी. मैं दहेज में 3 लाख रुपया नहीं दिया तो मेरी बेटी की गला दबा कर ससुर छोटेलाल चौधरी, अनिल चौधरी और सास चिंता देवी ने हत्या कर दी.

Advertisement

आरोपी पति के साथ सास-ससुर भी गिरफ्तार

अनिता की हत्या की खबर के तत्काल बाद पहुंची पुलिस ने शव को बरामद कर पोस्टमार्टम कराया. हत्या के मामलें में पुलिस ने अनिता के पति अनिल चौधरी, ससुर छोटेलाल चौधरी और सास चिंता देवी को गिरफ्तार कर लिया है. बगहा थानाध्यक्ष अनिल कुमार सिन्हा के नेतृत्व में पुलिस की टीम तफ्तीश कर मामलें के खुलासा करने में जुटी है. एसडीपीओ कैलाश प्रसाद ने बताया कि मृतका के पिता सुभाष चौधरी ने बेटी की हत्या करने का मामला दर्ज कराया है. मौके पर पहुंचे नगर थानाध्यक्ष अनिल कुमार सिंह ने शव को अपने कब्जे में लेकर सास ससुर व पति, तीनों को गिरफ्तार कर लिया है तथा घटना के कारणों की जांच में पुलिस जुट गई है.

Advertisement

Source : News18

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Genius-Classes

Advertisement
Continue Reading

MUZAFFARPUR

सावन के हरे रंग में सराबोर हुई सुहागिनें खूब लगाए ठुमके

Published

on

हाय हाय रे ये मज़बूरी,तेरे सौ टकिए की नौकरी में मेरा लाखों का सावन जाए,,,,,चूडी मजा न देगी कंगन मजा न देगा, तेरे बगैर साजन सावन मजा न देगा,,,,,सावन का महीना और हरी साड़ी से लिपटी सुहागिन जब एक जगह जुटेंगी तो ठुमके भी लगेंगे।

कुछ ऐसा ही हुआ रविवार को आयोजित “हरीतिमा सावन महोत्सव” में स्थानीय कलमबाग चौक स्थित एक होटल में आयोजित महोत्सव में महिलाओं ने घर के काम काज में से खुद को आजाद कर अपने माहौल को खूब जीया।

Advertisement

सामूहिक रूप से दीप प्रज्वलित कर गणेश वन्दना घर पे पधारो गज़ानन्द जी,,,,के साथ कार्यक्रम की शुरुआत की।

रैम्प वाक में सावन क्विन रश्मि प्रभात रंजन,फर्स्ट रनर अप अनामिका, सेकेंड रनर अप दीपा, डांस में अर्पिता, पुष्पांजलि चुनी गई। महिलाओं ने स्वछन्द होकर खूब मस्ती की। बावजूद अपनी परंपरा को नहीं छोड़ा। अरबा चावल,दूभी,सिंदूर, बिन्दी अंजुरी में ले रुपा सिंह ने सबके खोंईच्छा भर कर विदा किए।

Advertisement

संचालन कवियित्री मीनाक्षी मीनल ने किया। भूमिहार महिला समाज की ओर से आयोजित महोत्सव में कविता सिंह, सपना राज,डॉ सुभद्राकुमारी, डॉ बोधि कश्यप, पल्लवी दत्ता, भावना भूषण,मंजू सिंह, अनामिका सिंह, रश्मि सुमि,सोनी तिवारी, कोमल सिंह सहित सौ से अधिक महिलाओं ने भाग लिया।

Advertisement
Continue Reading

BIHAR

ललन सिंह बोले- नीतीश कुमार का कद घटाने को हुआ षड्यंत्र, आरसीपी थे दूसरा ‘चिराग मॉडल’

Published

on

आरसीपी सिंह इस्तीफे और उसके बाद चल रही गतिविधि पर जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने कहा कि पार्टी से आरसीपी सिंह के त्यागपत्र देने पर मुझे कुछ नहीं कहना. लेकिन आरसीपी सिंह ने जो कहा, उस पर मुझे आश्चर्य है. उन्होंने कहा कि दरअसल यह नीतीश कुमार का कद घटाने को षड्यंत्र हुआ है. समय आने पर बताया जाएगा कि यह साजिश किसने की.

ललन सिंह ने कहा कि आरसीपी सिंह पर नीतीश कुमार ने खूब भरोसा किया. नीतीश कुमार ने उनकी पहचान बनाई. आरसीपी सिंह जेडीयू को जानते ही कितना है? ललन सिंह ने कहा कि वे कभी संघर्ष के साथी नहीं रहे. वे हमेशा सत्ता के साथी रहे. इस बार सत्ता जाने की उनकी बौखलाहट दिखी. ललन सिंह के मुताबिक, जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी बने नहीं, बल्कि नीतीश कुमार ने उन्हें बनाया. मुझे भी नीतीश कुमार ने राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया. मैं जेडीयू का केयरटेकर हूं.

Advertisement

ललन सिंह ने आरसीपी सिंह के उस बयान को आड़े हाथ लिया, जिसमें उन्होंने जदयू को डूबता जहाज बताया था. ललन सिंह ने कहा कि जेडीयू डूबता नहीं, दौड़ता जहाज है. नीतीश कुमार ने जहाज में छेद करने वाले को बाहर निकाल दिया. ललन सिंह ने कहा कि एक चिराग तैयार था, दूसरा चिराग मॉडल तैयार हो रहा था.

जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि आरसीपी को जेडीयू की एबीसीडी भी पता नहीं. वे क्या जानते हैं समता पार्टी और जेडीयू के बारे में? आरसीपी सिंह के मंत्रिमंडल में शामिल होने पर तंज करते हुए ललन सिंह ने कहा कि माला लेकर गए और खुद पहन लिया. नीतीश कुमार भुंजा खाते हैं, इस पर भी आपत्ति है.

Advertisement

ललन सिंह ने आरसीपी के बयान को लेकर पूछा, अगर नीतीश कुमार काम नहीं करते हैं तो बिहार का विकास कैसे हुआ. उन्होंने कहा कि आरसीपी सिंह को देर सबेर जाना था. उनका तन यहां था और मन कहीं और. त्यागपत्र दे दिए, अब जहां मन करे, चले जाइए. आप स्वतंत्र नागरिक हैं.

ललन सिंह ने कहा कि षड्यंत्र कैसे हुआ, कहां हुआ, हमें मालूम है. सब प्रमाण है. समय आने पर बताया जाएगा. जेडीयू सांसदों की बैठक के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस बारे कोई जानकारी नहीं है मुझे. उन्होंने कहा कि एनडीए में ऑल इज वेल है.

Advertisement

केंद्र के साथ तालमेल को लेकर उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव और उपराष्ट्रपति चुनाव में हम साथ रहे हैं. लेकिन केंद्रीय मंत्रिमंडल में जेडीयू के शामिल होने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल में शामिल होने की क्या जरूरत है. 2019 में नीतीश कुमार का निर्णय था कि हम मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होगे. देश में महंगाई के मुद्दे को राजद के उठाने को लेकर ललन सिंह ने कहा कि तेजस्वी को लगता है यह जनता का मुद्दा है. उन्होंने उठाया है तो हम विरोध क्यों करें.

ललन सिंह ने कहा कि कुछ लोग नाव में छेद कर पानी घुसाना चाहते हैं. हम नीतीश कुमार के आभारी हैं कि उन्होंने साजिश पहचाना ली. उन्होंने कहा कि सत्ता जाने पर आरसीपी सिंह की बौखलाहट स्वाभाविक है. आरसीपी सिंह लकीर मिटाने की कोशिश कर रहे हैं.

Advertisement

Source : News18

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Genius-Classes

Advertisement
Continue Reading
BIHAR14 mins ago

जिस पति को पाने के लिए घर से की बगावत उसी ने शादी के महज तीन साल बाद दी दर्दनाक मौत

MUZAFFARPUR2 hours ago

सावन के हरे रंग में सराबोर हुई सुहागिनें खूब लगाए ठुमके

BIHAR4 hours ago

ललन सिंह बोले- नीतीश कुमार का कद घटाने को हुआ षड्यंत्र, आरसीपी थे दूसरा ‘चिराग मॉडल’

BIHAR8 hours ago

पटना हाईकोर्ट ने दिया आदेश, बिहार के 14 कॉलेजों की मान्यता होगी रद्द

INDIA9 hours ago

राम और रामायण से जुड़े स्थलों को देखें फिर से एक बार, 24 से शुरू हो रही है रामायण सर्किट रेल यात्रा

INDIA10 hours ago

इस्लामिक अध्ययन के 2 छात्रों ने जीता रामायण क्विज, धाराप्रवाह पढ़ते हैं संस्कृत श्लोक

MUZAFFARPUR11 hours ago

रोक सूची में खेसरा संग थाना व वार्ड का नंबर भी

MUZAFFARPUR14 hours ago

मुजफ्फरपुर : स्मैकियों की 180 दिनों तक जमानत रोकने को पुलिस देगी अर्जी

BIHAR14 hours ago

शादी करने के लिए पटना से पानीपत पहुंच गए 5 नाबालिग, पुलिस भी हैरान

BIHAR14 hours ago

पारस अस्पताल के डाॅक्टर पर रेप का आराेप, गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस टीम पर बाउंसर्स ने किया हमला

BIHAR4 weeks ago

आईटीआई पास छात्रों को अग्निवीर बनने का मौका

BIHAR3 weeks ago

बिहार दारोगा रिजल्ट : छोटी सी दुकान चलाने वाले सख्स की दो बेटियाँ एक साथ बनी दारोगा

job-alert
BIHAR1 week ago

बिहार: मैट्रिक व इंटर पास महिलाएं हो जाएं तैयार, जल्द होगी 30 हजार कोऑर्डिनेटर की बहाली

INDIA3 weeks ago

प्यार के आगे धर्म की दीवार टूटी, हिंदू लड़के से मुस्लिम लड़की ने मंदिर में की शादी

BIHAR3 weeks ago

बिहार में तेल कंपनियों ने जारी की पेट्रोल-डीजल की नई दरें

BIHAR4 weeks ago

बिहार में युवक की पीट-पीटकर हत्या, प्राइवेट पार्ट को काट डाला

BIHAR4 days ago

बीपीएससी 66वीं रिजल्ट : वैशाली के सुधीर बने टॉपर ; टॉप 10 में मुजफ्फरपुर के आयुष भी शामिल

BIHAR4 weeks ago

पिता ने ट्यूशन फीस के लिए दिए 60 हजार रुपए, बेटे ने साइलेंसर वाली पिस्टल खरीद पिता की हत्या

BIHAR2 days ago

एक साल में चार नौकरी, फिर शादी के 30वें दिन ही BPSC क्लियर कर गई बहू

BIHAR3 weeks ago

बिहार : अब शिकायत करें, 3 से 30 दिनों के भीतर सड़क की मरम्मत हाेगी

Trending