Connect with us

JOBS

वर्क फ्रॉम होम की वजह से पेशेवर और निजी जिंदगी के बीच पिस रहे हैं लोग, केवल एम्पलॉयर हैं फायदे में

Published

on

ओमिक्रॉन  आने से पहले ऐसा लगा कि काम करने का तरीका शायद फिर से पहले ही की तरह हो जाएगा, लेकिन ऐसा हुआ नहीं. संक्रमण के डर के चलते सरकार से लेकर बड़ी तकनीक से जुड़ी कंपनी और कॉरपोरेशन ने अपने कर्मचारियों को घर से काम करने का आदेश जारी रखा ताकि शारीरिक दूरी बनी रहे और कोविड के फैलने का खतरा कम हो सके. इसमें कोई दो राय नहीं है कि वर्क फ्रॉम होम करने से जिंदगी कुछ तो आसान हुई. मसलन लोगों के लिए अब घंटों सफर करके दफ्तर जाने का झंझट नहीं रहा, लोग बड़े शहरों में घर पर बैठ कर काम करने के बजाए अपने पैतृक निवास पर जाकर आसानी से काम कर रहे हैं. लेकिन इसका एक बड़ा नुकसान यह हुआ है कि अब व्यक्ति की निजी और पेशेवर जिंदगी में फर्क नहीं रहा है. एक आईटी कंपनी में काम करने वाले मोहित गुप्ता ने पीटीआई को बताया कि इससे उनकी जिंदगी में काम का संतुलन पूरी तरह बिगड़ चुका है. बस एक बड़ा फायदा यही है कि मैं अपने परिवार के साथ हूं और इस काम की नई संस्कृति की वजह से मेरा परिवार सुरक्षित है.

काम का बढ़ गया है बोझ

माइक्रोसॉफ्ट का 2021 वर्क ट्रेंड इंडेक्स भी मोहित की बात से सहमत नजर आता है, जिसमें इस बात पर जोर दिया गया है कि ज्यादा उत्पादकता ने लोगों को बुरी तरह से थका दिया है. मोहित कहते हैं कि अब उन्हें ज्यादा काम करना पड़ रहा है. कई बार तो वह नहा तक नहीं पाते हैं. दफ्तर का समय बढ़ कर सुबह 9 से रात के 11 बजे तक हो चुका है. इस तरह कहने को मैं परिवार के साथ रह रहा हूं, लेकिन अब परिवार को और कम वक्त दे पा रहा हूं.

clat

वर्क फ्रॉम होम और नियोक्ता

साफ तौर पर दफ्तर से दूर काम करने से नियोक्ताओं को लाभ है. लागत में कमी, कर्मचारियों का ज्यादा देर तक काम करना ,भर्ती में आसानी, कंपनियों की इसमें व्यवसायिक लागत भी कम आती है, मसलन फर्नीचर, बिजली, पानी, दफ्तर का किराया और दूसरे तमाम खर्चे जो दफ्तर खोलने पर किए जाते हैं सभी कम हो जाते हैं.

शशि थरूर ने कहा- भारत को अवसर का लाभ उठाना चाहिए

सांसद शशि थरूर ने ट्विटर पर कहा कि महामारी और वर्क फ्रॉम होम को लेकर पश्चिमी कंपनियों को समझ में आया है कि अमेरिका में दूरस्थ काम से विदेश से काम कराना कितना सस्ता हो सकता है. इसके चलते भारतीय लहजे को अमेरिकी लहजे में बदलने वाले सॉफ्टवेयर फल-फूल रहे हैं जिससे रियल टाइम में काम हो जाता है. ऐसे में भारत को अवसर का लाभ उठाना चाहिए.

फेसबुक, ट्विटर, गूगल जैसी अमेरिकी कंपनियों सहित भारत की भी कई कंपनियां भी अब वर्क फ्रॉम होम को बढ़ावा दे रही है. मसलन टाटा स्टील की वर्क फ्रॉम पॉलिसी जिसे एजाइल वर्किंग मॉडल कहा जाता है उसके तहत कर्मचारियों को पूरे साल भर वर्क फ्रॉम होम चुनने का अधिकार है.

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

वर्क फ्रॉम होम से महिलाओं पर बढ़ा बोझ

पायल सरकारी स्कूल में शिक्षका हैं. वह अपनी दो साल के बेट के साथ-साथ घर और ऑनलाइन क्लास संभालती हैं जो उन्हें बुरी तरह थका देता है. उनका कहना है कि शादीशुदा महिला के लिए वर्क फ्रॉम होम बेहद मुश्किलों से भरा हुआ है. घर में बहुत सारे काम होते हैं. उसी दौरान आपको ऑनलाइन क्लास या ई-वेबिनार लेना होता है. सब कुछ साथ-साथ करते-करते दिमाग के साथ शरीर भी थक जाता है.

nps-builders

महिलाओं की पेशवर जिंदगी में बढ़ोतरी पर काम करने वाली संस्था पिंक लैडर की हाल में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक वर्क फ्रॉम होम के चलते 10 में से 4 महिलाएं एंजाइटी और स्ट्रेस का शिकार हो रही हैं. इसी तरह इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट बताती है कि ऐसी महिलाओं के मामले तेजी से बढ़ रहे है जिन्हें डबल बर्डन सिंड्रोम हो रहा है, यानी वो पेशेवर और निजी जिंदगी के बीच बुरी तरह पिस रही हैं और काम को लेकर उनके उत्साह में लगातार गिरावट आ रही है.

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने क्या कहा?

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने भी कहा था कि वर्क फ्रॉम होम के फायदे तो हैं, लेकिन इससे कामकाजी महिलाओं पर तिहरा दबाव बन गया है. मनोरम इयरबुक 2022 में प्रकाशित पत्र यंग इंडियन में उन्होंने कहा है कि महिलाएं पहले से ही भुगतान वाले काम और ऐसा काम जिसका कोई भुगतान नहीं होता (घरेलू काम) के बोझ से दबी हुई हैं. इसके अलावा इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक आभासी वर्कप्लेस के साथ काम करने का एक बड़ा नुकसान डिजिटिल यौनिक शर्मिंदगी की घटनाएं होना, अनुपयुक्त तस्वीरों का साझा होना, अनुपयुक्त कपड़ों में काम करने की घटनाओं में भी बढ़ोतरी देखी गई है.

वर्क फ्रॉम होम का आर्थिक असर

वर्क फ्रॉम होम से एक बड़े तबके को आर्थिक नुकसान भी हुआ है. जैसे कंपनियों में चल रही कैंटीन, कर्मचारियों को छोड़ने-लाने वाली गाड़ियों के ड्राइवर, कंपनी के आगे चाय, नाश्ता और खाना बेचने वाले, रेहड़ी वाले, रिक्शे वाले जो कर्मचारियों को कंपनी से लेकर किसी नियत स्थान तक छोड़ते हैं. इन तमाम अर्ध कुशल कामगारों से काम छिना है. लेखक विवेक कौल लाइव मिंट में लिखते हैं कि वर्क फ्रॉम होम की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था का एक तिहाई हिस्सा जिस असंगठित क्षेत्र से आता है उस पर बुरा असर पड़ा है.

Source : News18

chhotulal-royal-taste

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

JOBS

केंद्रीय विद्यालयों में 13 हजार पदों पर बंपर बहाली

Published

on

By

केंद्रीय विद्यालयों में 13 हजार से अधिक पदों के लिए बंपर बहाली का नोटिफिकेशन निकला हैं। जिसमें सीटेट पास बीएड-डीएलएड अभ्यर्थियों की छह हजार से अधिक पदों पर बहाली हो सकेगी।

केंद्रीय विद्यालय संगठन ने टीचिंग व नॉन टीचिंग मिलाकर कुल 13404 पदों पर बहाली के लिए गाइडलाइन जारी किया हैं। जिनमें अभ्यर्थी अलग अलग पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं। इन पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन करने की शुरुआत पांच दिसंबर से होगी। जबकि आवेदन की अंतिम तिथि 26 दिसंबर तय की गई है। सामान्य, ओबीसी और ईडब्ल्यूएस वर्ग के लिए आवेदन शुल्क 1000 रुपये रखा गया है। जबकि अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और एक्स सर्विसमैन को आवेदन शुल्क का भुगतान नहीं करना पड़ेगा। अभ्यर्थी आवेदन शुल्क का भुगतान ऑनलाइन माध्यम से कर सकते हैं।

बहाली के विभिन्न पद

प्राथमिक शिक्षक (पीआरटी) 6414 पद

प्राथमिक शिक्षक (म्यूजिक ) 303 पद

असिस्टेंट कमिश्नर 52 पद

प्राचार्य 239 पद

उप प्राचार्य 203 पद

पोस्ट ग्रेजुएट टीचर (पीजीटी) 1409 पद

ट्रेंड ग्रेजुएट टीचर (टीजीटी) 3176 पद

लाइब्रेरियन 355 पद

फाइनेंस ऑफिसर 06 पद

एसिटेंट इंजीनियर 02 पद

असिस्टेंट सेक्शन ऑफिसर 156 पद

हिंदी ट्रांसलेटर 11 पद

सीनियर सेक्रेटेरिएट असिस्टेंट 322 पद

जूनियर सेक्रेटेरिएट असिस्टेंट 702 पद

स्टेनोग्राफर ग्रेड 254 पद

केंद्रीय विद्यालय संगठन भर्ती के लिए अभ्यर्थियों की परीक्षा लेगा। चयन का आधार लिखित परीक्षा,स्किल टेस्ट, इंटरव्यू, डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन और मेडिकल जांच होगी। अधिक जानकारी के लिए केवीएस के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर चेक कर सकते हैं।

Check Official Notification Here

nps-builders

RAMKRISHNA-MOTORS-IN-MUZAFFARPUR-CHAKIA-RAXUAL-MARUTI-

Genius-Classes

Continue Reading

BIHAR

बिहार पुलिस में अगले माह से शुरू होगी बहाली की प्रक्रिया

Published

on

बिहार पुलिस में जल्द नई बहाली होगी। पुलिस मुख्यालय ने दारोगा, सिपाही समेत अन्य पदों पर बहाली को लेकर दिशा-निर्देश जारी किया। फील्ड के अफसरों से 30 नवम्बर के बाद रिक्तियां भेजने को कहा गया है। एडीजी मुख्यालय जेएस गंगवार ने मंगलवार को क्षेत्रीय पदाधिकारियों और जिलों के एसएसपी-एसपी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में इस बाबत कार्रवाई के निर्देश दिए।

निर्देश के तहत 30 नवम्बर के बाद पुरानी और नई नियुक्तियों का आंकड़ा मुख्यालय को भेजने कहा गया। कहा कि 10459 सिपाही और दारोगा में अबतक कुछ चयनित अभ्यर्थियों ने योगदान नहीं किया है। इसके लिए एक विज्ञापन प्रकाशित करते हुए उन्हें 30 नवम्बर तक योगदान देना सुनिश्चित करने को कहा जाए। इसके बाद भी यदि कोई योगदान नहीं देता है तो उसकी नियुक्ति रद्द कर दी जाएगी। इसके बाद रिक्तियों का आंकड़ा मुख्यालय को भेजा जाए।

पुलिस की छवि खराब करनेवाले नपेंगे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान डीजीपी एसके सिंघल ने वैसे पुलिसकर्मियों पर सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया, जो पुलिस की छवि खराब करते हैं। उन्होंने वरीय पुलिस अफसरों को निर्देश दिया कि ऐसे नकारात्मक तत्वों की पहचान कर उनके विरुद्ध एक ग्रुप के रूप में कार्रवाई करें। कहा कि नकारात्मक कार्य करनेवालों से न सिर्फ आमजन प्रभावित होते हैं बल्कि पुलिस की छवि को भी नुकसान होता है। कहा कि पुलिस सेवा में हर कदम पर जोखिम है। हम इसे नजरअंदाज नहीं कर सकते। समाज के हित के लिए जोखिम लेना होगा। उन्होंने मानवीय संवेदनाओं को प्रधानता देने की भी बात कही।

RAMKRISHNA-MOTORS-IN-MUZAFFARPUR-CHAKIA-RAXUAL-MARUTI-

जापान की प्रगति का कारण दूसरे के हितों को प्रधानता देना डीजीपी सिंघल ने इस दौरान जापान का उदाहरण देते हुए कहा कि वहां के लोग व्यक्तिगत के बजाए दूसरे के हितों को प्रधानता देते हैं। यही वजह है कि वहां प्रगति और समृद्धि आई है। वीसी के दौरान एडीजी जितेन्द्र कुमार, आर मल्लर विझी, सुनील कुमार, आईजी विनय कुमार और डीआईजी दलजीत सिंह द्वारा भी विभिन्न मुद्दों पर फील्ड के अफसरों को दिशा-निर्देश दिए।

Source : Hindustan

nps-builders

Genius-Classes

Continue Reading

JOBS

‎आईटीबीपी में कांस्टेबल के पदों पर आवेदन शुरू, 10वीं पास करें अप्लाई

Published

on

भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल (ITBP) कांस्टेबल (पायनियर) के पद पर भर्ती के लिए आज से ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया शुरू करेगा. इच्छुक उम्मीदवार 17 सितंबर तक आधिकारिक वेबसाइट recruitment.itbpolice.nic.in पर रिक्तियों के लिए आवेदन कर सकते हैं.

ITBP भर्ती अभियान का उद्देश्य 56 कांस्टेबल (बढ़ई), 31 कांस्टेबल (मेसन) और 21 कांस्टेबल (प्लम्बर) सहित कुल 108 वैकेंसी को भरना है. अधिसूचना आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध है.

एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया

आयु सीमा: 17 सितंबर 2022 तक 18-30 वर्ष.

शैक्षिक योग्यता: कक्षा 10 (मैट्रिक) पास और संबंधित ट्रेड (मेसन, कारपेंटर या प्लंबर) में आईटीआई से एक साल का सर्टिफिकेट कोर्स.

चयन प्रक्रिया

चयन प्रक्रिया में शामिल होंगे-

चरण 1- पीईटी / पीएसटी,

चरण 2- लिखित परीक्षा,

चरण 3- व्यापार परीक्षण और

चरण 4- दस्तावेज़ सत्यापन और चिकित्सा परीक्षा.

आवेदन शुल्क

यूआर / ओबीसी / ईडब्ल्यूएस श्रेणी से संबंधित पुरुष उम्मीदवारों को 100 रुपये का शुल्क देना आवश्यक है. एससी / एसटी / महिला और पूर्व सैनिकों से संबंधित उम्मीदवारों को शुल्क का भुगतान करने से छूट दी गई है.

ITBP कांस्टेबल भर्ती 2022 के लिए आवेदन के स्टेप्स

-recruitment.itbpolice.nic.in पर आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं.

-‘NEW USER REGISTRATION’ पर जाएं और पोर्टल पर पंजीकरण करें.

-क्रेडेंशियल्स का उपयोग करके लॉगिन करें और आवेदन करें.

-आवेदन भरें, दस्तावेज अपलोड करें, शुल्क का भुगतान करें और जमा करें.

-फॉर्म डाउनलोड करें और प्रिंटआउट लें.

Source : News18

nps-builders

Genius-Classes

Continue Reading
BIHAR10 mins ago

आर्केस्ट्रा गर्ल का वीडियो हुआ वायरल… कहा-लड़की गलत नही होती बना दी जाती हैं.. सबने धोखा दिया

BIHAR4 hours ago

17 जिलों के हवाई अड्डे होंगे अतिक्रमण मुक्त, जल्द शुरू होगा हवाई अड्डे का मापी

MUZAFFARPUR6 hours ago

मुजफ्फरपुर : डॉ. रविकांत को मिला ट्रू लीजेंड पुरस्कार

INDIA6 hours ago

निर्देश : ट्रेन के सफर में जरूरत पर दवा मिलेगी

BIHAR7 hours ago

कलयुग के श्रवण कुमार की खूब हो रही चर्चा, पिता के निधन के बाद बनाई मंदिर,11 सालों से कर रहा पूजा

BUSINESS21 hours ago

घर में कितना रख सकते हैं कैश, जानिए क्या हैं इनकम टैक्स के नियम

INDIA1 day ago

पुलिस की ‘जानलेवा’ करतूत: सब्जी वाले का तराजू रेलवे ट्रैक पर फेंका, उठाने गया तो कट गए दोनों पैर

crime-news-muzaffarpur-now-india-bihar
MUZAFFARPUR1 day ago

मुजफ्फरपुर के सिविल इंजीनियर की सुंदरगढ़ में हुई हत्या

BIHAR2 days ago

बिहार बोर्ड: 11 वीं में दाखिले के लिए 15 दिसंबर तक बढ़ी रजिस्ट्रेशन की डेट

MANTRA2 days ago

नए साल से पहले घर में जरूर ले आएं ये 7 चीजें, होगी बरकत ही बरकत

TRENDING4 weeks ago

प्यार की खातिर टीचर मीरा बनी आरव, जेंडर बदल कर स्कूल स्टूडेंट कल्पना से रचाई शादी

MUZAFFARPUR4 weeks ago

इंतजार की घड़ी खत्म: 12 साल पहले बना सिटी पार्क 15 नवंबर से पब्लिक के लिए खुलेगा

TRENDING4 weeks ago

गेयर बदलने के स्टाइल पर हो गई फिदा, करोड़पति महिला ने ड्राइवर से ही रचा ली शादी

INDIA3 weeks ago

गर्लफ्रेंड शादी करना चाहती थी, प्रेमी ने उसके 35 टुकड़े किए, कई दिन फ्रिज में रखा

SPORTS3 weeks ago

खुशखबरी! टी20 वर्ल्ड कप में हार के बाद भारतीय टीम में फिर होगी धोनी की वापसी

ENTERTAINMENT3 weeks ago

‘कसौटी जिंदगी की’ एक्टर सिद्धांत वीर सूर्यवंशी का जिम में वर्कआउट करते वक्त निधन

MUZAFFARPUR4 weeks ago

सोनपुर मेले में भारी भीड़ को देखते हुए आज और कल मुजफ्फरपुर से चलेगी स्पेशल ट्रेनें

OMG4 weeks ago

पाकिस्तानी एक्ट्रेस सेहर शिनवारी का जिम्बाब्वे को ऑफर, इंडिया को हराया तो तुमसे करूंगी शादी

BIHAR3 weeks ago

भोजपुरी एक्ट्र्रेस अक्षरा सिंह की बढ़ीं मुश्किलें, पटना के घर पर पुलिस ने चिपकाया इश्तेहार

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर शहर के बैंड-बाजा कलाकार लग्न में नहीं बजाएंगे अश्लील व फूहड़ गाने

Trending